loader

एडीबी : कोरोना की वजह से भारत की विकास गति होगी 4 प्रतिशत

एशियाई विकास बैंक ने आशंका जताई है कि कोरोना संक्रमण की वजह से भारत में आर्थिक विकास की गति धीमी हो जाएगी। उसका अनुमान है कि 2020 में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि की दर गिर कर 4 प्रतिशत पर आ जाएगी। 
एडीबी ने एशियन डेवलपमेंट आउटलुक 2020 में यह भी कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था बुनियादी रूप से मजबूत है, इसलिए अगले साल भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार आएगा। 
अर्थतंत्र से और खबरें

कोरोना का कहर

एडीबी ने यह भी कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से अंतरराष्ट्रीय आर्थिक स्थिति बुरी ही रहेगी और उसका असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी पड़ेगा। 
पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से 10 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं और इससे 50 हज़ार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में भी इससे 2 हज़ार से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 53 लोगों की मौत अब तक हो चुकी है। 
एशियाई विकास बैंक के अध्यक्ष मसात्सुगु असाकावा ने कहा, ‘हम असाधारण चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। कोविड-19 से लोगों के जीवन पर बुरा असर पड़ा है, व्यापार और आर्थिक गतिविधियाँ प्रभावित हो रही हैं।’
एडीबी के मुख्य अर्थशास्त्री यासुयुकी सवादा ने भारत की तारीफ़ करते हुए कहा कि बुनियादी रूप से भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत आधार पर टिकी हुई है। कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने से भारतीय अर्थव्यवस्था जल्द ही पटरी पर लौट आएगी।
उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने महामारी की चपेट में आई अर्थव्यस्था को ठीक करने के लिए तुरन्त कदम उठाए हैं। 
एशियाई विकास बैंक ने यह भी कहा है कि अगले साल यानी 2020-21 में भारत की सकल घरेलू उत्पाद वृद्धि दर बढ़ कर 6.2 प्रतिशत तक पहुँच सकती है।
इसके पहले अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (आईएमएफ़) ने औपचारिक तौर पर वैश्विक मंदी का एलान कर दिया। इसकी तात्कालिक वजह कोरोना बताई गई है।
आईएमएफ़ प्रमुख क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने साफ़ शब्दों कह दिया है कि अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था मंदी के दौर में प्रवेश कर चुकी है। इससे उबरने के लिए बहुत बड़े पैमाने पर निवेश की ज़रूरत होगी। मंदी से निकलने में समय लगेगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें