loader

अमेरिका को पछाड़ कर शीर्ष पर कैसे पहुँची चीन की अर्थव्यवस्था?

दूसरे विश्व युद्ध के बाद से अब तक वैश्विक अर्थव्यवस्था के बेताज बादशाह रह चुके अमेरिका की हालत डँवाडोल है। अब तक अपने हिसाब से विश्व अर्थव्यवस्था चलाने और शीर्ष पर रहने वाले अमेरिका को एशिया से चुनौती मिली है। सवाल यह उठने लगा है कि क्या चीन उसे पछाड़ कर, उसे पीछे धकेल कर दुनिया की पहले नंबर की अर्थव्यवस्था बन चुका है। यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के आँकड़ों के अध्ययन करने से यह तसवीर उभर कर सामने आती है। 
यूरेशियन टाइम्स पर भरोसा करें तो अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के आँकड़ों से पता चलता है कि चीनी अर्थव्यवस्था अमेरिका से आगे निकल चुकी है। इसके मुताबिक़़, परचेजिंग पावर पैरिटी (पीपीपी) के हिसाब से चीनी अर्थव्यवस्था 24.20 ट्रिलियन डॉलर की हो चुकी है, जबकि अमेरिका की अर्थव्यवस्था 20.8 ट्रिलियन डॉलर की है।
ख़ास ख़बरें

मामला क्या है?

पारंपरिक रूप से सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का हिसाब मार्केट एक्सचेंज रेट के आधार पर किया जाता है। पर कुछ अर्थशास्त्रियों का कहना है कि इससे अर्थव्यवस्था की सही तसवीर नहीं बनती है।
इस ख़बर के अनुसार, आईएमएफ़ ने कहा है कि पीपीपी अलग-अलग अर्थव्यवस्थाओं में खरीद के स्तर का अनुमान लगाता है और इससे यह पता चलता है कि कोई अर्थव्यवस्था अपनी मुद्रा से कितना खरीद सकती है।
यूरेशियन टाइम्स ने मशहूर पत्रिका 'द इकोनॉमिस्ट' का भी हवाला दिया है। इस पत्रिका ने अपनी रिपोर्ट में कहा है,

'चीन के कामगारों ने 2019 में 99 ट्रिलियन युआन के उत्पाद व सेवाएं दीं। अमेरिका में यह 21.4 ट्रिलियन डॉलर था। उस साल एक डॉलर 6.9 युआन के बराबर था, उस हिसाब से यह 14 ट्रिलियन डॉलर के बराबर था। लेकिन डॉलर की मौजूदा कीमत 3.8 युआन है, इस हिसाब से चीनी अर्थव्यवस्था 26 ट्रिलियन डॉलर की हो गई।'


'द इकोनॉमिस्ट' की रिपोर्ट का अंश

जीडीपी वृद्धि दर

इसे दूसरे आँकड़े से समझते हैं। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने हाल ही में जारी रिपोर्ट में कहा है कि चीन इसी साल सकारात्मक वृद्धि दर दर्ज करेगा और इसकी जीडीपी में लगभग 1.9 प्रतिशत की वृद्धि दर देखी जाएगी। पूरी दुनिया में सिर्फ दो ही देश सकारात्मक वृद्धि दर हासिल कर पाएंगे- चीन और वियतनाम।
आईएमएफ़ का कहना है कि अगले साल चीन की जीडीपी में 8.2 प्रतिशत की वृद्धि देखी जाएगी। अमेरिकी विकास दर इस साल शून्य से नीचे ही रहेगी, लेकिन अगले साल वह 3.1 प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल कर सकती है। इस वजह से चीन और अमेरिका में बहुत बड़ा अंतर पैदा हो जाएगा।
इसे कुछ दिन पहले प्रकाशित अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के आउटलुक 2020 से समझा जा सकता है। 
Chinese Economy beat US Economy to reach at top - Satya Hindi
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष
चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के इस मुखपत्र ने यह भी कहा है कि असली विकास दर इससे कहीं ज्यादा होगी। उसने नैशनल ब्यूरो ऑफ़ स्टैटिस्टिक्स के हवाले से कहा है कि पूरे साल की वृद्धि दर 2.5 प्रतिशत होगी। इसने झिजिन इनवेस्टमेंट रिसर्च इंस्टीच्यूट के अर्थशास्त्री लियान पिंग को उद्धृत करते हुए कहा है कि साल की दूसरी छमाही में खपत बढ़ेगी और अर्थव्यवस्था को इससे बहुत बड़ा सहारा मिलेगा।
सवाल यह उठता है कि अमेरिका और चीन के विकास के रास्तों में ऐसा क्या अंतर हुआ? डोनल्ड ट्रंप के अमेरिका फ़र्स्ट के बावजूद वह चीन से पिछड़ता क्यों चला गया? इन तमाम सवालों का जवाब अगले साल में साफ हो जाएगा जब चीन 8.1 की विकास दर के साथ अमेरिकी को बहुत ही पीछे छोड़ देगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें