loader

कांवड़ यात्रा के रास्तों पर कड़ी सुरक्षा, कई बड़े कारोबार हुए ठप

कांवड़ यात्रा के रास्ते में पड़ने वाली शराब और मांस की दुकानों को यूपी, हरियाणा, दिल्ली और उत्तराखंड में बंद करा दिया गया है। कोरोना की वजह से कांवड़ यात्रा दो वर्षों बाद शुरू हुई है, इसलिए इस बार बहुत एहतियात और इंतजाम किए गए हैं। कांवड़ यात्रा गुरुवार से शुरू हुई है।गृह मंत्रालय (एमएचए) ने राज्य सरकारों को कट्टरपंथी तत्वों से खतरे का हवाला देते हुए कांवड़ियों की सुरक्षा कड़ी करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली पुलिस ने कहा है कि कांवड़ यात्रा जिन रास्तों से होकर गुजरेगी, वहां मांस और शराब की दुकानों को बंद करा दिया गया है। दिल्ली पुलिस सोशल मीडिया पर भी नजर रख रही है। उसने कहा है कि किसी भी नफरती पोस्ट पर कार्रवाई की जाएगी। इसी तरह हरियाणा के गुड़गांव, फरीदाबाद, सोनीपत, बहादुरगढ़ और यूपी के नोएडा, गाजियाबाद, लोनी में व्यवस्था की गई है। इन शहरों में कांवड़ यात्रा के अलावा भी मुस्लिम बहुल इलाकों में मांस की दुकानें बंद करने का आदेश दिया गया है। फरीदाबाद, गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद में ऐसी दुकानें 14 जुलाई से बंद हो गई हैं।
ताजा ख़बरें
मांस और शराब की दुकान चलाने वाले कारोबारियों का कहना है कि इससे उन्हें बड़ा नुकसान होने जा रहा है लेकिन आदेश का पालन करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है। करीब 13-14 दिन ऐसी सभी दुकानें बंद रहेंगी।
इस बीच इंटेलिजेंस ब्यूरो की रिपोर्ट के इनपुट के आधार पर गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों के लिए कांवड़ यात्रा के लिए सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाने के लिए एडवाइजरी जारी की है।

रेलवे बोर्ड ने भी खतरे को देखते हुए ट्रेनों की सुरक्षा कड़ी करने के निर्देश दिए हैं। एडवाइजरी के मुताबिक कांवड़ यात्रा के दौरान किसी भी तरह के खतरे से निपटने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाना चाहिए।
कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच गुरुवार को हिंदू महीने श्रावण (सावन) के पहले दिन कांवड़ यात्रा शुरू हुई, जिसमें भगवान शिव के भक्त बड़ी संख्या में गंगा का पानी लेने हरिद्वार पहुंचे।

कोविड-19 महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद कांवड़ यात्रा हो रही है। अधिकारियों का अनुमान है कि करीब एक पखवाड़े तक चलने वाले मेले के दौरान कम से कम चार करोड़ कांवड़िए हरिद्वार और पड़ोसी ऋषिकेश में पवित्र नदी का पानी लेने पहुंचेंगे। यूपी के गढ़ मुक्तेश्वर में भी ऐसी ही स्थिति रहेगी।

उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, पंजाब और राजस्थान सहित कई राज्यों के कांवड़िए हरिद्वार और ऋषिकेश जाते हैं और गंगा का पानी इकट्ठा करते हैं और अपने घर वापस मंदिरों में भगवान शिव को चढ़ाते हैं।

देश से और खबरें
जगह-जगह सुरक्षा के कड़े इंतजाम तमाम शहरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ने की आशंका को देखते हुए सीसीटीवी कैमरों, ड्रोन और सोशल मीडिया के जरिए कड़ी निगरानी रखी जा रही है। मेला क्षेत्र में बम निरोधक दस्ते और आतंकवाद निरोधी दस्ते भी तैनात किए गए हैं।

लगभग 10,000 पुलिस कर्मियों की तैनाती के साथ हरिद्वार और आसपास के क्षेत्रों को 12 सुपर जोन, 31 जोन और 133 सेक्टरों में विभाजित किया गया है। पुलिस ने कहा कि कांवड़ यात्रा मार्गों की भी चौबीसों घंटे निगरानी की जाएगी और किसी भी शिव भक्त को भाले और अन्य हथियारों के साथ शहर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें