loader

पलायन : मरने से पहले उसने कहा था- लेने आ सकते हो तो आ जाओ

क्या हो जब आपके परिवार का कोई सदस्य इस लॉकडाउन में सैकड़ों किलोमीटर दूर फँसा हो और फ़ोन पर सिर्फ़ इतना ही कह सके कि 'लेने आ सकते हो तो आ जाओ'! फिर उसकी आवाज़ तक न निकले। क्या हो जब आपको अहसास हो जाए कि आपका अपना कोई आख़िरी साँसें गिन रहा है! न कोई वाहन और न एंबुलेंस। पूरी तरह पाबंदी लगी हो। और क्या हो जब आप चाहकर भी मदद करने समय पर नहीं पहुँच सकें! और जब पहुँचें भी तो पार्थिव शरीर मिले।

दिल्ली से पैदल ही घर लौट रहे मुरैना के 38 साल के जिस डेलीवरी ब्वॉय रणवीर सिंह की मौत हुई है, उनकी कहानी रुह को कँपा देने वाली है। वह लॉकडाउन के बाद हज़ारों लोगों के बीच दिल्ली से पैदल ही मध्य प्रदेश में अपने घर लौट रहे थे। लॉकडाउन के बाद घर के लिए निकले रणवीर 200 किलोमीटर से ज़्यादा चल चुके थे और अपने घर से क़रीब 80 किलोमीटर ही दूर थे। उनकी यह कहानी उन हज़ारों लोगों और उनके परिवारों के लिए असह्य पीड़ा से गुज़रने की दास्ताँ कहती है जो सैकड़ों किलोमीटर पैदल ही चलकर घर पहुँचने के लिए निकले हैं या निकल रहे हैं। 

मौत से पहले रणवीर सिंह ने फ़ोन पर अपने घर वालों से बातचीत की थी। 'द इंडियन एक्सप्रेस' ने रणवीर के परिजनों से इसी बातचीत के आधार पर एक रिपोर्ट छापी है। परिजनों ने कहा कि जब रणवीर का आख़िरी फ़ोन आया था तब उनकी आख़िरी बात थी- 'लेने आ सकते हो तो आ जाओ'। वह पूरी तरह टूट चुके थे। इतनी दूर चलने के बाद शरीर में बिल्कुल ताक़त नहीं बची थी। बोल पाने की शक्ति भी नहीं थी। परिवार वाले हड़बड़ी में कह रहे थे, 'किसी से कहो मुरैना तक लिफ्ट दे दे। हेलो? हेलो?' जब आवाज़ नहीं आई तो कहा, '100 पर फ़ोन करो। क्या कोई एंबुलेंस नहीं है? क्या वे आपको नहीं छोड़ सकते हैं? हेलो? फिर भी रणवीर की तरफ़ से कोई आवाज़ नहीं। घर वालों को बड़ी अनहोनी का अंदेशा हो गया था।

ताज़ा ख़बरें

'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, 22 मार्च को रणवीर की पत्नी ने फ़ोन कर कहा था कि वह दिल्ली से वापस आ जाएँ क्योंकि गाँव के दो लोग दिल्ली से लौट रहे थे। रणवीर कालकाजी में रहते थे और जिस रेस्त्राँ के लिए डेलीवरी का काम करते थे वहीं खाना खाते थे। घर वाले कहते हैं कि परिवार पहले से ही क़र्ज़ में है। क़र्ज़ चुकाने और घर का ख़र्च पूरा करने के कारण पैसे नहीं बचते थे। रणवीर ने शुक्रवार दोपहर दो बजे अपनी 12 साल की बेटी को फ़ोन कर कहा था कि वह पैदल ही घर आ रहे हैं। तब उन्होंने बेटी से कहा था, 'कोई साधन नहीं है। न बस चल रही है, न ट्रेन... पैदल आ रहा हूँ।' फिर 5 बजे फ़ोन कर कहा कि वह पुलिस से बचते हुए आ रहे हैं। 9 बजे रात को फ़ोन कर अपनी बहन पिंकी सिंह से कहा कि कुछ दूरी के लिए ट्रक मिला है। पिंकी कहती हैं, 'वह काफ़ी थके हुए लग रहे थे। उन्होंने कहा कि वह आराम करना चाहते हैं। मैंने उन्हें कहा कि हम आपको सही सलामत घर पर देखना चाहते हैं।'

शनिवार सुबह पाँच बजे ही उनकी बहन पिंकी ने उन्हें फ़ोन किया। उन्होंने कहा, 'उन्होंने कहा कि वह आगरा में सिकंदराबाद रोड पहुँच गए हैं। वह ठीक से साँस नहीं ले पा रहे थे, कुछ और नहीं कह पाए। उन्होंने सिर्फ़ इतना ही कहा कि सीने में दर्द हो रहा है।'

फिर पिंकी ने हड़बड़ी में परिवार के दूसरे लोगों को जगाया और उन्हें लेने जाने के लिए कहा। फिर रणवीर के साले अरविंद सिंह ने बात की। रणवीर से यही आख़िरी बात हुई। दो अलग-अलग समूहों में लोग रणवीर को लाने के लिए निकले। एक ने गाँव के ही डॉक्टर से उनकी आईडी माँगी ताकि वे लॉकडाउन में रणवीर तक पहुँच सकें। वे बाइक से निकले। रणवीर के चचेरे भाई गेहूँ ढोने वाली जीप लेकर निकले और अंबा पुलिस स्टेशन गए। एक रिश्तेदार ने कहा, 'हमें पास की ज़रूरत थी। नहीं तो हमें वहाँ नहीं जाने दिया जाता। उन्होंने हमें पास दिया, लेकिन इसमें समय लग गया।'

जब वे आगरा पहुँचे तो हॉस्पिटल में उन्हें शव दिया गया। डॉक्टर और पुलिस ने कहा कि हार्ट अटैक आया था। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें
रणवीर के पिता का पहले ही निधन हो चुका है। अब रणवीर के परिवार पर आर्थिक संकट है। ग्रामीण सरकार से आर्थिक मदद देने की माँग करते हैं। अरविंद कहते हैं कि रणवीर कभी भी डेलीवरी ब्वाय नहीं बनना चाहते थे। लेकिन घर पर कमाई का कोई ज़रिया नहीं होने के कारण उन्हें दिल्ली जाना पड़ा था। तीन साल से वह दिल्ली में काम कर रहे थे। अब जब उनकी मौत हुई तो उनके पास सिर्फ़ 800 रुपये थे। 
अब क्या जिसके पास सिर्फ़ 800 रुपये बचे हों, उसको दिल्ली में रहना कितना सुरक्षित लगेगा? क्या उसके सामने बड़ी चिंता यह नहीं होगी कि उसके सामने भूखे मरने का संकट आ सकता है?

क्या ऐसे लोगों के सामने एक रास्ता चुनने की नौबत नहीं है कि या तो कोरोना से बचो या फिर भूख से या सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर जान जोखिम में डालने से?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें