loader
फ़ाइल फ़ोटो

4 माह के लॉकडाउन से देश कराह रहा, 11 माह की पाबंदी में जम्मू-कश्मीर में क्या हाल?

जब सिर्फ़ चार महीने के लॉकडाउन से देश ही नहीं, बल्कि राज्यों की भी अर्थव्यवस्था तबाह हो गई है तो फिर जहाँ 11 महीने से लॉकडाउन है वहाँ क्या हालत होगी! क्या इसकी कल्पना की जा सकती है? 4 महीने के लॉकडाउन में ही कराहते देश में जम्मू-कश्मीर ऐसा राज्य है जहाँ 11 महीने से 'लॉकडाउन' है। कहीं ज़्यादा सख़्त लॉकडाउन। ज़ाहिर है इसका असर भी उतना ही भयावह होना तय था। इसी बात को जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार फ़ोरम ने एक रिपोर्ट में माना है। 

जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार फ़ोरम ने एक रिपोर्ट में कहा है कि लॉकडाउन का आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक प्रभाव जम्मू-कश्मीर क्षेत्र और यहाँ के लोगों पर 'विनाशकारी' रहा है। यानी लॉकडाउन ने सिर्फ़ अर्थव्यवस्था को ही तबाह नहीं किया है, बल्कि हर चीज को इसने प्रभावित किया है। 

ताज़ा ख़बरें

इस फ़ोरम की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मदन बी लोकुर और जम्मू-कश्मीर के लिए वार्ताकार समूह की सदस्य रहीं राधा कुमार ने की। इस फ़ोरम में इन दोनों के अलावा पूर्व जज एपी शाह व हसनैन मसूदी, पूर्व नौकरशाह गोपाल पिल्लई व निरुपमा राव और लेफ़्टिनेंट जनरल एच एस पनाग (सेवानिवृत्त) सहित 19 सदस्य भी शामिल थे। फ़ोरम ने कहा है कि जब राज्य को दो भागों में बाँटा गया तब अगस्त 2019 से लेकर जुलाई 2020 तक क़रीब 11 महीने के लॉकडाउन ने उद्योगों को ज़ोरदार झटका दिया है। अधिकतर लोगों को या तो डिफ़ॉल्टर बना दिया है या उनका धंधा बंद करा दिया है। हज़ारों लोगों की नौकरी गई है या फिर सैलरी कम हुई है। 

जम्मू-कश्मीर के लिए फ़ोरम की रिपोर्ट में क्या कहा गया है उससे पहले यह जान लीजिए कि चार महीने के लॉकडाउन में देश में क्या हुआ। कोरोना संकट के कारण 24 मार्च को घोषित किए गए लॉकडाउन के क़रीब एक महीने में यह रिपोर्ट आ गई थी कि 10 करोड़ से ज़्यादा लोग बेरोज़गार हो गए थे। आर्थिक गतिविधियाँ ठप होने और काम बंद होने से शहरों से करोड़ों आप्रवासी लोग अपने-अपने घरों को जाने को मजबूर हुए। कई लोगों के सामने भूखे मरने तक की नौबत आ गई। स्कूल, कॉलेज, मेट्रो, जिम, सिनेमा हॉल सब बंद रहे। 

स्थिति ज़्यादा ख़राब होने लगी तो ज़िंदगी को पटरी पर लाने के लिए 68 दिनों के लॉकडाउन बाद अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की गई। लॉकडाउन के बीच ही यह प्रक्रिया जारी है।

अब जम्मू-कश्मीर की स्थिति को देखिए। पिछले साल अगस्त में जब अनुच्छेद 370 में बदलाव किया गया और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया था तब इंटरनेट के साथ ही परिवहन-व्यवस्था व दूसरी सेवाओं पर कई पाबंदियाँ लगाई गई थीं। सैकड़ों लोगों को नज़रबंद किया गया। बाद में पाबंदियों में धीरे-धीरे ढील दी गई। 7 महीने बाद इस साल मार्च महीने में जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोशल मीडिया से पाबंदी हटाई। तब भी लोगों को इंटरनेट की स्पीड 2जी की ही मिली। हिरासत और फिर राजनीतिक नज़रबंदी में रहे राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को 24 मार्च को रिहा किया गया। इसस दो हफ़्ते पहले उमर के पिता फ़ारूक़ अब्दुल्ला को भी रिहा कर दिया गया था। जबकि राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती अभी भी नज़रबंद हैं।

मार्च का यही वह महीना है जब कोरोना संकट के कारण पूरे देश भर में लॉकडाउन लगाया गया। इसमें जम्मू-कश्मीर भी शामिल है। इसका मतलब यह हुआ कि पिछले साल 5 अगस्त से लगाई गई पाबंदी धीरे-धीरे हटाई जा रही थी कि कोरोना के कारण लॉकडाउन लगा दिया गया। यानी पहले से ही बदहाल स्थिति में पहुँच गए जम्मू कश्मीर के लिए लॉकडाउन और ख़तरनाक साबित हुआ। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

शिक्षा व्यवस्था तबाह!

इसी स्थिति पर जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार फ़ोरम ने रिपोर्ट तैयार की है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन में स्कूल और विश्वविद्यालय बंद रहे और इससे शिक्षा व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई। यही स्थिति स्वास्थ्य व्यवस्था की भी रही। कर्फ़्यू और सड़कों के बंद रहने से स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि 'कश्मीर भारत के लोकतंत्र के लिए लिटमस टेस्ट के तौर पर रहा है और जैसा कि यह रिपोर्ट संकेत करती है हम इसमें बुरी तरह असफल रहे हैं'।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पाबंदियों का सबसे ज़्यादा बुरा असर यह रहा कि 'जम्मू कश्मीर के लोगों के हित की बात की नुमाइंदगी करने के लिए कोई भी चुना हुआ प्रतिनिधि नहीं था'।
फ़ोरम ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि 'हालाँकि कुछ राजनीतिक नज़रबंदियों को रिहा किया गया, लेकिन उनमें से कई को यह शपथ लेनी पड़ी कि वे सरकार के काम की आलोचना नहीं करेंगे'। रिपोर्ट के अनुसार इन वजहों से कश्मीर घाटी के लोग क़रीब-क़रीब अलगाव महसूस करने लगे। फ़ोरम ने यह भी कहा कि स्थानीय मीडिया भी बुरी तरह प्रभावित हुआ। रिपोर्ट के अनुसार पत्रकारों को प्रताड़ित किया गया और सख़्त जुर्माना लगाया गया। फ़ोरम ने यह भी कहा है कि मीडिया पर नयी पॉलिसी स्वतंत्र मीडिया और अभिव्यक्ति की आज़ादी पर गहरा आघात है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमित कुमार सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें