loader

बुलडोजर एक्शन: क़ानून के मुताबिक़ ही हो कार्रवाई: SC

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बुलडोजर से की जा रही कार्रवाई के मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा कि निर्माणों को ढहाए जाने की कार्रवाई कानून के मुताबिक ही की जानी चाहिए और वह बदले वाली नहीं होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को 3 दिन का वक्त दिया है। 

इस दौरान उत्तर प्रदेश सरकार को शीर्ष अदालत को यह बताना होगा कि उत्तर प्रदेश में हाल ही में निर्माणों को ध्वस्त करने की जो कार्रवाई हुई है, क्या उसमें पूरी प्रक्रिया और नगरपालिका के कानून का पालन किया गया। अदालत ने अपनी बात को जोर देकर कहा कि कोई भी कार्रवाई कानून के मुताबिक ही होगी।

जस्टिस एएस बोपन्ना और जस्टिस विक्रम नाथ की वैकेशन बेंच जमीयत उलेमा ए हिंद की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। 

ताज़ा ख़बरें

याचिका में मांग की गई थी कि उत्तर प्रदेश सरकार को यह निर्देश दिया जाए कि राज्य में निर्माणों को गिराए जाने की कोई भी कार्रवाई बिना तय प्रक्रिया के ना की जाए। इससे पहले दिल्ली के जहांगीरपुरी में बुलडोजर चलाए जाने के मामले में भी शीर्ष अदालत में याचिका दायर की गई थी। 

तब शीर्ष अदालत ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम को यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था और नोटिस भी जारी किया था। बता दें कि जहांगीरपुरी में भी अप्रैल के महीने में एक धार्मिक जुलूस के दौरान हिंसा हुई थी।

UP government bulldozer action in Supreme Court - Satya Hindi

जावेद का घर गिराया 

बीजेपी के नेताओं नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब पर की गई विवादित टिप्पणियों के बाद उत्तर प्रदेश में कानपुर, प्रयागराज, सहारनपुर सहित कई जगहों पर जोरदार प्रदर्शन हुए थे। प्रयागराज में बीते शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद हुए प्रदर्शन के दौरान पथराव की घटना हुई थी और इसके बाद पुलिस ने इस मामले में आरोपी मोहम्मद जावेद के घर को गिरा दिया था।

उत्तर प्रदेश में इससे पहले भी योगी आदित्यनाथ सरकार कई मामलों में कई आरोपियों के घरों पर बुलडोजर चला चुकी है और इसे लेकर तमाम तरह के सवाल उठते रहे हैं।

UP government bulldozer action in Supreme Court - Satya Hindi

याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए एडवोकेट सीयू सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के द्वारा की गई विवादित टिप्पणियों के बाद हुई हिंसा के मामले में राज्य सरकार हिंसा में कथित रूप से शामिल आरोपियों के घरों को गिराए जाने की कार्रवाई कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस तरह की कार्रवाई कानून और नियमों का पूरी तरह उल्लंघन है। 

इस पर जस्टिस बोपन्ना ने कहा कि निर्माणों को ढहाए जाने की कोई भी कार्रवाई बिना नोटिस दिए नहीं की जा सकती है। जस्टिस बोपन्ना ने कहा कि हमें इस मामले में सचेत रहना चाहिए क्योंकि जिन लोगों के घर गिरा दिए गए हैं वे अदालत का दरवाजा नहीं खटखटा सकेंगे।

उत्तर प्रदेश सरकार ने जमीयत-उलेमा-ए-हिंद की याचिका का विरोध किया। राज्य सरकार की ओर से अदालत में पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि इस मामले में जमीयत-उलेमा-ए-हिंद का कोई आधार ही नहीं है। 

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से पेश हुए सीनियर एडवोकेट हरीश साल्वे ने कहा कि प्रयागराज के मामले में हिंसा से पहले ही मई में नोटिस जारी कर दिया गया था और 25 मई को ध्वस्तीकरण के संबंध में आदेश पास कर दिया गया था। उन्होंने अदालत से इस संबंध में हलफनामा देने के लिए 3 दिन का वक्त मांगा। 

देश से और खबरें

जस्टिस बोपन्ना ने कहा कि हम भी समाज का हिस्सा हैं, हम देख रहे हैं कि क्या हो रहा है, अगर किसी के द्वारा शिकायत किए जाने पर अदालत बचाव में नहीं आती है तो यह ठीक नहीं होगा। याचिकाकर्ताओं ने यह निर्देश देने की मांग अदालत से की थी कि जिन अफसरों ने घरों को गिराए जाने की कार्रवाई की है, ऐसे अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अदालत निर्देश दे। 

अदालत से यह निर्देश देने की मांग भी की गई थी कि उत्तर प्रदेश सरकार को कानपुर में हुई हिंसा के मामले में शामिल आरोपियों की रिहायशी या कॉमर्शियल संपत्तियों पर किसी भी तरह की कार्रवाई करने से रोका जाए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें