loader

भारत के बयान में गलवान की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लेख क्यों नहीं है: राहुल

गलवान घाटी से चीनी सेना के वापस जाने की ख़बरों के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर ट्वीट कर अपनी बात कही है। राहुल ने भारत और चीन की ओर से इस संबंध में जारी किए गए आधिकारिक बयानों को ट्वीट किया है और कुछ सवाल पूछे हैं। 

राहुल ने कहा है, ‘राष्ट्र हित सर्वोपरि है और इसकी रक्षा करना भारत सरकार का कर्तव्य है। तो फिर, युद्ध से पहले वाले हालात पर जोर क्यों नहीं दिया गया है? चीन को हमारे क्षेत्र में 20 निहत्थे जवानों की हत्या को सही ठहराने की अनुमति क्यों दी गई है? गलवान घाटी की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लेख क्यों नहीं किया गया है?’

ताज़ा ख़बरें

राहुल ने चीनी विदेश मंत्रालय का जो बयान ट्वीट किया है, उसमें उन्होंने दो लाइंस को हाइलाइट किया है। इन लाइंस में लिखा है - ‘गलवान घाटी में हाल ही में जो कुछ भी सही या ग़लत हुआ, वह पूरी तरफ साफ है। चीन पूरी मजबूती के साथ अपनी क्षेत्रीय संप्रुभता की रक्षा करेगा और साथ ही सीमाई इलाक़ों में शांति बनाए रखने पर भी जोर देगा।’ 

इससे पहले पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री को अपने पहले दिए गए बयान कि भारत की सीमाओं में कोई घुसपैठ नहीं हुई है, को लेकर माफी मांगनी चाहिए। 

खेड़ा ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के भारत की सीमाओं में घुसपैठ न होने के बयान को चीन ने इस्तेमाल किया और कहा कि वह अपनी सीमा में ही है और गलवान उसकी सीमा में है। यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि प्रधानमंत्री के बयान को चीन ने तुरंत लपक किया और इसे क्लीन चिट की तरह इस्तेमाल किया।’ 

देश से और ख़बरें

खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री को देश को भरोसे में लेते हुए, देश से माफ़ी मांगते हुए कहना चाहिए कि वह गलत थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को यह भी साफ करना चाहिए कि अभी भी हमारी कितनी ज़मीन चीन के कब्जे में है। चीनी सेना के वापस जाने की ख़बरों पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का वीडियो - 

गलवान में चीनी घुसपैठ और जवानों की शहादत को लेकर कांग्रेस का रूख़ बेहद आक्रामक रहा। कांग्रेस कह चुकी है कि 15 जून की रात के बाद से ही सीमाओं की ज़मीनी हक़ीक़त को लेकर देश के लोगों को अंधेरे में रखा जा रहा है। पार्टी ने कहा था कि चुप रहने का समय ख़त्म हो गया है और अब जवाब देने का समय है। 

पार्टी ने पूछा था कि पीएम मोदी हमारे शहीदों को इंसाफ़ कैसे दिलाएंगे और कब वह गलवान में हुई हिंसा और हमारी सीमा में घुसपैठ के लिए खुलकर चीन का नाम लेंगे और सरकार इस मामले में चर्चा के लिए संसद का विशेष सत्र कब बुलाएगी।

राहुल गांधी ने भी कहा था, ‘लद्दाख के लोग कह रहे हैं कि चीन हमारी ज़मीन ले रहा है और प्रधानमंत्री कहते हैं कि हमारी ज़मीन किसी ने नहीं ली है। जाहिर है, कोई न कोई झूठ बोल रहा है।’ 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें