loader

यूपी में तीन साल तक श्रम क़ानूनों पर रोक, कोरोना के बहाने मज़दूरों का हक़ छीना?

क्या कोरोना महामारी के समय संकट की आड़ में मज़दूरों का हक़ छीना जा सकता है? क्या जिस समय समाज के वंचित तबक़े को सहारे की ज़रूरत है, उनसे उनकी बची-खुची सुरक्षा भी छीनी जा सकती है?

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार ने एक अध्यादेश लाकर राज्य के ज़्यादातर श्रम क़ानूनों पर तीन साल के लिए रोक लगा दी है। 

अर्थतंत्र से और खबरें

क्या कहना है सरकार का?

राज्य सरकार की कैबिनेट ने यह कह कर इस अध्यादेश को मंजूरी दे दी है कि कोरोना की वजह से राज्य की आर्थिक गतिविधियाँ बुरी तरह प्रभावित हुई हैं, लिहाज़ा राज्य की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए इसकी ज़रूरत है। 

'उत्तर प्रदेश टेम्पोरेरी एग्जेंप्शन फ़्रॉम सर्टन लेबर लॉज़ ऑर्डिनेंस 2020' में कहा गया है कि तीन मामलों को छोड़ कर तमाम श्रम क़ानूनों में छूट दी जा रही है। अर्थात, तीन मामलों को छोड़ कर और किसी मामले में श्रम क़ानून लागू नहीं होंगे।
अध्यादेश में कहा गया है कि राज्य में पूंजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए ये बदलाव किए जा रहे हैं। ये बदलाव मौजूदा और नए हर तरह की ईकाइयों पर लागू होंगे।

ऑर्डिनेंस का मतलब?

ये नियम ट्रेड यूनियन, कामकाज में होने वाले विवाद, कामकाज की स्थिति, ठेका समेत तमाम मुद्दों पर लागू होंगे। उत्तर प्रदेश की देखादेखी मध्य प्रदेश में भी श्रम क़ानूनों इसी तरह के बदलाव लाए गए हैं। 

मध्य प्रदेश में कामकाज की अविध 8 घंटे से बढ़ा कर 12 घंटे करने का प्रस्ताव है। यह व्यवस्था भी कर दी गई है कि किसी भी कर्मचारी को मनमाफ़िक तरीके से नौकरी पर रखा जा सकता है, उसे हटाया भी जा सकता है।
श्रम विभाग पहले श्रम क़ानूनों के उल्लंघन की जाँच करने के लिए कारखानों का मुआयना करता था, वह भी नहीं कर सकेगा। इसी तरह के बदलाव राजस्थान और गुजरात में भी किए गए हैं।

बर्बरतापूर्ण!

श्रमिक संगठनों और वामपंथी पार्टियों ने इसकी तीखी आलोचना की है। भारतीय मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े सेंटर फ़ॉर इंडियन ट्रेड यूनियन यानी सीटू ने कहा इन बदलावों को बर्बरतापूर्ण क़रार दिया। सीटू ने कहा कि 'मज़दूरों पर ग़ुलामी वाली शर्ते थोपी जा रही हैं, देश पूंजीपतियों के बड़े व्यापारिक घरानों की लूट का शिकार है।'

सीपीआईएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा, 'श्रमिकों को बर्बाद करने का मतलब है आर्थिक विकास को नष्ट करना। भारत को बचाने के लिए बीजेपी के भयानक अजेंडे को रोकना होगा।'
बता दें कि श्रम क़ानूनोें में ये बदलाव ऐसे समय हो रहे हैं जब श्रमिक वर्ग घनघोर संकट में है, बेरोज़गारी चरम पर है। कोरोना वायरस महामारी के पहले से ही लोगों की नौकरियाँ जा रही थीं अब लॉकडाउन के बाद ने तो स्थिति भयावह कर दी है। लॉकडाउन से पहले 15 मार्च वाले सप्ताह में जहाँ बेरोज़गारी दर 6.74 फ़ीसदी थी वह तीन मई को ख़त्म हुए सप्ताह में बढ़कर 27.11 फ़ीसदी हो गई है।
सेंटर फ़ॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी यानी सीएमआईई ने यह ताज़ा आँकड़ा जारी किया है। हालाँकि पूरे अप्रैल महीने में बेरोज़गारी दर 23.52 फ़ीसदी रही जो मार्च महीने में 8.74 फ़ीसदी रही थी। 
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें