loader
एमपी पुलिस की गिरफ़्त में विकास दुबे। वायरल वीडियो स्क्रीन ग्रैब।

विकास दुबे की ‘गिरफ्तारी’: पुलिस की कहानी में झोल ही झोल!

उत्तर प्रदेश के मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे को गुरूवार सुबह मध्य प्रदेश के उज्जैन में पकड़ लिया गया। लेकिन उसने सरेंडर किया या वह गिरफ्तार हुआ? इसे लेकर पुलिस की कहानी में झोल ही झोल हैं।

दरअसल, विकास दुबे की ‘गिरफ्तारी’ जिस नाटकीय ढंग से हुई, उसने अनेक सवाल खड़े किये। मंदिर परिसर में सुरक्षा के लिए तैनात कर्मचारी द्वारा विकास को देखने की सूचनाएं आयीं। इसके बाद उसने तत्काल आला अफसरों को अलर्ट किया और पुलिस ने विकास को ‘आसानी’ से हिरासत में ले लिया।

विकास की गिरफ्तारी से ठीक पहले मीडिया भी मौके पर पहुंच गया। मीडिया कर्मियों ने विकास को ले जाने की घटना की रिकॉर्डिंग की। मीडिया के सामने पुलिस ने तो कुछ नहीं कहा लेकिन विकास ने खुद आगे आकर चिल्लाते हुए कहा, ‘मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला।’

ताज़ा ख़बरें
सवाल यह है कि बुधवार को हरियाणा के फरीदाबाद में नजर आया विकास गुरूवार को आखिर उज्जैन कैसे पहुंच गया?

फरीदाबाद से उज्जैन तक का सड़क मार्ग से रास्ता करीब 12 घंटे का है। राज्यों की सीमाओं को उसने पार कैसे किया? सरगर्मी से तलाश में जुटे पुलिस दलों को उसने आखिर चकमा कैसे दिया? इस मुद्दे पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी. सिंह का वीडियो - 

विकास महाकाल का भक्त है। इसी के चलते वह आया, ऐसा माना गया। कोरोना काल की वजह से बाहरी लोगों को दर्शन के लिए ऑनलाइन पर्ची लेनी होती है। विकास के पास ढाई सौ रुपये की जो पर्ची निकली है, वह फर्जी थी और किसी और के नाम पर थी। 

साधारण कर्मचारी ने कैसे पकड़ लिया 

शुरुआती सूचनाओं के अनुसार, दर्शन करने जाते वक्त संदेह होने पर सुरक्षा कर्मी ने उसका मास्क हटवाया और तब पता चला कि वह विकास दुबे है। सुरक्षा कर्मी ने मौके पर मौजूद सहयोगियों को बुलाया और पुलिस के आला अधिकारियों को सूचना दी।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

बताया गया है कि पकड़े जाने पर विकास ने सुरक्षा कर्मियों से हाथापाई की और भागने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस के ये दावे गले नहीं उतर रहे हैं। विकास बेहद शातिर और क्रूर है। ऐसे में वह निहत्था रहे। पुलिस उसे आसानी से पकड़ ले? यह बातें हजम होने के लायक नहीं हैं।

शहीदों के परिजनों ने भी उठाये सवाल

विकास दुबे और उसके गैंग के हमले में शहीद हुए पुलिस वालों के परिजनों ने भी विकास की मध्य प्रदेश में कथित नाटकीय ‘गिरफ्तारी’ पर सवाल उठाये हैं। परिजनों ने संकेतों में आरोप लगाया कि विकास की गिरफ्तारी ‘फ़िक्सिंग’ है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें