loader

कर्नाटक: सेक्स सीडी में फंसे मंत्री ने दिया इस्तीफ़ा

सेक्स सीडी के सामने आने के बाद कर्नाटक की येदियुरप्पा सरकार के मंत्री रमेश जारकिहोली ने इस्तीफ़ा दे दिया है। मंत्री का महिला के साथ एक ऑडियो भी सामने आया है और इसे लेकर कर्नाटक में बवाल मचा हुआ है। 

रमेश जारकिहोली ने कहा है कि वह नैतिकता के आधार पर इस्तीफ़ा दे रहे हैं। उन्होंने कहा है कि उन पर लगाए गए आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है और इस मामले में साफ-सुथरी जांच की ज़रूरत है। रमेश जारकिहोली ने कहा है कि उन्हें पूरा भरोसा है कि जांच के बाद वह निर्दोष साबित होंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से उनका इस्तीफ़ा स्वीकार करने का अनुरोध किया है। 

सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश कालाहल्ली ने दावा किया है कि पीड़ित महिला के परिवार की इजाजत के बाद ही उन्होंने इस संबंध में बेंगलुरू पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। कालाहल्ली ने कहा है कि सीडी में दिख रही महिला को मंत्री ने नौकरी का लालच दिया था। 

ताज़ा ख़बरें

सियासी रसूख वाले नेता हैं जारकिहोली 

जारकिहोली येदियुरप्पा कैबिनेट में ताक़तवर मंत्री हैं और उत्तरी कर्नाटक के बेलगावी इलाक़े में उनका खासा प्रभाव माना जाता है। जारकिहोली पहले कांग्रेस में थे लेकिन प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार से बेलगावी में राजनीतिक अनबन के चलते उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। कर्नाटक की पूर्ववर्ती कांग्रेस-जेडीएस सरकार को गिराने में जारकिहोली की अहम भूमिका रही थी।

जुलाई, 2019 में राज्य में येदियुरप्पा की सरकार बनने के बाद से ही जारकिहोली बीजेपी में आए कांग्रेस-जेडीएस के विधायकों की अगुवाई करते दिखते थे। उनके बारे में कहा जाता है कि वह राज्य का मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं लेकिन सीडी के सामने आने के बाद येदियुरप्पा के साथ ही जारकिहोली भी मुसीबत में फंस गए हैं। 

जारकिहोली दलित समुदाय से आते हैं और इस समुदाय के बीच उनका ख़ासा असर है। 

रमेश की यह सीडी ऐसे वक़्त में सामने आई है जब बेलगावी सीट पर लोकसभा का उपचुनाव होना है। यह सीट केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी के इस्तीफ़े से खाली हुई है। इसके अलावा 4 मार्च से बजट सत्र भी शुरू होना है। 

कर्नाटक से और ख़बरें

हनी ट्रैप सक्रिय

2019 में बीजेपी के एक विधायक ने शिकायत दर्ज कराई थी कि राज्य में हनी ट्रैप में फंसाने वाला एक गिरोह सक्रिय है और यह राजनेताओं और सरकारी अफ़सरों को निशाना बना रहा है। अगर ऐसा है तो निश्चित रूप से आने वाले वक़्त में कुछ और लोगों की सीडी आ सकती है क्योंकि 2016 में तत्कालीन सिद्धारमैया सरकार के एक कैबिनेट मंत्री का भी कथित रूप से एक महिला के साथ वीडियो सामने आया था और इसके बाद उन्हें कैबिनेट से इस्तीफ़ा देना पड़ा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें