loader

एससी, एसटी, ओबीसी आरक्षण के नाम पर ध्रुवीकरण की कोशिश में झामुमो?

क्या झामुमो ने झारखंड विधानसभा चुनावों में वोटों के ध्रुवीकरण के लिए एससी, एसटी, ओबीसी आरक्षण का कार्ड खेला है? क्या एससी, एसटी, ओबीसी को अपने पाले में लाने और अगड़ों-पिछड़ों के बीच के विभाजन को और तीखा करने के मक़सद से झारखंड मुक्ति मोर्चा ने घोषणा की है कि वह सत्ता में आई तो इन वर्गों के लोगों के लिए सरकारी नौकरियों में 67 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की जाएगी?

झामुमो ने मंगलवार को जारी अपने घोषणापत्र में कहा है कि उसकी सरकार बनी तो अनुसूचित जनजातियों के लिए 28 प्रतिशत, दूसरे पिछड़े वर्गों के लिए 27 प्रतिशत और अनुसूचित जातियों के लिए 12 प्रतिशत आरक्षण लागू करेगी। 

झारखंड से और खबरें
झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए झामुमो ने कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के साथ गठबंधन बनाया है। 

आदिवासी वोट बैंक को तोड़ने की कोशिश?

साल 2011 की जनगणना के अनुसार, झारखंड में अनुसूचित जनजातियों के लोगों की जनसंख्या 86, 45,042 है, जो पूरी जनसंख्या 3.19 करोड़ का लगभग 28 प्रतिशत है। इसी तरह राज्य में अनूसूचित जातियों की आबादी 11.8 प्रतिशत या 37 लाख के आसपास है। झारखंड में दूसरे पिछड़े वर्ग यानी ओबीसी की जनसंख्या 27 प्रतिशत यानी लगभग 85 लाख है। 

JMM trying to polarise votes in name of ST-SC-OBC reservation? - Satya Hindi
यानी यह साफ़ है कि राज्य की आबादी का बहुत बड़ा हिस्सा इस फ़ैसले से लाभान्वित होगा। अब तक राज्य में इन तीनों श्रेणियों को कुल मिल कर लगभग 50 प्रतिशत आरक्षण मिलता है। यानी यह साफ़ है कि राज्य सरकार को बिल ला कर महत्वपूर्ण बदलाव करने होंगे। 

इसके साथ ही यह सवाल उठता है कि क्या इसके पीछे सोच बीजेपी को चुनौती देना है? या झामुमो बीजेपी के साथ मिल कर ध्रुवीकरण करना चाहती है ताकि उसका सीधा फ़ायदा उसे मिले?

क्या कहते हैं 2014 के नतीजे?

इसे समझने के लिए 2014 के राज्य विधानसभा चुनावों पर एक नज़र डालते हैं। उस चुनाव में बीजेपी और ऑल इंडिया झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) को 81 में से 42 सीटों पर जीत हासिल हुई थी, यानी उसे बहुमत मिल गया था। उसके बाद इस बार के लोकसभा चुनावों में राज्य में बीजेपी-आजसू को 14 में से 13 सीटें मिलीं। इन दोनों ही नतीजों को ज़बरदस्त जीत माना जा सकता है। 

लोकनीति-सीएसडीएस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत की मुख्य वजह उसे अगड़ी जातियों और ओबीसी से बड़े पैमाने पर वोट मिलना है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अगड़ों में 50 प्रतिशत से ज़्यादा मतदाताओं ने बीजेपी को वोट दिया तो 40 प्रतिशत ओबीसी मतदाताओं की पसंद भी बीजेपी ही थी। 

JMM trying to polarise votes in name of ST-SC-OBC reservation? - Satya Hindi
इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अनुसूचित जनजाति यानी एसटी के वोटों का बँटवारा हुआ। एसटी वोट मुख्य रूप से बीजेपी और झामुमो में बँटा। बीजेपी को लगभग 30 प्रतिशत एसटी वोट मिले तो तक़रीबन 29 प्रतिशत एसटी वोट शिबू सोरेने की पार्टी की झोली में जा गिरे।

आदिवासी वोटों का बँटवारा

राज्य में 25 सीटें ऐसी हैंं, जहाँ एसटी वोट ज़ोरदार बहुमत में हैं और वे ही जीत-हार का फ़ैसला करते हैं। इन 25 में से बीजेपी को 11 और झामुमो को 12 सीटों पर जीत हासिल हुई। कांग्रेस को 10.8 प्रतिशत वोट तो मिले, पर इन 25 आदिवासी-बहुल सीटों में से एक पर भी जीतने में कामयाब नहीं हुई। 

ओबीसी और अनुसूचित जाति के लोगों को अपनी ओर खींचने की झामुमो की कोशिश की एक बड़ी वजह साफ़ हो जाती है जब हम 2014 के वोटिंग पैटर्न पर थोड़ी और गहराई से नज़र डालते हैं। मोटे तौर पर बीजेपी की छवि ग़ैर-आदिवासियों और दिकू (बाहरी) लोगों की पार्टी के रूप में रही है। उसे ग़ैर-आदिवासियों के वोट का बड़ा हिस्सा मिला।नीति-सीएसडीएस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 2014 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने इस ग़ैर-आदिवासी वोट बैंक को और मजबूत किया।

JMM trying to polarise votes in name of ST-SC-OBC reservation? - Satya Hindi
https://journals.sagepub.com/doi/pdf/

बीजेपी का बढ़ता प्रभाव

सेज पब्लिकेशन ने अपने एक अध्ययन में पाया गया है कि ओरांव, संथाल और सरना समुदायों में बीजेपी की पैठ गहरी हुई है। मंगलवार को टाना भगत समुदाय के प्रमुख ने भी बीजेपी के पक्ष में मतदान करने की अपील कर दी। इसका असर भी पड़ सकता है।

पर्यवेक्षकों का कहना है कि मिशनरियों का विरोध करने के नाम पर आरएसएस और विश्व हिन्दू परिषद से जुड़े लोग जिस तरह आदिवासियों के बीच जा रहे हैं, उससे उस समुदाय का भी हिन्दूकरण हो रहा है। इसका सीधा फ़ायदा बीजेपी को मिलने लगा है।

इसके साथ ही पार्टी ने यह भी कहा है कि  निजी कंपनियों की नौकरियों का कम से कम 75 प्रतिशत हिस्सा स्थानीय लोगों को मिले, यह व्यवस्था भी की जाएगी। क्या झामुमो आरक्षण की बात कह कर आदिवासियों और ओबीसी को अपनी ओर खींचना चाहती है, यह सवाल लाज़िमी है। सवाल यह भी है कि इस रणनीति का क्या और कितना असर पड़ेगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रमोद मल्लिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें