loader

चीन के साथ तनाव बढ़ा तो पाकिस्तान ने भी किए ज़्यादा युद्धविराम उल्लंघन

एक तरफ जहाँ चीन के साथ लगने वाली सीमा पर तनाव चल रहा है और भारतीय सेना अपने सैनिक और साजो-सामान वहाँ पहुँचाने और रणनीति बनाने में मशगूल है, दूसरी तरफ पाकिस्तान सीमा पर भी हलचल तेज़ हो गई है।

क्यों बढ़ा युद्धविराम उल्लंघन?

सिर्फ जून महीने में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान ने 302 बार युद्धविराम का उल्लंघन किया है। उसने इसके पहले यानी मई में 382 बार युद्धविराम को तोड़ा है।
यह इसलिए महत्वपूर्ण है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अप्रैल में चीनी सेना भारतीय इलाक़े में अंदर तक घुस आई थी और भारतीय सैनिकों के बिल्कुल सामने आ कर तन गई थी। इसके बाद मई और जून में उसने बड़े पैमाने पर सैनिकों को वहां तैनात किया और भारी युद्ध उपकरण व साजो सामान जमा कर लिया। उसके बाद भारतीय सेना ने भी वैसा ही किया। 
देश से और खबरें
क्या यह महज संयोग है कि मई-जून में जब वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन ने सैनिक जमावड़ा कर लिया, नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान ने भी युद्धविराम उल्लंघन की वारदात और गोलाबारी बढ़ा दी?

ज़्यादा मुठभेड़

लेकिन बात यहीं नहीं रुकती है। इसके अलावा इस दौरान जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियाँ भी बढ़ गईं। लेकिन इस दौरान भारतीय सुरक्षा बलों ने इन आतंकवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाइयों में तेज़ी की, अधिक मुठभेड़ें हुईं और ज़्यादा आतंकवादी मारे गए। 
इसे इससे समझा जा सकता है कि सिर्फ जून महीने में ही कश्मीर घाटी में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ों में 41 आतंकवादी मारे गए। 
चिनार कोर कमांडर लेफ़्टीनेंट जनरल बी. एस. राजू ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 

'लगातार युद्धविराम उल्लंघन की एक ही वजह है, पाकिस्तान कश्मीर घाटी में स्थिति खराब करने के लिए आतंकवादी भेजने की कोशिश करता है और वह उन्हें मदद करने के लिए गोलाबारी करता है।'


लेफ़्टीनेंट जनरल बी. एस. राजू, कमांडर, चिनार कोर

पाक सेना का मंसूबा

दरअसल होता यह है कि पाकिस्तान युद्धविराम का उल्लंघन करते हुए गोलाबारी करता है जो घुसपैठ की घात लगाए आतंकवादियों के लिए एक तरह का कवर फ़ायर होता है। वे इस गोलाबारी के मौके का फ़ायदा उठा कर नियंत्रण रेखा पार कर भारतीय सीमा में घुस जाते हैं।
भारतीय सुरक्षा बलों ने नियंत्रण रेखा पर चौकसी बढ़ाने के अलावा घाटी में भी आतंकवाद-विरोधी ऑपरेशन बढ़ा दिए हैं। मोबाइल फ़ोन पर रोक लगाने के बाद आतंकवादियों को सूचना मिलना बंद हो गया, जिससे उन्हें अपने कामकाज में दिक्क़त होती है। 

सुरक्षा बल सक्रिय

आधिकारिक आँकड़ों के अनुसार, इस साल 25 जून तक 119 आतंकवादी मारे गए हैं। इसके पहले साल 2018 में 254 तो साल 2017 में 213 आतंकवादी मारे गए थे। 

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड के सदस्य लेफ़्टीनेंट जनरल (रिटायर्ड) सुब्रत साहा ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'कश्मीर में सुरक्षा बल पहले से अधिक सक्रिय हैं क्योंकि चीन के साथ लगने वाली वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव है।'

सुब्रत साहा इसके पहले चिनार कोर कमांडर रह चुके हैं। 

उन्होंने कहा कि कश्मीर घाटी में सुरक्षा बलों की सक्रियता बढ़ने और आतंकवादियों पर दबाव बढ़ने की वजह से पाकिस्तान में उन्हें नियंत्रित करने वाले लोग अधिक संख्या में आतंकवादी यहां भेजना चाहते हैं। 
लेकिन सुरक्षा मामलों के जानकारों ने यह भी कहा है कि मौजूदा स्थिति को चीन और पाकिस्तान के साथ दोतरफा युद्ध के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। 
थल सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे ने मनोहर पर्रिकर इंस्टीच्यूट ऑफ़ डिफ़ेन्स स्टडीज़ एंड एनलिसिस में कहा था कि दो मोर्चों पर युद्ध की संभावना है और हर संभावना के प्रति सचेत रहना चाहिए। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें