loader

जीएसटी: भारतीय अर्थव्यवस्था क्या पटरी पर लौट रही है?

क्या भारतीय अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर लौटने लगी है? क्या मांग-खपत निकलने लगी हैं और लोग पहले की तरह न सही, पर थोड़ी-बहुत ख़रीद-फ़रोख़्त करने लगे हैं? ऐसा लगता है कि अर्थव्यवस्था पटरी पर तो नहीं लौटी है, पर इसमें धीरे-धीरे सुधार होने लगा है। यह अक्टूबर महीने के जीएसटी राजस्व उगाही से साफ होता है।
फरवरी के बाद पहली बार जीएसटी राजस्व उगाही एक लाख करोड़ रुपए की सीमा को पार कर गई है, इस महीने में 1.05 लाख करोड़ की उगाही दिखाती है कि खरीद-बिक्री शुरू हो चुकी है। जीएसटी यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स वह कर है जो आप सामान खरीदने या किसी तरह की सेवा लेने पर चुकाते हैं।
ख़ास ख़बरें

माँग-खपत

इस जीएसटी में केंद्रीय जीएसटी 19,193 करोड़ रुपए, राज्य जीएसटी 25,411 करोड़ रुपए और इंटीग्रेटे़ड जीएसटी 52,540 करोड़ रुपए मिले हैं। इसके पहले सितंबर महीने में 95,480 करोड़ रुपए की जीएसटी वसूली हुई थी।
यह महत्वपूर्ण है कि इस साल अक्टूबर में जीएसटी वसूली पिछले साल अक्टूबर के राजस्व से 10 प्रतिशत ज़्यादा है। इसके साथ ही अक्टूबर में आयात में 9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

लॉकडाउन से पहले की स्थिति पर

जीएसटी राजस्व एक लाख करोड़ रुपए के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही हो गया था। यह मई-जून में न्यूनतम स्तर पर था, उसके बाद बहुत ही मामूली सुधार और गिरावट होती रही। लेकिन पहली बार यह पिछले साल की तुलना में अधिक हुआ और पहली बार यह लाख करोड़ रुपए के स्तर को पार कर पाया।
बता दे कि जीएसटी राजस्व को लेकर केंद्र और राज्य में जोरदार लड़ाई चल रही थी। केंद्र राज्यों को उनके हिस्से का जीएसटी बकाया नहीं दे रहा था, उसका कहना था कि उसके पास पैसे नहीं हैं, लिहाज़ा राज्य क़र्ज़ लेकर काम चलाएं। राज्यों का कहना था कि क़र्ज़ लेना ही है तो केंद्र सरकार ले, राज्य इस पचड़े में क्यों पड़े। 
लंबी लड़ाई के बाद यह सहमति बनी है कि केंद्र क़र्ज़ लेकर राज्यों को देगा। लेकिन इसमें भी पेच यह है कि केंद्र सिर्फ गारंटर की भूमिका में ही होगा, यानी कर्ज लेगा, राज्यों को देगा और राज्य वह पैसा चुकाएंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें