loader

पोल ऑफ़ ओपिनियन पोल्स में एनडीए को बहुमत के आसार

पोल ऑफ़ ओपिनियन पोल्स में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी और एनडीए बहुमत का आँकड़ा पार करते दिख रहा है। एनडीटीवी के पोल ऑफ़ ओपिनियन पोल्स में बीजेपी को 228 सीटें और इसके नेतृत्व वाले एनडीए को 274 सीटें मिलती दिख रही हैं। इसके साथ ही कांग्रेस की सीटों की संख्या दोगुनी होकर 88 तक पहुँच सकती है। कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए को 140 सीटें और दूसरे दलों व निर्दलीय उम्मीदवारों को 129 सीटें मिल सकती हैं। एनडीटीवी ने यह पोल ऑफ़ ओपिनियन पोल्स मार्च और अप्रैल में आये ओपिनियन पोल के आधार पर तैयार किया है।

bjp heading for majority in ndtv poll of opinion polls  - Satya Hindi
 543 सीटों वाली लोकसभा में बहुमत के लिए 272 का आँकड़ा चाहिए। बीजेपी का पिछले लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन रहा था और इसने अकेले दम पर ह बहुमत हासिल कर लिया था। 
ताज़ा ख़बरें

यूपी में बीजेपी को झटका

हालाँकि पोल के अनुसार एनडीए को सीटों का नुक़सान होता दिख रहा है। उत्तर प्रदेश में बीजेपी को तगड़ा नुक़सान उठाना पड़ सकता है। बीजेपी को यहाँ 40 सीटें मिल सकती हैं। सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन को 36 और कांग्रेस व उसके सहयोगियों को 4 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। पिछले चुनाव में बीजेपी ने यूपी में 71 सीटें जीती थी। वहीं, एनडीए की सहयोगी अपना दल को 2 सीटें मिली थीं। तब सपा ने 5 और कांग्रेस ने 2 सीटें जीती थीं।

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 42.30 प्रतिशत वोट शेयर के साथ राज्य में 80 में से 71 सीटें जीती थीं। बीजेपी के वोट शेयर में क़रीब 24.8 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला था। जबकि 22.2 प्रतिशत वोट शेयर के साथ सपा को पाँच और 19.6 वोट शेयर के साथ बसपा को शून्य सीट मिली थी। तब 7.5 प्रतिशत वोट शेयर के साथ कांग्रेस को दो सीटें मिलीं थीं।

बिहार में एनडीए को 31 सीटें

बिहार में एनडीए यानी बीजेपी-जेडीयू-एलजेपी को 31 और कांग्रेस-आरजेडी गठबंधन को 9 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। झारखंड में बीजेपी गठबंधन और कांग्रेस गठबंधन को 7-7 सीटें मिलती दिख रही हैं। आंध्र प्रदेश में जगन रेड्डी की पार्टी वाईएसआरसी को 21 और टीडीपी को 4 सीटें मिल सकती हैं। तेलंगाना में टीआरएस को 17 में से 14 सीटें, कांग्रेस को दो और अन्य को एक सीट मिल सकती है। 

दिल्ली में बीजेपी के खाते में सभी 7 सीटें जाती दिखाई दे रही हैं। हालाँकि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का गठबंधन अगर हो जाता है तो कुछ सीटों पर समीकरण बदल भी सकते हैं। 

चुनाव 2019 से और ख़बरें

राजस्थान, मध्य प्रदेश में कांग्रेस को झटका

राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस के लिए बड़ा झटका लगता दिखाई दे रहा है। हाल ही में वहाँ सरकार बनाने के बाद भी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की सीटों में ज़्यादा इजाफ़ा नहीं हो रहा है। छत्तीसगढ़ में बीजेपी 4 और कांग्रेस को 7 सीटें मिल रही हैं। राजस्थान में बीजेपी को 19 और कांग्रेस को 6 सीटें मिल रही हैं। हालाँकि पिछली बार बीजेपी के खाते में सभी सीटें आई थीं। मध्य प्रदेश में बीजेपी को 23 और कांग्रेस को 6 सीटें मिल रही हैं। पिछली बार बीजेपी 27 और कांग्रेस ने 2 सीटें जीती थीं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें