loader

मोहम्मद जुबैर को नहीं मिली बेल, कोर्ट के फैसले से पहले ही पुलिस को हो गई खबर !

दिल्ली पुलिस को शनिवार को अपनी ही खबर का फैक्ट चेक करने के लिए मजबूर होना पड़ा। उसने अदालत के आदेश का इंतजार किए बिना घोषणा कर दी कि फैक्ट चेकर और पत्रकार मोहम्मद जुबैर को जमानत नहीं मिली और उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया दिया गया है। अदालत का फैसला शाम 4 बजे के बाद आना था लेकिन दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने पत्रकारों को खबर लीक कर विवाद खड़ा कर दिया।

ज़ुबैर के वकील सौतिक बनर्जी ने मीडिया से कहा, यह बेहद निंदनीय है और देश में कानून के शासन की बात होती है लेकिन जज के फैसला सुनाने से पहले ही पुलिस मीडिया को फैसला लीक कर चुकी होती है।

फैक्ट-चेकिंग साइट ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक, मोहम्मद जुबैर, जिन्हें चार साल पुराने एक ट्वीट पर गिरफ्तार किया गया था, पिछले पांच दिनों से पुलिस हिरासत में हैं। उन्हें दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया जहां उनकी जमानत मांगी गई। दलीलें पूरी हो गईं लेकिन जज ने तब तक कोई आदेश नहीं दिया था, लेकिन दिल्ली पुलिस के डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ने पत्रकारों को मैसेज भेजा कि कोर्ट ने जुबैर की जमानत से इनकार कर दिया गया है और जुबैर को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ने बाद में सफाई में कहा कि उन्होंने एक सहयोगी से इस बारे में गलत सुना था।
जुबैर के वकील सौतिक बनर्जी ने कहा, केपीएस मल्होत्रा ​​कैसे जानते हैं कि आदेश क्या है, यह तो मुझे भी नहीं, जबकि मैं जुबैर का वकील है। दिल्ली पुलिस की यह हरकत आत्मनिरीक्षण की मांग करती है। 
मोहम्मद जुबैर को 27 जून को गिरफ्तार किया गया था और शुरू में उसी दिन एक ड्यूटी मजिस्ट्रेट द्वारा एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था। उन्होंने जमानत के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिसने पुलिस से जवाब मांगते हुए नोटिस जारी किया लेकिन जमानत याचिका पर तुरंत फैसला नहीं किया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें