loader

5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने के लिए क्या करेंगी सीतारमण?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में आर्थिक सर्वेक्षण पेश करते हुए उम्मीद जताई है कि अगले वित्तीय वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी वृद्धि दर 6 से 6.50 प्रतिशत हो सकती है।
मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमणियन ने इस सर्वेक्षण की रिपोर्ट जारी की। शुक्रवार को बजट सत्र शुरू होते ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सदन की संयुक्त बैठक में अपना अभिभाषण रखा। उन्होंने अभिभाषण में भी आर्थिक मुद्दों पर सरकार का पक्ष रखा। उसके बाद वित्त मंत्री ने आर्थिक सर्वेक्षण सदन के पटल पर रखा।

आर्थिक सर्वे की मुख्य बातें : 

  • सर्वे में कहा गया है कि वित्तीय वर्ष 2011-12 से 2017-18 के बीच 2.62 करोड़ नौकरियों के मौके बनाए गए।
  • 2025 तक 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए नेटवर्क उत्पादों के निर्यात पर ज़ोर देना होगा। 
  • आर्थिक विकास को बल देने के लिए सरकार खर्च बढ़ाने पर ज़ोर दे सकती है।
  • सरकार विकास की प्राथमिकता तय कर उस हिसाब से खर्च कर सकती है। 
  • 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के लिए सरकार को ‘प्रो-बिज़नेस’ नीतियाँ अपनानी होंगी, प्रतिस्पर्द्धा बढ़ाने पर ज़ोर देना होगा।
  • सरकार को ‘प्रो-क्रोनी’ नीतियाँ यानी अपने लोगों को फ़ायदा पहुँचाने की नीति छोड़नी होगी। 

आर्थिक सुधार पर ज़ोर

  • सर्वे में कहा गया है कि सरकार को आर्थिक सुधार पर ज़ोर देना चाहिए, तुरन्त शुरू कर देना चाहिए।
  • सरकार को सार्वजनिक बैंकों के गवर्नेंस पर ध्यान देना चाहिए, इसके डिक्लरेशन को दुरुस्त करना चाहिए ताकि लोगों का विश्वास बढ़े।
  • प्याज जैसे उत्पादों की कीमत रोकने में सरकारी हस्तक्षेप कारगर साबित नहीं हुआ। 
  • सर्वे में 10 नए विचार सुझाए गए, जिससे बाज़ार और अर्थव्यवस्था दोनों को ही फ़ायदा मिले।

2008 के बाद न्यनूतम विकास दर

  • जीडीपी वृद्धि दर 2019-20 के लिए 5 प्रतिशत हो सकती है। यह वत्तीय वर्ष 2008-2009 से अब तक की सबसे कम वृद्धि दर है। 
  • अगले वित्तीय वर्ष में जीडीपी वृद्धि दर 6-6.5 प्रतिशत हो सकती है।
  • वित्तीय घाटा मौजूदा 3.30 प्रतिशत से बढ़ा कर 3.80 प्रतिशत किया जा सकता है। 
  • डॉलर के मुक़ाबले रुपया 17 पैसे बढ़ कर 71.41 पर पँहुच गया।
सरकार ने 6 प्रतिशत से 6.50 प्रतिशत जीडीपी वृद्धि दर की उम्मीद ऐसे समय की है, जब इसने कुछ दिन पहले ही अनुमान लगाया था कि जीडीपी वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रहेगी। चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 5 प्रतिशत थी। दूसरी तिमाही में कुल मिला कर सकल घरेलू उत्पाद 49.64 लाख करोड़ रुपए दर्ज किया गया।
बता दें कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में भारत की वृद्धि दर 6.8% रही थी जबकि 2017-18 में यह 7.2% थी। हालांकि विश्व बैंक ने यह भी कहा है कि भारत 2021 में 6.9% और 2022 में 7.2% की विकास दर हासिल कर सकता है।
इसके पहले विश्व बैंक ने कहा था कि चालू वित्त वर्ष में बांग्लादेश और नेपाल भारत से ज़्यादा तेज़ी से विकास करेंगे। चालू वित्त वर्ष में बांग्लादेश की विकास दर 8.1% और नेपाल की विकास दर 7.1% रहने का अनुमान लगया गया है। जबकि पाकिस्तान की वृद्धि दर और ज़्यादा गिरकर 2.4% रहने का अनुमान जताया गया है। दक्षिण एशिया की वृद्धि दर में अप्रैल के मुक़ाबले 1.1% की गिरावट के साथ 5.9% रहने का अनुमान है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें