loader
फ़ोटो साभार: तनिष्क विज्ञापन/वीडियो ग्रैब

तनिष्क को अब दीवाली वाला विज्ञापन क्यों हटाना पड़ा?

तनिष्क का एक विज्ञापन फिर विवादों में है। वह विज्ञापन दीवाली को लेकर है। इस वीडियो विज्ञापन में पटाखे नहीं जलाने और प्यार और पॉजिटिविटी से इस त्योहार को मनाने की बात कहते सुना जा सकता है। यही बात कुछ लोगों को चुभ गई और सोशल मीडिया पर पटाखे नहीं जलाने की बात का बतंगड़ बना दिया गया। यह दावा किया जा रहा है कि कोई यह कैसे बताएगा कि हिंदू उत्सव कैसे मनाएँ। तनिष्क को ट्विटर से उस को विज्ञापन हटाना पड़ा। हालाँकि कंपनी ने इस बारे में कोई आधिकारिक बयान नहीं जारी किया है। वैसे, हाल के दिनों में इस कंपनी का यह दूसरा विज्ञापन है जब दक्षिण पंथियों ने निशाना बनाया और कंपनी को उस विज्ञापन को हटाना पड़ा। इससे पहले 'एकत्वम' विज्ञापन को हिंदू-मुसलिम वाला और 'लव जिहाद' को बढ़ावा देने वाला कहकर निशाना बनाया गया था। 

माना जाता है कि उस पहले विज्ञापन के विरोध का ही असर है कि अब उसके इस दीवाली वाले विज्ञापन को भी निशाना बनाया जा रहा है।

सम्बंधित ख़बरें

तनिष्क दीवाली पर कई वीडियो विज्ञापन जारी किए हैं। इसमें से एक में पटाखे का ज़िक्र है। इस विज्ञापन के साथ तनिष्क ने ट्वीट किया था, 'इस दीवाली, आइए हम साथ जुड़ें और जो दिल के सबसे क़रीब है उसके साथ उत्सव मनाएँ; क्योंकि यह एकत्वम यानी एकता की सुंदरता को प्रतिबिंबित करता है।' 

तनिष्क के इस विज्ञापन को भी दक्षिणपंथियों ने लपक लिया है। उनकी आपत्ति इस बात पर है कि दीवाली पर पटाखे नहीं फोड़ने की बात कैसे कह दी। बहरहाल, हाल के वर्षों में डॉक्टरों से लेकर पर्यावरणविदों तक दीवाली पर पटाखे नहीं फोड़े जाने की अपील लगातार करते रहे हैं। अब तो कई सरकारें दीवाली पर पटाखे जलाने को ही प्रतिबंधित कर रही हैं। यह इसलिए कि शहर पहले से ही प्रदूषण के आगोश में लिपटे हुए हैं। कई शहरों में साँस लेना भी दूभर होता है और मरीज़ों की तो जान पर बन आती है। दीवाली के बाद प्रदूषण इतना ज़्यादा बढ़ जाता है कि यह जानलेवा हो जाता है। यही कारण है कि दिल्ली सरकार ने तो इस साल पटाखे पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिए हैं। 

कुछ ऐसी ही अच्छी की गूँज तनिष्क के विज्ञापन में भी सुनाई देती है। उसमें सिर्फ़ यही कहा जाता है, '... निश्चित रूप से कोई पटाखे नहीं और मुझे नहीं लगता कि किसी को भी पटाखे जलाने चाहिए...'। इसके बाद विज्ञापन में शालीनता से, प्यार से, मिठाइयों का लुत्फ़ उठाकर त्योहार मनाने की बात कही जाती है। 

विज्ञापन में एक तरह से प्रदूषण कम करने का संदेश है। उसमें शालीनता का संदेश है। लेकिन कुछ लोगों को इस विज्ञापन में हिंदुओं के त्योहार में 'दखल' दिखाई दे दिया।

तनिष्क के इस विज्ञापन को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने भी सवाल उठाया और इसे हिंदू धर्म से जोड़ा। उन्होंने ट्वीट किया, 'किसी को हिंदुओं को सलाह क्यों देनी चाहिए कि हम अपने त्योहारों को कैसे मनाएँ?

कंपनियों को अपने उत्पादों को बेचने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, न कि हमें पटाखे फोड़ने से बचने पर व्याख्यान देना चाहिए।

हम दीपक जलाएँगे, मिठाई बाँटेंगे और हरे पटाखे फोड़ेंगे। कृपया हमसे जुड़ें। आप एकत्वम को समझेंगे।'

इस विज्ञापन के बाद फिर से तनिष्क के बहिष्कार का अभियान छेड़ दिया गया है। ट्विटर पर 'हिंदू पब्लिशर यू-ट्यूबर' नाम के हैंडल से इसको लेकर ट्वीट किया गया। 

सेपियामैनिएक नाम के यूज़र ने लिखा, 'आख़िरी सलाह: यदि आप बिक्री के लिए एक त्योहार पर नज़र गड़ाए हुए हैं तो आप उपदेश की हिम्मत न ही करें। हिंदू यहाँ आपके उपदेशात्मक भाषणों को सुनने के लिए नहीं हैं। अपने ग्राहकों के प्रति ईमानदार रहें। वे आपकी रचनात्मक टीम की तुलना में अधिक स्मार्ट हैं, जो त्योहारों और उनके महत्व से अनभिज्ञ हैं।'

वैदेही नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया है, 'प्रिय तनिष्क ज्वैलरी, आपकी विज्ञापन टीम ने धन्यवाद के लिए दीवाली को ग़लत समझा है।

दीवाली गहने खरीदने, परिवार के साथ समय बिताने और अच्छा खाना खाने के बारे में नहीं है।

यह बुराई पर अच्छाई की जीत के बारे में है।

यह धर्म के बारे में है।'

बता दें कि पिछले महीने ही तनिष्क का एक और विज्ञापन विवादों में आ गया था और दक्षिणपंथियों ने तनिष्क का बहिष्कार कर दिया था। उस विज्ञापन का नाम 'एकत्वम' था। 45 सेकंड की वह विज्ञापन फ़िल्म दो अलग-अलग धर्मावलंबियों के बीच शादी पर आधारित थी। इस विज्ञापन में देखा जा सकता था कि एक मुसलिम परिवार अपनी पुत्रवधू के लिए परंपरागत हिंदू रीति रिवाज वाले कार्यक्रम की तैयारी कर रहा था। वह गोदभराई की रस्म थी। 

उस वीडियो में भरा-पूरा मुसलिम परिवार दिखता है। बगीचा है, दीपमालाएँ हैं और नटराज की प्रतिमा भी है। वीडियो के अंत में वह महिला अपनी सास से पूछती है, 'ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?' इस पर उसकी सास उसे जवाब देती है, 'पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?' इसके बाद विज्ञापन में संदेश दिया गया है- 'एक जो हुए हम, तो क्या ना कर जाएँगे।' यानी इसमें एकता की बात की गई है।

वीडियो में देखिए, ट्रोलिंग से डर गई टाटा की कंपनी तनिष्क?
12 अक्टूबर को ट्विटर पर उस विज्ञापन के ख़िलाफ़ BoycottTanishq हैशटैग ट्रेंड करने लगा था। कोई इसे 'लव जिहाद’ को बढ़ावा देने वाला बता रहा था, तो कोई एंटी- हिंदू। इसके बाद इस वीडियो विज्ञापन को तनिष्क के आधिकारिक यूट्यूब चैनल, फ़ेसबुक चैनल से हटा लिया गया था। बाद में तनिष्क की ओर से माफ़ी माँगी गई थी। हालाँकि तब कई लोगों ने यह सवाल उठाया था कि क्या तनिष्क को इस तरह के कुतर्क के सामने झुकना चाहिए। यह सवाल फिर से तनिष्क के ही इस ताज़ा विज्ञापन को लेकर भी उठाए जा रहे हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें