loader
प्रतीकात्मक तसवीर

जम्मू-कश्मीर: 5 जवानों के शहीद होने के बाद आतंकियों से मुठभेड़

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में आतंकवादियों द्वारा किए गए एक विस्फोट में सेना के पाँच जवानों के मारे जाने के एक दिन बाद शनिवार सुबह सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। यह राजौरी सेक्टर के कंडी जंगल में आतंकवादियों के सफाए के लिए चल रहे अभियान का हिस्सा है। पीआरओ डिफेंस जम्मू ने एक बयान में इसकी पुष्टि की है कि राजौरी के कंडी जंगल में मुठभेड़ चल रही है। राजौरी और बारामूला जिलों में सुरक्षा बलों के साथ अलग-अलग मुठभेड़ों में शनिवार को दो आतंकवादी मारे गए।

सेना ने उन आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए एक अभियान शुरू किया है जो हाल ही में सेना पर हुए हमले के लिए जिम्मेदार थे जिसमें पुंछ में पांच सैनिक मारे गए थे।

ताज़ा ख़बरें

सेना का अभियान तब शुरू हुआ है जब जम्मू-कश्मीर के राजौरी में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच शुक्रवार की सुबह मुठभेड़ हुई थी। कश्मीर में तैनात उत्तरी कमान द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, राजौरी में अभियान के दौरान आतंकवादियों द्वारा किए गए एक विस्फोट में पांच सैन्यकर्मी शहीद हो गये। इसके बाद सुरक्षा कारणों को ध्यान में रखते हुए जिले में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया।

सेना ने एक बयान में कहा है कि शुक्रवार को राजौरी में हमले में शामिल आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए सुबह करीब साढ़े सात बजे एक अभियान शुरू किया गया।

सेना द्वारा शुक्रवार को दिए गए बयान में बताया गया था कि यह घटना उस समय हुई, जब सेना की टीम राजौरी सेक्टर के कंडी वन क्षेत्र में तलाशी अभियान चला रही थी। आतंकियों ने मंगलवार को भाटा धूरियन के तोता गली इलाके में सेना के एक ट्रक पर घात लगाकर हमला किया। इस अभियान में कंडी जंगल के घने वनों और चट्टानी इलाके में स्थित एक गुफा में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना के आधार पर गुरुवार को एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया था। 
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें
शुक्रवार सुबह सात बजे के आसपास आतंकियों और सुरक्षाबलों की मुठभेड़ हुई थी। मुठभेड़ में दोनों ओर से गोलीबारी हुई। आतंकियों ने घिरा हुआ पाकर वहां से भागने के लिए एक विस्फोट किया जिसमें सेना के पांच जवान शहीद हो गये।
सेना द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि आसपास से अतिरिक्त टीमों को मुठभेड़ स्थल पर भेजा गया। जबकि घायल सुरक्षाकर्मियों को ऊधमपुर के कमांड अस्पताल सेंटर में भर्ती कराया गया है। प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, आतंकवादियों का एक समूह क्षेत्र में घिरा हुआ है।
फिलहाल आतंकवादियों के हताहत होने की कोई जानकारी नहीं है, लेकिन ऑपरेशन जारी है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें