loader

भारतीयों के स्विस खातों की जानकारी नहीं देगी सरकार

वित्त मंत्रालय ने स्विस बैंक से मिले भारतीयों के बैंक खातों की जानकारी देने से साफ़ इनकार कर दिया है। उसका कहना है कि यह स्विटज़रलैंड और भारत के बीच हुए क़रार की गोपनीयता का उल्लंघन होगा और ऐसा नहीं किया जा सकता है। 

आरटीआई सवाल के जवाब में वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। सरकार ने दूसरे देशों से आए काले धन के बारे में भी जानकारी देने से इनकार कर दिया है। 

अर्थतंत्र से और खबरें
एक पत्रकार की आरटीआई अर्ज़ी पर सरकार ने यह जवाब दिए हैं। सरकार ने कहा है : 

कर समझौतों के तहत सूचनाओं का आदान-प्रदान गोपनीयता की शर्तों से जुड़ा होता है। इस तरह की जानकारियाँ आरटीआई के प्रावधानों के तहत नहीं दी जा सकती हैं।


वित्त मंत्रालय का जवाब

ऑटोमैटिक सूचना आदान-प्रदान समझौते के तहत स्विस बैंक में भारतीयों के खाते से जुड़ी जानकारियाँ सितंबर में भारत को मिली थीं। 

स्विटज़रलैंड के फ़ेडरल टैक्स प्रशासन ने 75 देशों के साथ सूचनाओं के आदान प्रदान का क़रार किया है।
समझा जाता है कि  काले धन को रोकने के लिए हुए क़रार के बाद कई भारतीयों ने स्विस बैंक में अपने खाते बंद करवा लिए।
नैशनल कौंसिल ऑफ़ एप्लाइड इकनॉमिक रीसर्च (एनसीएईआर) ने अनुमान लगाया है कि 1980 से 2010 के बीच भारतीयों का विदेशों में काला धन 384 अरब डॉलर से 490 अरब डॉलर रहा है।
उस समय की एनडीआर सरकार ने 2011 में काले धन का पता लगाने का काम एनसीएईआर को सौंपा था। एक दूसरी संस्था नैशनल इंस्टीच्यूट ऑफ़ फ़ाइनेंशियल मैनजेमेंट (एनआईए़एम) ने अनुमान लगाया है कि 1990 से 2008 के बीच 216.48 अरब डॉलर यानी 9,41,837 करोड़ रुपए को ग़ैरक़ानूनी तरीके से देश के बाहर भेजा गया था।
 नैशनल इंस्टीच्यूट ऑफ़ पब्लिक पॉलिसी एंड फ़ाइनेंस (एनआईपीएफ़पी) ने अनुमान लगाया कि 1997-2009 के बीच जीडीपी का 0.2 प्रतिशत से 7.4 प्रतिशत हिस्सा बाहर भेजा गया। 

Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें