loader

'वाइब्रेंट गुजरात' के नाम पर झाँसा दे रहे हैं शोमैन मोदी? 

विदेशी पूँजी निवेश आकर्षित करने के मक़सद से शुरू किया गया 'वाइब्रेंट गुजरात' एक 'मेगा इवेंट' के ज़रिए 'ब्रांड मोदी' स्थापित करने में लगा है। विदेशी निवेश नही हो रहा है, आख़िर क्यों?
शीतल पी. सिंह

 अंग्रेज़ी में एक शब्द है Hoax! गूगल ने इसका अनुवाद किया झांसापट्टी। देश की सबसे बड़ी झांसापट्टी जिसे 'वाइब्रेंट गुजरात' के नाम से जाना जाता है, उसका उद्घाटन प्रधानमंत्री शुक्रवार को करेंगे। वायब्रेंट गुजरात 2003 से शुरू हुआ। यह देश विदेश से औद्योगिक निवेश गुजरात में लाने की राज्य सरकार की विशेष पहल का प्रतीक बताया गया, जिसके नियंता के रूप में नरेंद्र मोदी जी का बेहद खर्चीला महिमामंडन हुआ, जो साल दर साल जारी है। याद किया जा सकता है कि यह वही समय था जब मोदी पर गुजरात को भयानक सांप्रदायिक दंगों का प्रायोजन करने के बेहद गंभीर आरोप देश दुनिया के मीडिया में अनवरत बजबजा रहे थे।
जब मोदी जी प्रधानमंत्री बने, उसके ठीक बाद के वाइब्रेंट गुजरात के बारे में तत्कालीन अमेरिकी विदेश मंत्री जान केरी ने कहा था, 'मुझे पता है कि गुजरात में अपने नेतृत्व के दौरान उन्होंने जो हासिल किया, उसकी प्रतिष्ठा के कारण भारत के लोगों ने उनके पक्ष में यह जनादेश (लोकसभा में बहुमत) दिया।' पर इसी अमेरिका और उसके साथ ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, यूरोपीय यूनियन के सदस्य समेत कई देश 2019 के वाइब्रेंट गुजरात से गायब हैं, जो वहाँ बीते वर्षों में हर बार मौजूद रहे थे। 
vibrant gujarat a narendra modi hoax? - Satya Hindi
'वाइब्रेंट गुजरात' के नाम पर 'ब्रांड मोदी' स्थापित करने की कोशिश

ब्रिटिश प्रशासन ने नवंबर 2018 में ही कह दिया था, 'हमने विगत वर्ष इस आयोजन में अपने प्रतिनिधिमंडल को इसमें लाने, ले जाने आदि पर पचास हज़ार पौंड ख़र्च किए, जिसका हमें कोई प्रतिफल नहीं मिला। हम ब्रिटिश करदाताओं के पैसे सैर-सपाटों पर ख़र्च नहीं कर सकते।' ग़ौरतलब है कि ब्रिटेन गुजरात में प्रत्यक्ष विदेशी पूँजी यानी एफ़डीआई लाने वालों में अग्रणी देश रहा है। सत्य हिन्दी.कॉम ने उन कारकों की पड़ताल करते हुए पाया कि सिर्फ ब्रिटेन ही नहीं, दूसरे देसी उद्योगपति भी ऐसा ही सोचते हैं। 2003 के वाइब्रेंट गुज़रात के बाद 2018 के वाइब्रेंट गुजरात तक 14,165 प्रस्तावों को खुद सरकार ने 'ज़ीरो स्टार्ट' माना। इस पूरे दौरान कुल 51,738 शुरुआती सहमति पत्र यानी एम.ओ. यू. पर दस्तख़त हुए थे। 

मशहूर एन. आर. आई. व्यवसायी प्रसून मुखर्जी शिपिंग, बंदरगाह, बिजली और विशेष निवेश में 80,000 करोड़ के एम. ओ. यू. कर गये थे, वापस नहीं लौटे। हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी का 40,000 करोड़ का वाटर फ़्रंट सिटी प्रोजेक्ट का अता-पता नहीं है। सबीर भाटिया की 30,000 करोड़ निवेश की नैनो सिटी अदृश्य है ।

सरकार की सफ़ाई है कि परियोजना के लिए ज़रूरी ज़मीन के अधिग्रहण में देरी, परिचालन या वित्तीय व्यावहारिकता की कमी से ये प्रोजेक्ट नहीं आ सके। अपनी सफलता गिनाने के लिए सरकार एस्सार, रिलायंस, अडानी और टोरेंट ग्रुप का हवाला देती है, जिनके वादे (उसके अनुसार) 70 फ़ीसद तक पूरे हुए हैं। पर आलोचकों का कहना है कि रिलांयस ने पहले से चल रही जामनगर रिफ़ाइनरी में ही ज़्यादा निवेश किया और उसके बाद जियो टेली सर्विसेज में, जो देशव्यापी है। 

vibrant gujarat a narendra modi hoax? - Satya Hindi
अडानी समूह की बिजली परियोजा (फ़ाइल फ़ोटो)

चालू परियोजनाएँ 

बिजली और बंदरगाह उद्योग में अडानी समूह की कई परियोजनाएँ पहले से चल रही हैं। इनमें हुए निवेश को बाइब्रेंट गुजरात में जोड़ दिया गया है। टोरेंट ने भी बिजली और अन्य चलती हुई इकाइयों में ही निवेश किए हैं। सौर ऊर्जा को बढ़ा चढ़ा-कर बताया गया है जो मुख्यत: मित्र कंपनियों को किसानों से हड़पी गई ज़मीन के बड़े-बड़े आबंटन तक सीमित है। आलोचक राज्य की सकल घरेलू उत्पाद के आँकड़े सामने रखते हैं, जिनमें 2011-12 से लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। 

गुजरात प्रत्यक्ष विदेश निवेश में लगातार पिछड़ रहा है। महाराष्ट्र और दिल्ली इससे कहीं आगे निकल चुके हैं। उद्योग विभाग की वेबसाइट स्वीकारती है कि 1983 से अगस्त 2016 तक कुल साढ़े नौ लाख करोड़ का निवेश हुआ, जबकि 2003 के बाद करीब नब्बे लाख करोड़ के एम. ओ. यू. पर दस्तख़त हुए हैं।

श्वेतपत्र की माँग

कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल इन आँकड़ों को सामने रखकर चुनौती देते हैं कि सरकार इस पर श्वेतपत्र लाए कि वाइब्रेंट गुजरात के आयोजनों और प्रचार-प्रसार पर अब तक कितना ख़र्च हुआ है और तमिलनाडु, आँध्र प्रदेश, महाराष्ट्र दिल्ली में कितना? और इससे कितना निवेश आया है? वे कहते हैं कि इससे सरकारी ख़र्च पर सिर्फ 'मोदी ब्रांड' का झूठा प्रचार प्रसार किया गया है। इस आयोजन के ऊपर दूसरी तरह जालसाज़ी के भी शर्मिन्दा करने वाले तथ्य सामने आते रहे हैं। परन्तु मीडिया मैनेजमेंट इतना कामयाब रहा कि कभी यह विवाद आकार न ले सके। 

2017 के वाइब्रेंट गुजरात के बारे में 'मुंबई मिरर' और 'गुजरात समाचार' ने छापा, 'अहमदाबाद, गांधीनगर, पाटन और साबरकाँठा के सुदर्शन व्यक्तित्व के सरकारी अध्यापकों को गाँधीनगर के महात्मा मंदिर में सूट-बूट पहनकर उद्योगपति दिखने की ट्रेनिंग दी गई। जिससे वे पंडाल की करीब साढ़े सात सौ उद्योगपतियों की उपस्थिति सीमा को 'ओवरफ्लो' करता हुआ दिखा सकें।' स्थानीय कलेक्टरों पर 'योग्य अभ्यर्थियों' को चुनने और ट्रेनिंग दिलवाने की ज़िम्मेदारी थी। मोदी जी राजनीति के शोमैन हैं और इसने उन्हे सफलता दिलाई है। यह और बात है कि अवाम इस सबसे हमेशा असफल ही होती रही है और होती रहेगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शीतल पी. सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें