loader

अनुच्छेद 370: कश्मीर में कैसे निकल रहे हैं अख़बार?

इस साल पाँच अगस्त को अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद कश्मीर में वास्तव में क्या हो रहा है, क्या आपको पता है? कैसे अख़बार निकल रहे हैं? घाटी की ख़बरें कैसे आ रही हैं? चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी, कँटीले तार और चेकिंग। शुरुआत में तो आवाजाही के कोई साधन नहीं, न लैंडलाइन और न ही मोबाइल फ़ोन। और बाद में सरकारी फ़ैसिलिटेशन सेंटर की सुविधा। इसके लिए एक छोटा-सा कमरा। क़रीब दस कंप्यूटर और लैपटॉप के लिए एक -दो लैन केबल। लेकिन घाटी में क़रीब 400 पत्रकार। क्या सरकार ने जो कंप्यूटर और इंटरनेट मुहैया कराये हैं वे पर्याप्त हैं? सुनिए घाटी के ही पत्रकारों की ही ज़ुबानी। कुछ स्थानीय पत्रकारों ने अपनी आपबीती सुनाई स्मिता शर्मा को जो हाल ही में कश्मीर से लौटी हैं-

Satya Hindi Logo जब मुख्यधारा का मीडिया देख कर न देखे, सुन कर न सुने, गोद में हो, लोभ में हो या किसी डर में, तब सत्य की लड़ाई के लिए क्या आप साथ आएँगे? स्वतंत्र पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए हमें केवल भारतीय नागरिकों से आर्थिक सहयोग की ज़रुरत है।
सहयोग राशि के लिए नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें
स्मिता शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें