loader

यूपी में पिछले बिहार चुनाव जैसा प्रचार, मुलायम के लिए माया माँगेंगी वोट

दशकों पुरानी अदावत भुला कर मैनपुरी में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के लिए रैली करेंगी तो अरसे बाद मुज़फ़्फ़रनगर में अखिलेश यादव राष्ट्रीय लोकदल मुखिया अजित सिंह के लिए वोट माँगेंगे। उत्तर प्रदेश में सात चरणों में होने वाले लोकसभा चुनाव में हर चरण में कम से कम एक रैली में अखिलेश, माया, अजित सिंह एक साथ होंगे। उत्तर प्रदेश में बीजेपी से मुकाबले के लिए बना सपा-बसपा-रालोद गठबंधन 7 अप्रैल को देवबंद में रैली कर अपने प्रचार अभियान की औपचारिक शुरुआत करेगा।

ताज़ा ख़बरें

एक-दूसरे के इलाक़े में करेंगे प्रचार

उत्तर प्रदेश में प्रभावी तरीक़े से प्रचार करने और मतदाताओं को संदेश देने के बिहार विधानसभा चुनावों की तर्ज़ पर प्रचार होगा। जिस तरह बिहार में 2015 के विधानसभा चुनाव में राजद की सीटों पर नीतीश की और जदयू की सीटों पर लालू की रैली रखी गयी थी, उसी तरह का प्रयोग उत्तर प्रदेश में भी होगा। बसपा सुप्रीमो मायावती जहाँ सपा प्रत्याशियों के लिए वोट माँगेंगी वहीं अखिलेश माया के प्रत्याशियों के लिए मतदाताओं से अपील करने जाएँगे। 

गठबंधन नेताओं का कहना है कि बीजेपी के फैलाए गए इस दुष्प्रचार कि सपा-बसपा का वोट ट्रांसफ़र नहीं होगा, इसकी काट के लिए एक-दूसरे की सीटों में रैलियाँ होंगी।

क्या गेस्टहाउस कांड भूल गये?

दशकों बाद यह भी देखने को मिलेगा कि मायावती मंच से मुलायम सिंह यादव के लिए वोट माँगेंगी। दरअसल, 1993 में यूपी विधानसभा चुनावों के लिए सपा-बसपा ने गठबंधन किया था और सत्ता हथियाई थी। बाद में गेस्टहाउस कांड के चलते तल्ख़ी इस कदर बढ़ी कि दोनों एक-दूसरे के जानी दुश्मन बन बैठे। बीते साल फूलपुर, गोरखपुर और कैराना लोकसभा उप-चुनाव में 25 साल बाद दोनों दल फिर साथ आ गए। 

  • मतदाताओं में कोई संशय न रहे इसलिए बुधवार शाम को मायावती से मुलाकात के दौरान अखिलेश ने मैनपुरी में रैली का प्रस्ताव रखा जिसे स्वीकार कर लिया गया। फ़िरोज़ाबाद में रामगोपाल के बेटे अक्षय के लिए मायावती रैली करेंगी। वहीं अखिलेश बसपा के गढ़ आगरा, सहारनपुर, अलीगढ़ में रैली करेंगे।
चुनाव 2019 से और ख़बरें

हर चरण की एक रैली में होंगे तीनों दिग्गज

गठबंधन के प्रचार की जो रणनीति तैयार की गयी है उसके तहत यूपी में सात चरणों में होने वाले चुनावों में प्रत्येक में एक बड़ी रैली में तीनों दलों के नेता एक मंच पर होंगे। इसकी शुरुआत सहारनपुर के देवबंद से 7 अप्रैल से होगी। माया और अखिलेश उत्तर प्रदेश के सभी 16 मंडलों में कम से कम एक साझा रैली करेंगे। महत्वपूर्ण लोकसभा सीटों पर दोनों की साझा रैली अलग से होगी। पश्चिम में हो रहे पहले चरण में आठ सीटों में चार पर बसपा और सपा व रालोद दो-दो सीटों पर लड़ रहे हैं। 

रालोद के लिए छोड़ी गयी तीनों सीटों पर अखिलेश व माया साझा रैली करेंगे। अजित सिंह व जयंत चौधरी को खेती-किसानी के लिए महत्वपूर्ण इलाक़ों में पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी प्रचार के लिए उतारा जाएगा।

स्टार प्रचारक भी मिल कर तय किए

लोकसभा चुनावों के लिए सपा-बसपा और रालोद ने स्टार प्रचारक तय करते हुए भी एक-दूसरे की राय ली है। रालोद में जहाँ अजित सिंह व जयंत चौधरी ही प्रमुख प्रचारक हैं वहीं बसपा में मायावती के अलावा, सतीशचंद्र मिश्रा, रामअचल राजभर, के.के. गौतम, मुनकाद अली, सुनी चित्तौड़, नकुल दुबे, लालजी वर्मा जैसे स्टार प्रचारक होंगे। सपा के लिए प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम, मुलायम सिंह यादव, रामगोपाल यादव, डिंपल यादव, धर्मेंद्र यादव, तेज प्रताप सहित आधा दर्ज़न स्टार प्रचारक होंगे। गठबंधन सूत्रों के मुताबिक़ फ़िल्मी कलाकारों, बाहरी नेताओं के मुकाबले जातियों में पकड़ रखने वाले प्रदेश के नेताओं से प्रचार कराने पर ख़ास ज़ोर रहेगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें