loader

डॉक्टर को बोलने से रोका, कब तक कश्मीर के हालात छुपाएगी सरकार? 

अभी तक कश्मीर से ख़बरें आ रही थीं कि अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के बाद वहाँ लोग बेहद नाराज हैं और बाज़ार खोलने के लिए तैयार नहीं हैं। यह भी ख़बरें आईं कि घाटी में बीमार लोगों को दवाएँ नहीं मिल पा रही हैं और वे इलाज के इंतजार में हैं। लेकिन अब जो वाकया राज्य के प्रशासन ने किया है, उसे निश्चित रूप से शर्मनाक कहा जाना चाहिए। 
श्रीनगर के सरकारी मेडिकल कालेज में यूरोलॉजिस्ट उमर सालिम प्रेस के सामने आए और वह मीडिया से बात करना चाहते थे। वह कश्मीर में बीमार लोगों को इलाज को लेकर जो परेशानी हो रही है, उसे मीडिया को बताना चाहते थे। उमर ने अपने हाथ में एक प्लेकार्ड भी लिया हुआ था, जिसमें लिखा था ‘यह एक अनुरोध है न कि विरोध।’ लेकिन ये क्या हुआ। उमर को बोलते हुए सिर्फ़ 10 मिनट ही हुए थे कि पुलिस वहाँ पहुँच गयी और उमर को अपने साथ ले गयी या यूँ कहें कि उठा ले गयी। इससे एक बात पूरी तरह साफ़ हो गयी कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन यह क़तई नहीं चाहता कि कश्मीर के वास्तविक हालात दुनिया के सामने आएँ। 
ताज़ा ख़बरें
उमर को खोजने की बहुत कोशिश की गई लेकिन सभी कोशिशें नाकाम रहीं। खोजते भी कैसे क्योंकि सरकार तो टेलीफ़ोन सेवाओं को खोलने के लिए तैयार नहीं है। सरकार और मीडिया के बीच होने वाली बातचीत भी दो दिन से नहीं हुई। 
लेकिन सवाल यह है कि आख़िर उमर के मीडिया के सामने आने से राज्य के प्रशासन को ऐसी क्या परेशानी हो गई कि उसने उन्हें बीच से ही उठा लिया। आख़िर कश्मीर में क्या चल रहा है?
न तो वह विपक्षी नेताओं को वहाँ जाने देने के लिए तैयार है और न ही मीडिया को। हालाँकि वह जोर-शोर से यह दावे ज़रूर कर रहे हैं कि कश्मीर के हालात सामान्य हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के एक-दो वीडियो जारी करके उसने यह जताने की कोशिश भी की। लेकिन हाल ही में कुछ अंतराराष्ट्रीय मीडिया एजेंसियों ने यह बताया कि कश्मीर में प्रतिबंधों में ढील देने के बाद बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे हैं और उन्होंने अनुच्छेद 370 को हटाने का पुरजोर विरोध किया है।
द टेलीग्राफ़ के मुताबिक़, उमर ने मीडिया से कहा, ‘टेलीफ़ोन सेवाओं को बंद किये जाने और सार्वजनिक परिवहन लगभग ठप होने से लोगों की जान को ख़तरा है और ऐसे लोगों के लिए तो ख़ासी मुश्किल है जिन्हें डायलिसिस या कीमोथैरेपी की ज़रूरत है।’ द टेलीग्राफ़ के मुताबिक़, उमर ने कहा कि उन्हें इस बारे में नहीं पता कि राज्य में लगाये गये प्रतिबंधों की वजह से किसी की मौत हुई है या नहीं लेकिन वह ऐसे लोगों को जानते हैं जिन्होंने अपने इलाज को हाल-फिलहाल के लिए रोक दिया है।
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें
अख़बार के मुताबिक़, उमर ने कहा, ‘मेरे पास एक मरीज था जिसकी 6 अगस्त को कीमोथैरेपी होनी थी। लेकिन वह हमारे पास 24 अगस्त को आया लेकिन दवा न होने के कारण उसकी कीमोथैरेपी नहीं हो सकी। एक और मरीज था जिसकी कीमोथैरेपी की दवाएँ दिल्ली से आनी थीं लेकिन वह दवाओं का ऑर्डर ही नहीं कर सका। उसकी कीमोथैरेपी लंबे समय तक के लिए टालनी पड़ गई।’ 

द टेलीग्राफ़ के मुताबिक़, उमर ने कहा, ‘ऐसे भी मरीज हैं जिन्हें हर हफ़्ते में तीन बार डायलिसिस की ज़रूरत होती है लेकिन वे लोग हफ़्ते में एक ही बार आ रहे हैं। कई मरीज ऐसे भी हैं जो बैंकों में नक़दी की कमी के कारण अस्पताल नहीं आ पा रहे हैं और दवाईयाँ नहीं ख़रीद पा रहे हैं।’

उमर ने मीडिया से कहा कि आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत राज्य में 15 लाख मरीज पंजीकृत हैं लेकिन कोई भी मरीज इस योजना का फ़ायदा लेने के लिए अस्पताल नहीं आ रहा है क्योंकि इंटरनेट बंद है और इसलिए इसका कार्ड काम नहीं कर रहा है।
संबंधित ख़बरें
द टेलीग्राफ़ के मुताबिक़, उमर ने सरकार से यह भी अपील की कि वह सभी अस्पतालों और दवाओं के काम से जुड़ी संस्थाओं की लैंडलाइन फ़ोन सेवाओं को खोल दे जिससे मरीजों को परेशानी न हो।’ उमर ने कहा, ‘अगर लोगों को डायलिसिस नहीं मिलेगा तो वे मर जाएँगे। कैंसर के मरीजों को कीमोथैरेपी नहीं मिलेगी तो वे मर जाएँगे। जिन मरीजों का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है, वे मर सकते हैं।’ उमर ने जितनी बातें कहीं उनसे कश्मीर के हालात का अंदाजा लगा पाना मुश्किल नहीं है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें