loader

एशिया के 20 देशों की जीडीपी 20 परिवारों की संपत्ति के बराबर

एशिया के सबसे धनी 20 परिवारों के पास जितने पैसे हैं, 20 सबसे ग़रीब देशों का सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी लगभग उतना ही है। इन परिवारों के पास 450 अरब डॉलर की जायदाद है, दूसरी ओर इन 20 ग़रीब देशों की जीडीपी 468.50 अरब डॉलर है। इस विडंबनापूर्ण स्थिति का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के मालिक मुकेश अंबानी के पास 50.40 अरब डॉलर की संपत्ति है तो भूटान की जीडीपी ही 2.6 अरब डॉलर है। यानी पूरे भूटान का जो सकल घरेलू उत्पाद है, उसका 20 गुणा पैसा सिर्फ़ मुकेश अंबानी के परिवार के पास है।

20 सबसे धनाढ्यों में 3 भारतीय

ब्लूमबर्ग ने अपने अध्ययन में पाया है कि इन 20 धनाढ्यों में 3 भारतीय हैं। इस सूची में सबसे ऊपर रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के मुकेश अंबानी हैं। उनके पास 50.4 अरब डॉलर की संपत्ति है। उनके पिता धीरूभाई अंबानी यमन से भारत 1957 में आए और अपना धंधा शुरू किया। उनकी मौत 2002 में होने के बाद बड़े बेटे मुकेश ने अध्यक्ष पद संभाल लिया। धीरूभाई कोई वसीयत छोड़ कर नहीं गए थे, लिहाज़ा उनकी विधवा कोकिला बेन ने दोनों भाइयों की रज़ामंदी से संपत्ति का बंटवारा करवाया। छोटे बेटे अनिल की आर्थिक स्थिति बिगड़ती चली गई और वह इस सूची में कहीं नहीं हैं।

हॉंग कॉंग का क्वॉक परिवार

एशिया का दूसरा सबसे धानढ्य परिवार है क्वॉक परिवार।  क्वॉक ताक-सेंग हॉंग कॉंग में रहते थे। उन्होंने 1972 में सन हंग काई प्रोपर्टीज़ की नींव डाली। यह कंपनी देखते देखते वहाँ की सबसे बड़ी कंपनी बन गई। इस परिवार के पास 38 अरब डॉलर की संपत्ति है। यह निर्माण उद्योग की कंपनी है। उनकी मौत के बाद उनके बेटों वॉल्टर, थॉमस और रेमंड ने 1990 में कामकाज संभाल लिया। 

चीन से भागे, थाईलैंड के सबसे धनी बन गए

थाईलैंड का चेयरवेनॉन्त परिवार एशिया का चौथा सबसे संपन्न परिवार है। इस परिवार की कुल संपत्ति की कीमत 37.90 अरब डॉलर है। इस परिवार के मुखिया धानिन चेयरवेनॉन्त हैं। वह चरोन पोकफाँद समूह के मालिक हैं। इस समूह की कंपनियाँ खाद्य सामग्री, रीटेल और दूरसंचार के क्षेत्र में हैं। लेकिन धानिन के पिता चिया एक चर दक्षिण चीन के एक छोटे से गाँव में रहते थे और एक बार भयानक तूफान से बचने के लिए वहाँ से भाग कर थाईलैंड चले आए थे। उन्होंने अपने भाई के साथ मिल कर सब्जियों के बीज का कारोबार 1921 में शुरू किया था और उसके बाद कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। उनकी एक कंपनी भारत में भी है, जिसका नाम है लॉट्स होलसेल सॉल्यूशन्स। इसने भारत में 2018 में अपना कामकाज शुरू किया। 

सिगरेट से साम्राज्य

इंडोनेशिया के हार्तोनो परिवार के पास 32.50 अरब डॉलर की संपत्ति है। उनके पितामह ओई वाई ग्वान ने 1950 में एक सिगरेट कंपनी खरीदी और उसके ब्रांड का नाम बदल कर 'ज़ारुम' रख दिया। इसके बाद वह देश की सबसे बड़ी सिगरेट कंपनी के मालिक बन गए। ओई ग्वान की मौत के बेटों माइकल और बूडी ने बैंकिंग उद्योग में हाथ आजमाया और बैंक सेंट्रल एशिया के मालिक बन गए। 

फल से इलेक्ट्रॉनिक्स

दक्षिण कोरिया के ली ब्युंग-चुल ने 1938 में फल, सब्जी और मछली का व्यापार करे के लिए एक कंपनी की स्थापना की और उसका नाम रखा सैमसंग। उन्होंने इसके कामकाज का विविधिकरण 1969 में करते हुए कंप्यूटर के मेमोरी चिप्स और स्मार्टफ़ोन बनाना शुरू किया। उनकी मौत के बाद उनके तीसरे बेटे ली कुआन-ही ने व्यापार संभाला और उसे नई ऊँचाइयाँ दी। उनकी मौत 2014 मे हो गई और उनके बेटे जे वाई ली ने कामकाज संभाल लिया। इस परिवार के पास 28.50 अरब डॉलर की जायदाद है। 

थाईलैंड के वूविद्या परिवार के पास 24.50 अरब डॉलर है। चालियो वूविद्या ने टी. सी. फ़ार्मास्यूटिकल्स की स्थापना की। इस कंपनी के पास रेड बुल ब्रांड है। 

सापूरजी पल्लनजी 

भारत का सापूरजी पल्लनजी समूह एशिया का सातवाँ सबसे संपन्न परिवार है। पल्लनजी मिस्त्री ने 1865 में निर्माण का काम शुरू किया था। सापूरजी पल्लनजी समूह निर्माण की देश की अग्रणी कंपनी है। टाटा समूह में भी इनकी बड़ी हिस्सेदारी है। समूह के मालिक साइरस मिस्त्री टाटा समूह के अध्यक्ष भी बने थे, जिन्हें बाद में पद से हटना पड़ा। 

हिन्दुजा परिवार

भारत के हिन्दुजा परिवार के पास 16 अरब डॉलर की संपत्ति है। परमानंद हिन्दुजा 1914 में मौजूदा पाकिस्तान से भाग कर मुंबई आ गए और व्यापार शुरू किया। बाद मे वह ईरान चले गए। उनके बेटों गोपीचंद और अशोक हिन्दुजा ने बाद में लंदन और पेरिस में अपना कामकाज जमाया। भारत में उनकी कंपनी अशोक लीलैंड है, जो बस और ट्रक बनाती है। 

लेकिन इसके दूसरी ओर एक देश भूटान है, जिसकी कुल सकल घरेलू उत्वाद ही 2.6 अरब डॉलर है। इसकी अर्थव्यवस्था भारत की मदद से चलती है और यह एशिया के सबसे ग़रीब देशों में एक है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल  78.3 करोड़ लोग ग़रीबी रेखा से नीचे बसर कर रहे थे। रोज़ाना 1 डॉलर की आय को अंतरराष्ट्रीय ग़रीबी रेखा माना जाता है। दुनिया के कुल ग़रीब के 9 प्रतिशत लोग एशिया में रहते हैं। लेकिन इसी एशिया में मुकेश अंबानी भी रहते हैं, जिनकी निजी संपत्ति 50 अरब डॉलर की है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें