loader

कोरोना के कारण इस साल नहीं होगी अमरनाथ यात्रा, बोर्ड ने किया एलान

कोरोना महामारी की वजह से इस साल  मशहूर अमरनाथ यात्रा नहीं होगी। श्री अमरनाथ यात्रा बोर्ड ने इसका एलान करते हुए कहा है कि मौजूदा स्थितियों में उसे भारी मन से यह फ़ैसला करना पड़ रहा है। 

यह लगातार दूसरा साल है, जब अमरनाथ यात्रा स्थगित करनी पड़ी है। पिछले साल जम्मू-कश्मीर की विशेष स्थिति ख़त्म करने से जुड़े फ़ैसले के मद्देनज़र सुरक्षा कारणों से यह फैसला लिया गया था। 

जम्मू-कश्मीर की ऊँची पहाड़ियों पर बने गुफ़ा के अंदर बर्फ से स्वयं बनने वाले शिवलिंग का दर्शन करने इस समय लाखों श्रद्धालु जाते हैं। यह हिन्दुओं की आस्था से जुड़ा मामला तो है ही, जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण अंग है क्योंकि लाखों लोग इससे अपनी रोजी रोटी का इंतजाम कर लेते हैं। 

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

श्री अमरनाथ यात्रा बोर्ड ने मंगलवार को कहा, 

'मौजूदा स्थितियों के आधार पर बोर्ड ने भारी मन से यह निर्णय लिया किय इस साल श्री अमरनाथ यात्रा करना उचित नहीं होगा। इससे बहुत ही दुख से यात्रा 2020 रद्द करने की घोषणा की जा रही है।'


श्री अमरनाथ यात्रा बोर्ड के बयान का अंश

यह दिलचल्प है कि इससे पहले शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अमरनाथ में बाबा बर्फानी का दर्शन किया था। उन्होंने स्वयं ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया कि 'सौभाग्यशाली हूँ कि जम्मू कश्मीर की पवित्र गुफा श्री अमरनाथ में बाबा बर्फानी के दर्शन करने का अवसर प्राप्त हुआ।' 

बता दें कि इसके पहले 8 जुलाई को यह फ़ैसला लिया गया था कि इस साल अमरनाथ यात्रा पाबंदियों के साथ होगी।  कोरोना महामारी के कारण प्रतिदिन 500 से अधिक तीर्थयात्रियों को भगवान शिव के पवित्र गुफा मंदिर की यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। 
इसके बाद नॉर्थ ब्लॉक में आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि यात्रा एक पखवाड़े के लिए 21 जुलाई से शुरू होगी। कुछ दिन पहले ही सेना ने कहा था कि अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने के लिए आतंकवादी गुट साजिश रच रहे हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें