loader

चुनाव आयोग की सख़्त कार्रवाई, योगी, मायावती को प्रचार से रोका

लोकसभा चुनाव में नेताओं के विवादित बयानों पर चुनाव आयोग ने सख्त रुख अपनाया है। आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीएसपी सुप्रीमो मायावती के ख़िलाफ़ कार्रवाई की है। आयोग के आदेश के मुताबिक़, योगी आदित्यनाथ 72 घंटे और मायावती 48 घंटे तक प्रचार नहीं कर सकेंगे। आयोग का यह आदेश मंगलवार सुबह 6 बजे से प्रभावी होगा। 

चुनाव आयोग ने एक और सख़्त क़दम उठाते हुए केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी और समाजवादी पार्टी के नेता आज़म ख़ान को भी चुनाव प्रचार से रोक दिया है। मेनका गाँधी को मंगलवार सुबह 10 बजे से 48 घंटे तक और आज़म ख़ान को इसी दिन से 72 घंटे के लिए चुनाव प्रचार से रोका गया है। बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान मायावती और योगी आदित्यनाथ के भाषणों पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया था। 

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान चुनाव आयोग से पूछा कि नेताओं की ओर से विवादित बयान देने के मामले में क्या कार्रवाई की गई है। आयोग के अधिवक्ता ने कहा कि दोनों नेताओं को नोटिस जारी किया जा चुका है। 

ताज़ा ख़बरें
बता दें कि एक सहारनपुर में हुई एक चुनावी रैली में मायावती ने मुसलमानों से गठबंधन को वोट देने की अपील की थी। मायावती ने कहा था कि मैं मुसलिम समाज के लोगों को कहना चाहती हूँ कि आपको अपना वोट बँटने नहीं देना है बल्कि एकतरफ़ा वोट देकर गठबंधन को कामयाब बनाना है।' मायावती के इस बयान को लेकर चुनाव आयोग ने उनसे जवाब तलब किया था।
mayawati loksabha election 2019 yogi adityanath - Satya Hindi
चुनाव 2019 से और ख़बरें

इसके अलावा अली और बजरंग बली को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिए गए बयान पर भी आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया था। योगी ने अपने बयान में कहा था, ‘अगर कांग्रेस, एसपी, बीएसपी को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।’ 

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बायोपिक ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ को लोकसभा चुनाव के मौक़े पर रिलीज़ करने को लेकर भी ख़ासा विवाद हुआ था। हालाँकि चुनाव आयोग ने विपक्षी राजनीतिक दलों की कड़ी आपत्‍त‍ि के बाद इसे रिलीज करने पर रोक लगा दी थी। 

बता दें कि आज़म ख़ान ने रामपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी जया प्रदा के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के अलावा अधिकारियों को 'तनखैया' कहकर संबोधित किया था। आज़म ने प्रचार के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि अधिकारियों से डरने की ज़रूरत नहीं है। 

वहीं, सुलतानपुर लोकसभा सीट से प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी ने चुनाव प्रचार के दौरान मुसलमानों से कहा था, 'मैं आपके (मुसलिम वोट) के बिना भी जीत रही हूँ, लेकिन मैं यहाँ दोस्ती का हाथ बढ़ाने आई हूँ। अगर चुनाव नतीजे आने के बाद मुझे पता चला कि आपने मुझे वोट नहीं दिया तो बाद में मेरे पास काम के लिए आओगे तब देखना।' 

‘नमो टीवी’ को लेकर शिकायत

बीजेपी की ओर से लोकसभा चुनाव के मौक़े पर ‘नमो टीवी’ को लाँच किए जाने को लेकर भी विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से शिकायत की थी। विपक्षी दलों ने कहा था कि चुनाव आचार संहिता लागू है, ऐसे में ऐसे में आयोग को ‘नमो टीवी’ पर रोक लगानी चाहिए। इस पर चुनाव आयोग ने 

नमो टीवी पर दिखाये जाने वाले सभी रिकॉर्डेड कार्यक्रमों को बिना प्रमाणित किए नहीं दिखाये जाने का निर्देश दिया था। 

'मिशन शक्ति’ पर प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन को लेकर भी कई विपक्षी दलों ने सवाल उठाए थे लेकिन तब चुनाव आयोग को इसमें कुछ ‘ग़लत’ नहीं लगा था और आयोग ने प्रधानमंत्री को क्लीन चिट दे दी थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें