loader

कर्नाटक: बीजेपी के मंत्री बोले- किसी मुसलिम को टिकट नहीं देंगे

आपने केंद्र सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह का वो बयान शायद सुना होगा जिसमें उन्होंने कहा था कि मुसलिमों को 1947 में पाकिस्तान भेज देना चाहिए था। आपको ये भी याद होगा कि उत्तर प्रदेश जैसा सूबा, जहां मुसलिम आबादी लगभग 4 करोड़ है, वहां बीजेपी ने बीते विधानसभा चुनाव में एक भी मुसलिम को टिकट नहीं दिया था। यही हाल गुजरात का है, जहां अच्छी-खासी मुसलिम आबादी है लेकिन बीजेपी किसी मुसलिम नेता को उम्मीदवार नहीं बनाती, इससे ज़्यादा कुछ अब कर्नाटक में हुआ है। 

संविधान की शपथ लेकर कर्नाटक की बीजेपी सरकार में मंत्री बने केएस ईश्वरप्पा ने कहा है कि उनकी पार्टी किसी मुसलिम को उम्मीदवार नहीं बनाएगी। 

ताज़ा ख़बरें

कर्नाटक में बेलगावी लोकसभा सीट पर उपचुनाव होना है। यह सीट केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी के निधन से खाली हुई है। अंगड़ी का कोरोना संक्रमित होने के कारण निधन हो गया था। 

येदियुरप्पा सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री ईश्वरप्पा ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘हम किसी को भी टिकट दे देंगे, चाहे वह कुरुबास हो, लिंगायत हो, वोक्कालिगा हो या फिर ब्राह्मण लेकिन हम निश्चित रूप से किसी मुसलिम को टिकट नहीं देंगे।’ उन्होंने आगे कहा कि मुसलिम को टिकट देने का सवाल ही पैदा नहीं होता और हम ऐसे शख़्स को टिकट देंगे जो हिंदुत्व से जुड़ा होगा। 

ईश्वरप्पा पहले भी ऐसे बयान दे चुके हैं, जिससे देश के दो बड़े समुदायों के बीच नफ़रत फैले। 2019 में उन्होंने कहा था, ‘हम कर्नाटक में मुसलिमों को टिकट नहीं देते क्योंकि वे हम पर भरोसा नहीं करते। हम पर भरोसा कीजिए तब हम देखेंगे।’ वह जेडीएस से बीजेपी में आए एक नेता को- क्या पार्टी टिकट देगी, इस सवाल का जवाब दे रहे थे। 

कांग्रेस-एआईएमआईएम की कड़ी प्रतिक्रिया 

ईश्वरप्पा के बयान पर कांग्रेस और एआईएमआईएम ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने ईश्वरप्पा के बयान पर कहा है कि राज्य सरकार को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग को बंद कर देना चाहिए। शिवकुमार ने कहा, ‘ऐसे लोगों ने संविधान नहीं पढ़ा है, ऐसे लोग संविधान को नहीं जानते और वे संविधान की इज्जत भी नहीं करते और यही आज देश का भाग्य है।’ 

हैदराबाद के सांसद असदउद्दीन ओवैसी ने ईश्वरप्पा के बयान पर ट्वीट कर कहा कि यह घृणित और शर्मनाक है लेकिन हैरान करने वाला नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हिंदुत्व के मुताबिक़ केवल एक समुदाय के पास राजनीतिक ताक़त रहे और बाक़ी लोग ग़ुलाम बने रहें। यह विचारधारा हमारे संविधान के साथ तालमेल नहीं खाती।’ ओवैसी ने कहा कि हमारा संविधान आज़ादी, भाईचारे, समानता और न्याय की बात करता है। 

KS Eshwarappa controversial comment for muslims - Satya Hindi

नफ़रती बयानों की फेहरिस्त

बीजेपी नेताओं के मुसलिमों के प्रति ऐसे बयानों की लंबी फेहरिस्त है। पिछले साल शाहीन बाग़ में चल रहे सीएए विरोधी प्रदर्शन को लेकर पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा था, ‘शाहीन बाग़ में बैठे लोग दिल्ली वालों के घरों में घुसकर हमारी बहन-बेटियों के साथ बलात्कार करेंगे, उनको मारेंगे।’

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चल रहे प्रदर्शन को निशाने पर लेते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान एक जनसभा में ‘देश के गद्दारों को…का’ नारा लगाया था। 

KS Eshwarappa controversial comment for muslims - Satya Hindi
गिरिराज सिंह ने पिछले साल इसलामिक शिक्षा के बड़े केंद्र देवबंद को लेकर कहा था कि यह आतंकवाद की गंगोत्री है और सारी दुनिया में जो भी बड़े-बड़े आतंकवादी पैदा हुए हैं, वे यहीं से निकलते हैं। इसके अलावा भी बीजेपी के तमाम नेताओं ने मुसलिमों और इसलामिक इदारों को लेकर आपत्तिजनक बयान दिये हैं।

योगी के ज़हरीले बोल

दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निशाने पर मुसलिम ही रहे। उन्होंने कई चुनावी सभाओं में कहा कि मुसलिमों ने 1947 में पाकिस्तान नहीं जाकर भारत पर कोई अहसान नहीं किया है। योगी ने शाहीन बाग़ के आंदोलन को लेकर कहा था कि इस प्रदर्शन में वे लोग बैठे हैं जिनके पूर्वजों ने भारत के टुकड़े किये थे। योगी ने कहा था कि कश्मीर में आतंकवादियों का समर्थन करने वाले लोग शाहीन बाग़ में बैठे हैं।
KS Eshwarappa controversial comment for muslims - Satya Hindi

सर्जिकल स्ट्राइक करेंगे

हाल ही में हैदराबाद नगर निगम के चुनाव प्रचार के दौरान तेलंगाना बीजेपी के अध्यक्ष बांडी संजय कुमार ने कहा कि अगर बीजेपी हैदराबाद नगर निगम की सत्ता में आई तो पुराने हैदराबाद में सर्जिकल स्ट्राइक करेगी। पुराने हैदराबाद में बड़ी संख्या में मुसलिम रहते हैं। उनका यह बयान किस समुदाय के लिए था, इसे कोई भी आसानी से समझ सकता है। 

कर्नाटक से और ख़बरें

कोई कार्रवाई नहीं

संविधान से चलने वाले मुल्क़ हिंदुस्तान में एक धर्म के लोगों के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक और संविधान की शपथ लेकर राज्य और केंद्र सरकार में मंत्री बनने वाले लोग नफ़रती बयान दे रहे हैं और उनका बाल भी बांका नहीं हो रहा है। ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ बीजेपी ने कोई कार्रवाई नहीं की, कोई पुलिस, जांच एजेंसी किसी ने कुछ नहीं किया। ऐसे में तय माना जाना चाहिए कि बीजेपी के ऐसे नेता इस तरह के बयान आगे भी देते रहेंगे और उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें