loader

अमेरिका : भारत पर चीनी आक्रमण से चिंतित, बीजिंग कूटनीति से सुलझाए मामला

भारत और चीन के बीच बढ़ रहे तनाव में अमेरिका की दिलचस्पी बढ़ती ही जा रही है। वह कभी मध्यस्थता की पेशकश करता है तो कभी चीन को कूटनीतिक तौर तरीकों का सम्मान करने की हिदायत देता है तो कभी भारत पर 'आक्रामक' होने के लिए चीन की निंदा करता है।
अंतरराष्ट्रीय कूटनीति के हिसाब से बेहद अहम घटनाक्रम में अमेरिका ने भारत में 'चीनी आक्रमण' पर चिंता जताई है और चीन से आग्रह किया है कि वह सीमा के सवाल को सुलझाने के लिए 'मौजूदा कूटनीतिक माध्यमों का सम्मान करे।'
देश से और खबरें

'चीनी आक्रमण'

अमेरिकी संसद हाउस ऑफ़ रीप्रेजेन्टेटिव्स के विदेशी मामलों की समिति के प्रमुख इलियट एंजेल ने कहा, 'मैं वास्तविक नियंत्रण रेखा पर फ़िलहाल चल रहे चीनी आक्रमण से बेहद चिंतित हूं। चीन यह साफ़ कर देना चाहता है कि वह अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर समस्या को निपटाने के बजाय अपने पड़ोसी को डराना चाहता है।'
याद दिला दें कि उत्तराखंड और लद्दाख के इलाक़ों में वास्तविक नियंत्रण रेखा के आर-पार चीन और उसके बाद भारत ने अपने सैनिकों की मौजूदगी बढ़ा दी है और अपने सैनिक साजो-सामान का जमावड़ा भी बढ़ा दिया है। चीनी सैनिक भारतीय इलाक़े में घुस आए हैं और भारतीय सैनिकों के कहने पर भी पीछे नहीं हट रहे हैं।

क्या कहा माइक पैम्पियो ने

लगभग इसी समय अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पैम्पियो ने भी इस पर चिंता जताई है कि चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास सैनिक और साजो-सामान का बड़ा जमावड़ा कर रखा है।
उन्होंने कहा, 'हमने देखा है कि आज भी चीन ने भारत के उत्तर में वास्तविक नियंत्रण रेखा तक अपनी अपनी सेना की मौजूदगी में बढ़ोतरी कर ली है।'पैम्पियो ने इसके साथ ही हांगकांग की चर्चा की और कहा कि उसके प्रति व्यवहार से पता चलता है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का राज लोकतंत्र विरोधी है।उन्होंने कहा कि इसका असर सिर्फ चीन और हांगकांग में रहने वाले लोगों पर ही नहीं, पूरी दुनिया पर पड़ता है।
पैम्पियो का यह बयान ऐसे समय आया है जब सैनिक स्तर पर भारत और चीन के बीच बातचीत नाकाम हो चुकी है। वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास तैनात दोनों देशों की सेनाओं के स्थानीय कमांडरों की बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला। अब बीजिंग और दिल्ली में कूटनीतिक स्तर पर बातचीत चल रही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें