loader

ईडी ने अतीक के 200 बैंक खातों, 50 शेल फर्मों के दस्तावेज, 75 लाख जब्त किए

ईडी ने जेल में बंद गैंगस्टर अतीक अहमद और उसके सहयोगियों के परिसरों से 75 लाख रुपये की भारतीय और विदेशी मुद्रा जब्त की है। इसके साथ क़रीब 200 बैंक खातों और 50 शेल फर्मों से जुड़े कुछ दस्तावेज भी जब्त किए हैं।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में 15 स्थानों पर ईडी के लोगों ने बुधवार को बड़े पैमाने पर छापेमारी की थी। ईडी ने कहा कि जिन दस्तावेजों को जब्त किया गया था, उनका उपयोग जबरन वसूली, जमीन हड़पने और अन्य आपराधिक गतिविधियों से उत्पन्न अवैध धन की लॉन्ड्रिंग के लिए किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि 'अतीक अहमद के करीबी सहयोगियों और फर्मों के नाम पर 100 से अधिक संपत्तियों के दस्तावेज भी मिले हैं। इन संपत्तियों के अतीक की बेनामी संपत्ति होने का संदेह है।'

ताज़ा ख़बरें

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि छापेमारी में 50 करोड़ रुपये से अधिक के नकद लेन-देन का भी पता चला है। कहा गया है कि किसानों से आपराधिक धमकी के माध्यम से खरीदी गई संपत्तियों के दस्तावेज भी पाए गए हैं।

ईडी के छापे अतीक और उससे जुड़े लोगों के खिलाफ चल रही मनी लॉन्ड्रिंग जाँच का हिस्सा थे। छापेमारी ऐसे समय में की गई जब अहमद को उमेश पाल हत्याकांड के सिलसिले में एक स्थानीय अदालत में पेश करने के लिए गुजरात की साबरमती जेल से प्रयागराज लाया जा रहा था।

जिस मामले में अतीक अहमद मुकदमे का सामना कर रहे हैं, वह पाल और उसके दो पुलिस सुरक्षा गार्डों की हत्या से जुड़ा है। उनकी इस साल 24 फरवरी को प्रयागराज के धूमनगंज इलाके में उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।
ईडी ने विभिन्न पुलिस थानों में अहमद के खिलाफ हत्या, जबरन वसूली, धोखाधड़ी, जालसाजी, जमीन हड़पने और समान प्रकृति के अपराधों से संबंधित कई प्राथमिकियों का संज्ञान लेने के बाद धन शोधन निवारण अधिनियम यानी पीएमएलए के तहत जांच शुरू की।

बता दें कि आज अतीक अहमद के बेटे का एनकाउंटर हो गया है। गैंगस्टर अतीक अहमद के बेटे असद अहमद और गुलाम को यूपी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने गुरुवार को मार गिराया। असद और गुलाम दोनों ही उमेश पाल मर्डर में आरोपी थे। यह एनकाउंटर ऐसे समय हुआ है, जब यूपी पुलिस अतीक को गुजरात के साबरमती जेल से लाकर प्रयागराज कोर्ट में पेश कर रही है। अतीक के परिवार ने पहले ही आरोप लगाया था कि य़ूपी पुलिस के इरादे अच्छे नहीं हैं और वे परिवार के लोगों को एनकाउंटर में मार सकते हैं।

अर्थतंत्र से और ख़बरें
आज मारे गए असद और गुलाम पर 5-5 लाख का इनाम पहले से ही घोषित था। दोनों का एनकाउंटर झांसी में हुआ। झांसी में डिप्टी एसपी नवेंदु और विमल के नेतृत्व में टीम ने इस एनकाउंटर का दावा किया है। यह भी दावा किया गया कि दोनों मारे गए आरोपियों से अत्याधुनिक विदेशी हथियार बरामद किए गए हैं। इस संबंध में जो वीडियो सामने आया है, उसमें एक बाइक को भी जमीन पर पड़े दिखाया गया है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें