loader

दोनों देश पैंगोंग त्सो से सैनिकों को हटाने पर राजी: राजनाथ सिंह 

चीनी रक्षा मंत्रालय की ओर से यह दावा किए जाने के बाद कि भारत और चीन ने पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से अपने-अपने सैनिकों को वापस बुलाना शुरू कर दिया है, इस पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरूवार को संसद में बयान दिया है। 

राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों पक्ष अपनी सेनाओं की ओर से की जा रही गतिविधियों को स्थगित रखेंगे और पिछले साल के गतिरोध से पहले वाली स्थिति बहाल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि चीन के साथ कई दौर की वार्ता के बाद भारत ने कुछ नहीं खोया है और कई मुद्दों पर अभी वार्ता की जानी है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हैं कि दोनों ओर से सैनिकों को हटा लिया जाए। 

ताज़ा ख़बरें

रक्षा मंत्री ने कहा, “हमारी सेनाओं ने यह साबित करके दिखाया है कि वे भारत की एकता, अखंडता की रक्षा करने में सक्षम हैं। इस बात पर भी सहमति हो गयी है पैंगोग लेक से सेनाओं को हटाने के 48 घंटों के भीतर दोनों देशों की सेनाओं के सीनियर कमांडर्स के बीच बैठक हो और बाकी बचे मुद्दों का हल निकाला जाए।” 

उन्होंने कहा, “चीन के साथ जो समझौता हुआ है उसके मुताबिक़ दोनों देश फ़ॉरवर्ड डिप्लायमेंट को हटाएंगे। जो भी निर्माण आदि अप्रैल, 2020 के बाद से पैंगोंग त्सो के नार्थ और साउथ ब्लॉक में हुआ है, उन्हें हटाया जाएगा।”

देश से और ख़बरें

चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था कि भारत और चीन की सेनाओं के बीच कमांडर स्तर की नौवीं दौर की बातचीत में हुई सहमति के अनुसार यह क़दम उठाया जा रहा है। यह बातचीत चुशुल-मोल्दो के पास वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी एलएसी के पार चीनी इलाक़े में हुई थी। दोनों सेनाओं के बीच 15 घंटे की बातचीत में यह तय हुआ था कि सैनिकों को सिलसिलेवार ढंग से वापस बुला लिया जाए। 

इसके पहले भी चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी के वरिष्ठ अधिकारी बातचीत में अपने सैनिकों को वापस बुलाने पर राजी हो गए थे, लेकिन इस पर अमल नहीं हुआ था। 

पैंगोंग त्सो, गलवान घाटी समेत पूरी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों ने अपने-अपने लगभग 40 हज़ार सैनिक तैनात कर रखे हैं। बीते महीने दोनों देशों ने अपने-अपने 10 हज़ार सैनिकों को वापस बुला लिया था। लेकिन ये अग्रिम पंक्ति के सैनिक नहीं थे, यानी एलएसी पर दोनों देशों के सैनिक पहले की तरह ही आमने-सामने खड़े थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें