loader

हल्दी-अक्षत के ज़रिए मंदिर आंदालन से जुड़ने का न्योता

विश्व हिन्दू परिषद राम मंदिर के बहाने हिन्दुत्व की लहर बनाने के लिए गांव-गांव तक पहुँचना चाहती है। उसकी रणनीति है साल 1983 में एकात्मता यज्ञ यात्रा या कलश यात्रा जैसा वातावरण तैयार करना। इससे हिन्दुत्व की जो लहर बनेगी, परिषद उसके बस पर अपना जनाधार  बढ़ा सकेगी। इसका तात्कालिक सियासी फ़ायदा इसकी भ्रातृ संस्था भारतीय जनता पार्टी को अगले आम चुनाव में मिल सकता है। इसके साथ ही परिषद भी मजबूत होगी।

हल्दी से शुरुआत

परिषद ने हल्दी और अक्षत हर गाँव, कस्बे, शहर में भेजना शुरू कर दिया है। यह न्योता है राम मंदिर आन्दोलन से जुड़ने का। अयोध्या में होने वाल सन्त समागम और धर्मसभा में आने के लिए लोगों को न्योता दिया जा रहा है। यह शुरुआत भर है। सन्त समागम या धर्मसभा के बाद यह मामला रुक नहीं जाएगा। विहिप इस बल पर एक आन्दोलन खड़ा करना चाहती है। यह वैसा ही होगा जैसा 1983 में हुआ था, यानी कलश यात्रा। 

क्या थी कलश यात्रा?

ख़ुद को हिन्दुओं की पैरोकार कहने वाले इस संगठन ने 1983 में पूरे देश में एक बहुत ही बड़ी यात्रा निकाली थी, जिसे एकात्मता यज्ञ यात्रा या कलश यात्रा कहा गया था। इसके तहत बड़े-बड़े ट्रकों में गंगा का जल बहुत ही बड़े कलश में रख कर पूरे देश में घुमाया गया था। गंगा जल के साथ भारत माता की तस्वीर भी थी।
इसके तीन चरण थे। पहले चरण में नेपाल की राजधानी काठमांडू से भारत के दक्षिणी राज्य तमिलनाडु के रामेश्वरम तक 5,500 किलोमीटर की यात्रा  निकाली गई थी। इसे पशुपति रथ कहा गया था। दूसरे चरण हरिद्वार से कन्याकुमारी तक महादेव रथ निकाला गया था। तीसरे चरण में गंगासागर से सोमनाथ तक कपिल रथ निकाला गया था।अलग-अलग जगहों पर इन रथों को जोड़ने के लिए स्थानीय स्तर पर कई रथ निकाले गए थे।
VHP wants to repeat Kalash Yatra wave fer Hindutva - Satya Hindi
उस समय विहिप के अध्यक्ष मेवाड़ के राणा भगवत सिंह और महासचिव हरमोहन लाल थे। अशोक सिंहल उस समय इसके बहुत बड़े नेता नहीं थे। पर इस मुहिम के बाद वे कद्दावर नेता बन कर उभरे। परिषद का कहना था कि यह लोगों में राष्ट्रीयता की भावना विकसित करने के लिए किया गया था। खुले तौर पर राम मंदिर की बहुत बातें नहीं की गई थीं। बस हर रथ पर भारत माता की तस्वीर रखी गई थी। 
कुछ शहरों में सिमटी विहिप कलश यात्रा के बहाने दूरदराज़ के गाँवों तक पहुँचने में कामयाब रहा। पहली बार उसकी एक अखिल भारतीय पहचान बनी। राष्ट्रीय एकता के बहाने उसने हिन्दुत्व की भावना मजबूत की। उसने राम मंदिर पर चर्चा किये बग़ैर उसके लिए ज़मीन तैयार कर दी।
यात्रा के समय कुछ लोगों ने दबे-छुपे शब्दों में यह ज़रूर कहा था कि इसके बहाने हिन्दुत्व का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है और उसके दूरगामी असर हो सकते हैं। लेकिन यात्रा के दौरान कहीं कोई दंगा-फ़साद नहीं हुआ। मुसलमान-बहुल इलाक़ों में भी ये रथ बग़ैर किसी विरोध के घूमते रहे।पर साल 1986 आते आते इस हिन्दूवादी संगठन ने अपना असली रंग दिखाया, तेवर तीखे किए और राम मंदिर बनाने की बात ज़ोर-शोर से उठाने लगा। वह यह मुद्दा पहले भी उठाता रहता था पर पहले कोई उसकी सुनने वाला नहीं था। अब उसकी मौजदूगी दर्ज़ की जाने लगी थी, माँग पर लोगों का ध्यान जाने लगा था। वह कट्टरता से बात करने लगा था। 
VHP wants to repeat Kalash Yatra wave fer Hindutva - Satya Hindi
अयोध्या के कारसेवकपुरम में रखे हुए तराशे गये पत्थर।
विहिप इस बार राम मंदिर का नाम खुल कर ले रही है। कोई दुराव-छिपाव नही। वह इस भावनात्मक मुद्दे को उछालने में गौरव भी महसूस कर रही है। लखनऊ में जगह-जगह पोस्टर लगे हैं, 'राम लला के वास्ते, खाली कर दो रास्ते'। इसके स्टिकर बाँटे जा रहे हैं। 
विश्व हिन्दू परिषद की रणनीति साल 1992 जैसा बड़ा और आक्रामक आन्दोलन खड़ा करने की है। वह गाँव-गाँव तक पहुँच कर राम मंदिर की बात करना चाहता है। इसी बहाने हिन्दुत्व का बड़ा आधार तैयार करना चाहता है।
लेकिन साल 2018 और 1983 में बहुत अंतर है। गंगा में काफ़ी पानी बह चुका है। राम मंदिर के नाम पर अब तक कोई बहुत बड़ा आन्दोलन खड़ा नहीं हुआ है। साल 1992 को दुहराना शायद इस बार मुमक़िन न हो। लेकिन विहिप कोशिश तो करेगी ही।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें