loader

शर्मनाकः 757 ट्विटर खातों के नेटवर्क ने जुबैर को टारगेट किया, द वायर की पड़ताल

पत्रकार और AltNews के सह-संस्थापक, मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी एक साल से चल रहे एक अभियान का नतीजा है। आरोप है कि हिंदू युवा वाहिनी का गुजरात प्रदेश अध्यक्ष और सह-संयोजक विकास अहीर यह अभियान चला रहा था। द वायर ने इस संबंध में पड़ताल की है। उसने शनिवार को यह रिपोर्ट जारी की। द वायर के मुताबिक यह अभियान एक बड़े नेटवर्क का हिस्सा था।

मोहम्मद जुबैर को 27 जून को गिरफ्तार किया गया था। जुबैर की गिरफ्तारी @balajikijaiin हैंडल से जाने वाले एक अनाम खाते द्वारा एक शिकायत ट्वीट के बाद की गई थी, जिसमें जुबैर द्वारा 2018 के एक ट्वीट को दिल्ली पुलिस को टैग किया गया था। उस ट्वीट में एक होटल के साइन बोर्ड की तस्वीर थी, जिस पर 'हनीमून' शब्द को बदलकर हनुमान कर दिया गया था।शिकायतकर्ता ने कहा था कि इस फोटो ने उसकी धार्मिक भावनाओं को आहत किया है। शिकायतकर्ता को यह नहीं पता था कि यह 1983 में बनी चार दशक पुरानी फिल्म 'किस्सी से ना कहना' के एक दृश्य का स्क्रीनशॉट था।

ताजा ख़बरें
जब जुबैर के वकील वृंदा ग्रोवर ने 29 जून को जुबैर की जमानत पर सुनवाई के दौरान अदालत में बताया कि शिकायत एक गुमनाम खाते से की गई थी। 'देश में बुरा माहौल पैदा करने' के लिए यह किया जा गया था, तो सरकारी पक्ष ने जवाब दिया कि वह अनाम शिकायतकर्ता नहीं है। उसका विवरण है। विवरण के बिना, किसी को भी ट्विटर अकाउंट नहीं मिल सकता है। लेकिन इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक सरकारी पक्ष अदालत में खाताधारक की पहचान प्रकट करने में विफल रहा। इसके बाद पुलिस ने 29 जून की शाम को ट्विटर पर आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 91 के तहत नोटिस भेजा, जिसमें उन्हें @balajikijain खाते का विवरण प्रदान करने के लिए कहा गया। इस ट्विटर की पहचान 'हनुमान भक्त' के नाम से की गई है।
द वायर की जांच में विकास अहीर से जुड़े 757 खातों के एक नेटवर्क का खुलासा हुआ है, जिन्होंने 2018 के बाद से ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक प्रतीक सिन्हा के साथ-साथ दो पत्रकारों द्वारा अपलोड किए गए पुराने ट्वीट्स को उजागर करने और गलत तरीके से चित्रित करने के लिए तथ्य-जांचकर्ता को दोषी ठहराने का प्रयास किया है। उन्हें "हिंदू फोबिक" के रूप में और फिर स्थानीय अधिकारियों को टैग करना ताकि दोनों पत्रकारों को धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में गिरफ्तार कराया जा सके।
विशेष रूप से, इस नेटवर्क में @balajikijaiin के आठ रेप्लिका (प्रति कृति) अकाउंट भी शामिल थे - वही गुमनाम अकाउंट जिसकी शिकायत ने दिल्ली पुलिस द्वारा जुबैर की गिरफ्तारी का आधार बनाया गया। इन आठ खातों में से हर एक में समान बायो है, प्रोफ़ाइल चित्र, ट्वीट और उपयोगकर्ता नाम एक जैसा है। ट्विटर पर AltNews के सह-संस्थापकों को टारगेट करने के लिए एक जैसी प्रक्रिया अपनाई गई। जबकि इन आठ प्रति कृति खातों में से पांच हटा दिए गए हैं, दो अन्य खाते - @balajikijain और @हनुमान भक्त 101 सक्रिय रहे।

757 खातों के इस नेटवर्क की बारीकी से जांच करने पर 283 खातों के एक उपसमूह का पता चला, जिसमें तमाम बायो एक जैसे हैं। गुमनामी बनाए रखने के अलावा, इन खातों ने कम समय में पिछले महीने की तुलना में दिन में 500 से अधिक बार पोस्ट किये गये। उन्होंने सस्ते बॉट्स, डन क्विक टू ऑटोमेट और स्पैम टागेटेड हैशटैग जैसे जुबैर की गिरफ्तारी से संबंधित थर्ड पार्टी के टूल का भी इस्तेमाल किया गया।
इस गतिविधि में 18,364 खातों का एक बड़ा नेटवर्क था, जिसका उपयोग अन्य हैशटैग - #ArrestZubair, #ArrestMohamedZubair और #ArrestBlasphemerMdZubair को ट्रेंड करने के लिए भी किया गया था।
जुबैर को टारगेट करने वाले हैशटैग को ट्रेंड करने के लिए अप्रमाणिक खातों के उपयोग को एक तकनीकी कंपनी के विश्लेषण में पुष्टि की गई। 1 जून से 30 जून, 2022 के बीच इन तीन हैशटैग का तार्किक रूप से विश्लेषण भी किया। इस विश्लेषण में पाया गया कि दक्षिणपंथी विचारकों और सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से जुड़े राजनेताओं द्वारा प्रचारित किए जाने के बाद वे 'ट्रेंडिंग' में शामिल हो गए। इन लोगों प्लेटफॉर्म पर हैशटैग को हजारों बार स्पैम किया था। 
गौरतलब है कि इस बड़े नेटवर्क के लगभग 62% (11,380 खाते) जो गिरफ्तारी के आसपास जनता की धारणा को बदलने की कोशिश कर रहे थे, वे भी मूल टेक फॉग नेटवर्क का हिस्सा थे, जिसका खुलासा इस साल जनवरी में द वायर ने किया था।

देश से और खबरें

जून 2021 में, टेक फॉग नेटवर्क के 77,800 उपयोगकर्ता थे, जिनमें से कई द वायर की जांच रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद निष्क्रिय हो गए। जुबैर मामले के बारे में जनता की धारणा बदलने के लिए इस क्लस्टर की सक्रियता पिछले छह महीनों में पहली बार इस नेटवर्क के उपयोग का पता चला है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें