loader
फ़ोटो क्रेडिट- https://thelivenagpur.com

बॉम्बे हाई कोर्ट: आख़िर क्यों दिया जस्टिस धर्माधिकारी ने इस्तीफ़ा?

बॉम्बे हाई कोर्ट में वरिष्ठता में दूसरे नंबर के न्यायाधीश सत्यरंजन धर्माधिकारी ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया। उनके इस्तीफ़े को लेकर अदालतों से जुड़े लोगों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। अपने इस्तीफ़े की जानकारी न्यायाधीश ने सबसे पहले एक अधिवक्ता के सामने जाहिर की जो उनसे एक मामले की सुनवाई के लिए अगली तारीख़ लेने पहुंचे थे। जस्टिस धर्माधिकारी पिछले कुछ समय से कॉमरेड गोविंद पानसरे और अंधश्रद्धा निर्मूलन संस्था के संस्थापक डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के मामले में सीबीआई और एसआईटी द्वारा जांच की धीमी गति पर पर नाराजगी व्यक्त करते रहे हैं। 

जस्टिस धर्माधिकारी का यह इस्तीफ़ा चौंकाने वाला क़दम है क्योंकि वह बॉम्बे हाई कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश के बाद सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश थे। बॉम्बे हाई कोर्ट में शुक्रवार को उनके सामने पेश हुए एक वकील मैथ्यूज नेदुम्परा से उन्होंने कहा कि वह अपना पद छोड़ चुके हैं और उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया है। मैथ्यूज नेदुम्परा ने कहा कि वह शुक्रवार सुबह न्यायमूर्ति धर्माधिकारी के समक्ष एक मामले का उल्लेख कर रहे थे लेकिन उन्होंने कहा, ‘मैं आपको कोई राहत नहीं दे सकता क्योंकि आज मेरा आख़िरी दिन है’। नेदुम्परा ने पूछा कि क्या आपका पद बढ़ाया जा रहा है? इस पर उन्होंने कहा, ‘मैं अपना कार्यालय छोड़ रहा हूं।’ 

ताज़ा ख़बरें

इस ख़बर के बाद अदालत परिसर में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया। कुछ ही देर में न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने अपने कक्ष में पत्रकारों को अपने इस फ़ैसले की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि  उनका इस्तीफ़ा पारिवारिक कारणों और विशुद्ध रूप से व्यक्तिगत है। जब उनसे उड़ीसा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस पद को लेकर चर्चा 2019 में शुरू हो गयी थी। 

इस्तीफ़े को लेकर हैरानी

बताया जाता है कि धर्माधिकारी उड़ीसा जाने के अनिच्छुक थे। उनका 2 साल का सेवाकाल शेष है। वर्तमान में बॉम्बे उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रदीप नंदराजोग का कार्यकाल 24 फ़रवरी, 2020 को समाप्त होने वाला है। ऐसे में चर्चाएं जोरों पर थीं कि क्या धर्माधिकारी को पदोन्नति मिलेगी या उन्हें कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश पद की जिम्मेदारी मिलेगी। लेकिन इन्हीं चर्चाओं के बीच उनका इस्तीफ़ा आना सभी को हैरान कर रहा है। 

धर्माधिकारी के पिता दिवंगत चंद्रशेखर धर्माधिकारी मुख्य न्यायाधीश रहे थे। न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने जून, 1983 में एक वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया था। उन्हें 14 नवंबर, 2003 को उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था। उन्होंने राज्य सरकारों के अधिकारियों के ख़िलाफ़ कई सख़्त फ़ैसले दिये थे। 

देश से और ख़बरें

हाल ही में उन्होंने आदिवासी विभाग के प्रधान सचिव के ख़िलाफ़ एक घोटाले के मामले में कड़ी टिप्पणी की थी। उन्होंने अनुसूचित जनजाति के लोगों के कल्याण के लिए आवंटित धन को ग़लत तरीक़े से आवंटित करने वाले 123 अधिकारियों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं करने पर यह टिप्पणी की थी। ऐसे में इन चर्चाओं का भी जोर है कि क्या सरकार के ख़िलाफ़ कडे रुख के कारण तो उनकी पदोन्नति बॉम्बे हाईकोर्ट में करने की बजाय उन्हें उड़ीसा स्थान्तरित किया जा रहा था जो उन्हें पसंद नहीं था और यह इस्तीफ़े का कारण बना? 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें