loader

सुशांत के पिता बोले- वह मेरे बेटे को जहर दे रही थी; रिया के वकील बोले- टेस्ट करा लो

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में अब नया मोड़ आ गया है। रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ़ की जा रही पुलिस जाँच के बीच अब इस पूरे मामले में ड्रग्स के एंगल का विवाद शुरू हो गया है। प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी द्वारा ड्रग्स के सबूत मिलने की बात कहे जाने के बाद सुशांत के पिता ने अब सीधे-सीधे रिया चक्रवर्ती पर यह आरोप लगा दिया है कि उसने हत्या की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि 'वह मेरे बेटे को जहर दे रही थी'। इस पर रिया चक्रवर्ती के वकील ने रिया के ड्रग्स से लिंक के आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि ब्लड टेस्ट करा लिया जाए।

सुशांत का यह मामला जब से आया है तब से ही काफ़ी उलझा हुआ है। अलग-अलग स्तर पर जाँच चल रही है। दो अलग-अलग राज्यों की पुलिस की शुरुआती जाँच के बाद जब विवाद हो गया तो यह पूरा मामला सीबीआई के हवाले कर दिया गया। हालाँकि इसमें एक और एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी भी मनी लाउंड्रिंग मामले की जाँच कर रही है। इसी जाँच के दौरान ईडी को ड्रग्स के सबूत मिले तो नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी भी जाँच में जुट गई। यानी फ़िलहाल तीन एजेंसियाँ सुशांत सिंह मौत मामले में जाँच कर रही हैं। 

ताज़ा ख़बरें

इस मामले में नया मोड़ तब आया जब ड्रग्स के एंगल की बात सामने आई। इसी को लेकर सुशांत के पिता के के सिंह ने 'एएनआई' से कहा, 'रिया चक्रवर्ती मेरे बेटे सुशांत को लंबे समय से जहर दे रही थी, वह उसका क़ातिल है। जाँच एजेंसी को उसे और उसके सहयोगियों को गिरफ्तार करना होगा।' हालाँकि इस बयान में सुशांत के पिता ने ड्रग्स जैसे शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। लेकिन नारकोटिक्स ब्यूरो के जाँच में जुटने के बाद मीडिया में रिया चक्रवर्ती को लेकर सवाल उठाए जाने लगे। हालाँकि किसी एजेंसी ने अभी तक यह साफ़ नहीं किया है कि ड्रग्स का इस केस में किस तरह का संबंध है।

'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, ड्रग्स के मामले में रिया चक्रवर्ती पर सवाल उठने के बाद उनके वकील सतीश मानेशिंदे ने कहा, 'रिया ने कभी भी अपने जीवन में ड्रग्स नहीं लिया है। वह ख़ून की जाँच के लिए तैयार है।' बहरहाल, ईडी की जाँच के मामले में रिया के वकील ने कहा कि सभी आरोप रिया को फँसाने के उद्देश्य से गढ़े गए हैं।

बता दें कि सुशांत सिंह के पिता के के सिंह ने सुशांत की मौत मामले में रिया के ख़िलाफ़ केस दर्ज कराया था। उन्होंने पटना पुलिस में रिया चक्रवर्ती, उनके पिता इंद्रजीत चक्रवर्ती, मां संध्या चक्रवर्ती, भाई सौविक चक्रवर्ती, श्रुति मोदी समेत कुल छह लोगों के ख़िलाफ़ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज करवाया। 

सुशांत के पिता ने एफ़आईआर में आरोप लगाया है कि रिया चक्रवर्ती ने उनके बेटे के बैंक खाते से 15 करोड़ रुपये अवैध तरीक़े से अपने खाते में ट्रांसफ़र करा लिए और उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया।

रिया के वकील ने कहा कि आत्महत्या के लिए उकसाने से लेकर फंड ट्रांसफ़र और दूसरे सभी आरोप ग़लत हैं। मानेशिंदे ने कहा, 'मुंबई पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय दोनों को रिया के सभी वित्तीय दस्तावेज सौंप दिए गए हैं, जो स्पष्ट रूप से ऐसे आरोपों को झूठ साबित करते हैं। सुशांत के खातों से उसे एक भी ट्रांसफ़र नहीं किया गया है। उसके सभी आयकर रिटर्न की जाँच पुलिस के साथ-साथ ईडी ने भी की है। दोनों में से किसी ने भी रिया के ख़िलाफ़ कुछ नहीं पाया।'

देश से और ख़बरें

कई आरोपों का सामना कर रही रिया के मीडिया में दिए इंटरव्यू को लेकर भी सुशांत सिंह के परिवार की ओर से आपत्ति की गई है। सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने रिया की गिरफ़्तारी की माँग की है। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट में आरोप लगाया कि वह पब्लिसिटी स्टंट कर रही और उसे तुरंत गिरफ़्तार किया जाए। श्वेता सिंह ने ट्वीट में लिखा, 'भारत सरकार को यह देखने की ज़रूरत है कि एक मुख्य आरोपी को इंटरव्यू देने और पब्लिसिटी स्टंट करने के लिए नहीं घूमने देना चाहिए!!!'

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की 14 जून को मौत हो गई थी। मुंबई पुलिस ने इसे शुरुआती जाँच के बाद आत्महत्या बताया था। लेकिन बाद में सुशांत के पिता ने पटना में आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कराया था। इस मामले ने तब तूल पकड़ा जब बिहार में चुनाव से पहले राजनीतिक दलों ने इस मुद्दे को लपका और सीबीआई जाँच की माँग होने लगी। बिहार और मुंबई पुलिस के बीच विवाद होने के बाद मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुँचा और आख़िरकार कोर्ट ने इस मामले को सीबीआई को सौंप दिया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें