loader

कोरोना : पंजाब सरकार ने 1 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन

पंजाब की कांग्रेस सरकार ने भी लॉकडाउन और कर्फ्यू को 1 मई तक बढ़ाने का फ़ैसला किया है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को ट्वीट कर सरकार के इस फ़ैसले की जानकारी दी। अमरिंदर सिंह ने कहा कि यह मुश्किल वक्त है और वह सभी से घरों में रहने की अपील करते हैं। पंजाब सरकार ने राज्य में कर्फ्यू भी लगाया हुआ है। पंजाब कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से जूझ रहा है और राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 100 की संख्या को पार कर चुका है। 

शुक्रवार को ही कर्नाटक ने भी लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ाये जाने का समर्थन किया। इससे पहले उड़ीसा सरकार 30 अप्रैल तक लॉकडाउन को बढ़ाने का एलान कर चुकी है। गुरुवार को हुई कर्नाटक कैबिनेट की बैठक में डॉक्टर्स के एक्सपर्ट पैनल की सिफ़ारिशों को रद्द कर दिया गया। पैनल ने लॉकडाउन को धीरे-धीरे हटाने की सिफ़ारिश की थी। कर्नाटक में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 10 नये मामले सामने आये हैं और राज्य में संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 207 हो गयी है। 

कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री बी.एस.येदियुरप्पा ने कहा कि राज्य सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत के बाद इस बारे में अंतिम फ़ैसला लेगी। प्रधानमंत्री 11 अप्रैल को सभी मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन को लेकर बातचीत करेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

कोरोना के ख़िलाफ़ तेज़ होगी जंग

कैबिनेट ने फ़ैसला लिया है कि मंत्री, विधायकों, विधान परिषद सदस्यों, स्पीकर, डिप्टी, स्पीकर की सैलरी में एक साल के लिये 30% की कटौती की जाएगी। यह पैसा कोरोना के ख़िलाफ़ जंग लड़ने में इस्तेमाल किया जाएगा। सैलरी की कटौती का आदेश 1 अप्रैल से लागू होगा। इससे पहले केंद्र सरकार सभी सांसदों की एक साल की सैलरी से 30% पैसा काट चुकी है और दो साल के लिये उनकी सांसद निधि भी स्थगित कर चुकी है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई सभी राजनीतिक दलों के नेताओं की वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग में अधिकांश दलों ने लॉकडाउन को बढ़ाने पर सहमति जताई है। ऐसे में माना जा रहा है कि लॉकडाउन को आगे बढ़ाया जाएगा। वर्तमान में जारी लॉकडाउन की मियाद 14 अप्रैल को समाप्त हो रही है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें