loader

सुधा भारद्वाज की ज़मानत के ख़िलाफ़ एनआईए की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

राष्ट्रीय जाँच एजेन्सी (एनआईए) को उस समय ज़ोरदार झटका लगा जब सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को भीमा कोरेगाँव हिंसा-यलगार परिषद मामले में सुधार भारद्वाज की ज़मानत के ख़िलाफ़ इसकी याचिका को खारिज कर दिया। 

यू. यू. ललित, रविंद्र भट्ट व बेला त्रिवेदी के खंड पीठ ने कहा कि उसे इस मामले में बंबई हाई कोर्ट के फ़ैसले में हस्तक्षेप करने की कोई वजह नहीं दिख रही है। 

याद दिला दें कि बंबई हाई कोर्ट ने 1 दिसंबर को सुधा भारद्वाज को ज़मानत दे दी थी। अदालत ने जम़ानत इस आधार पर दी थी कि यूएपीए के तहत हिरासत उस सेशन कोर्ट ने बढ़ाई थी, जो इसके लिए अधिकृत नहीं था। 
ख़ास ख़बरें

डिफ़ॉल्ट ज़मानत

सुधा भारद्वाज को डिफ़ॉल्ट ज़मानत मिली थी। यानी एनआईए क़ानून से तय समय के अंदर सुधा भारद्वाज के खिलाफ़ आरोपपत्र दाख़िल नहीं कर पाई थी।

बता दें कि सुधा भारद्वाज को 28 अगस्त 2018 को भीमा कोरेगाँव हिंसा मामले में गिरफ़्तार किया गया था। उन पर माओवादियों की मदद करने का आरोप लगाया गया था। वे उस समय से ही यानी लगभग तीन साल से जेल में हैं।

2018 के भीमा कोरेगाँव हिंसा मामले में सुधा भारद्वाज के अलावा वरवर राव, सोमा सेन, सुधीर धावले, रोना विल्सन, एडवोकेट सुरेंद्र गाडलिंग, महेश राउत, वरनॉन गोंजाल्विस और अरुण फ़रेरा की भी गिरफ़्तार किया गया था। लेकिन अदालत ने   सुधा भारद्वाज के अलावा अन्य लोगों की ज़मानत ख़ारिज कर दी।

supreme court rejects NIA plea against sudha bhardwaj bail in bheema koragaon case - Satya Hindi

क्या है भीमा कोरेगाँव का मामला?

हर साल जब 1 जनवरी को दलित समुदाय के लोग भीमा कोरेगाँव में जमा होते हैं, वे वहाँ बनाए गए 'विजय स्तम्भ' के सामने अपना सम्मान प्रकट करते हैं। वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि 1818 में भीमा कोरेगाँव युद्ध में शामिल ईस्ट इंडिया कंपनी से जुड़ी टुकड़ी में ज़्यादातर महार समुदाय के लोग थे, जिन्हें अछूत माना जाता था। यह ‘विजय स्तम्भ’ ईस्ट इंडिया कंपनी ने उस युद्ध में शामिल होने वाले लोगों की याद में बनाया था जिसमें कंपनी के सैनिक मारे गए थे।

 2018 में 200वीं वर्षगाँठ थी इस कारण बड़ी संख्या में लोग जुटे थे। इस सम्बन्ध में शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान के अध्यक्ष संभाजी भिडे और समस्त हिंदू अघाड़ी के मिलिंद एकबोटे पर आरोप लगे कि उन्होंने मराठा समाज को भड़काया, जिसकी वजह से यह हिंसा हुई। लेकिन इस बीच हिंसा भड़काने के आरोप में पहले तो बड़ी संख्या में दलितों को गिरफ़्तार किया गया और बाद में 28 अगस्त, 2018 को सामाजिक कार्यकर्ताओं को। यह विवाद अभी भी जारी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें