loader

कोरोना से ज़्यादा लोगों को अब चिंता आर्थिक संकट की: सर्वे

कोरोना संक्रमण से ज़्यादा लोगों की चिंताएँ अब आर्थिक संकट को लेकर हो गई हैं। यह रिपोर्ट एक ताज़ा सर्वे में आई है। 

जब कोरोना संक्रमण फैलना शुरू हुआ था तो लोग कोरोना के खौफ़ में थे। जब लॉकडाउन लागू हुआ तो आर्थिक हालात बिगड़ने लगे और करोड़ों लोगों की नौकरियाँ चली गईं। ऐसी ही स्थिति में यह ताज़ा सर्वे सामने आया है। यह सर्वे किया है आईआईएम लखनऊ में सेंटर फॉर मार्केटिंग इन इमर्जिंग इकोनॉमीज यानी सीएमईई ने। यह सर्वे 23 राज्यों के 104 शहरों में फ़ेसबुक, लिंक्डइन जैसे सोशल मीडिया के माध्यम से अंग्रेज़ी में ऑनलाइन किया गया है। यानी इस सर्वे में भाग लेने वालों में शायद ही वे लोग शामिल हुए होंगे जो करोड़ों की संख्या में शहरों में मज़दूरी करते हैं और लंबे समय से पैदल चलकर ही अपने-अपने घरों को पहुँचने की जद्दोजहद में रहे। 

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, ऑनलाइन सर्वे में पाया गया है कि कोरोना महामारी की वजह से पैदा होने वाले स्वास्थ्य मुद्दों की तुलना में लोग आर्थिक संकट से अधिक चिंतित हैं। अधिकतर लोग (79 प्रतिशत) लोग चिंतित हैं और (40 प्रतिशत) लोग भय की भावना से व (22 प्रतिशत) लोग दुख की भावना से घिरे हुए हैं। सर्वे में कहा गया है कि आर्थिक प्रभाव की चिंता लोगों (32 प्रतिशत) के मन में सबसे अधिक है, जबकि लॉकडाउन के दौरान दूसरे लोगों द्वारा ग़ैर जिम्मेदाराना व्यवहार किए जाने का डर (15 प्रतिशत) और इन सभी पर अनिश्चितता का डर (16 प्रतिशत) अन्य प्रमुख डर के कारणों में हैं।

चिंता का एकमात्र सबसे बड़ा कारण लॉकडाउन के आर्थिक प्रभाव से संबंधित था, जबकि इसके बाद दूसरा बड़ा कारण अनिश्चितता थी कि यह लॉकडाउन कितने समय तक चलेगा।

बता दें कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन की वजह से 12 करोड़ से ज़्यादा लोगों की रोज़ी-रोटी छिन गई है। इनमें छोटे-मोटे काम धंधा करने वाले लोग और इस तरह के धंधों से जुड़ी दुकानों या कंपनियों में काम करने वाले लोग ज़्यादा हैं। सेंटर फ़ॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी यानी सीएमआईई ने इस महीने की शुरुआत में ही यह आँकड़ा दिया है। इसने अनुमान लगाया है कि इसमें से कम से कम 75 प्रतिशत तो दिहाड़ी मज़दूर ही हैं। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

एक मोटे अनुमान के मुताबिक़ अप्रैल महीने में लगभग 1.80 करोड़ छोटे व्यवसायियों का धंधा बंद हो गया। आँकड़ों के अनुसार देश में इस तरह के लगभग 7.80 करोड़ धंधे थे, लेकिन अप्रैल में यह संख्या घट कर 6 करोड़ हो गई। मतलब साफ है, लगभग 1.80 करोड़ कारोबार बंद हो गए। 

कोरोना वायरस महामारी के पहले से ही लोगों की नौकरियाँ जा रही थीं अब लॉकडाउन के बाद ने तो स्थिति भयावह कर दी है। सीएमआईई ने मई की शुरुआत में जारी आँकड़े में कहा था कि लॉकडाउन से पहले 15 मार्च वाले सप्ताह में जहाँ बेरोज़गारी दर 6.74 फ़ीसदी थी वह तीन मई को ख़त्म हुए सप्ताह में बढ़कर 27.11 फ़ीसदी हो गई है। हालाँकि पूरे अप्रैल महीने में बेरोज़गारी दर 23.52 फ़ीसदी रही जो मार्च महीने में 8.74 फ़ीसदी रही थी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें