loader

मप्र में लेटर वॉर, गवर्नर ने स्पीकर से कहा - आपका दर्द समझता हूं

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफ़ा देने के बाद पैदा हुए सियासी संकट के बीच राज्य सरकार, राज्यपाल और विधानसभा स्पीकर के बीच लेटर वॉर चल रहा है। विधानसभा स्पीकर एन.पी.प्रजापति की ओर से राज्यपाल को लिखे खत में बाग़ी विधायकों को सुरक्षा दिये जाने की मांग की गई थी। इस पर राज्यपाल ने बुधवार को स्पीकर को जवाबी खत लिखा है। खत में राज्यपाल ने कहा है, ‘मैं विधायकों की अनुपस्थिति के कारण उनकी सुरक्षा के संबंध में आपकी (स्पीकर) चिंता की प्रशंसा करता हूं। आप इस संबंध में बीते 8-10 दिनों से जिस पीड़ा से गुजर रहे होंगे, उसका भी मुझे अंदाजा है।’ 

राज्यपाल ने खत में आगे लिखा है, ‘आपने (स्पीकर) अपने पत्र में मुझसे कुछ प्रश्नों के उत्तर की अपेक्षा की है। यह अपेक्षा किस नियमावली के अंतर्गत की गई है, उसे मुझे भेजने का कष्ट करें।’ 

ताज़ा ख़बरें

बाग़ी विधायकों ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा था कि उन पर किसी तरह का दबाव नहीं है। बाग़ी विधायकों ने एक सुर में कहा था कि वे बंधक नहीं हैं और स्वेच्छा से बेंगलुरू आये हैं। बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा था कि वे अभी बीजेपी में शामिल नहीं हुए हैं और इस बारे में विचार करेंगे।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

बाग़ी विधायकों के मसले पर भी राज्यपाल ने अपने खत में बात की है। राज्यपाल ने लिखा है, ‘तथाकथित लापता विधायकों से आपको और मुझे लगातार पत्र प्राप्त हो रहे हैं। उन्होंने अपने किसी भी पत्र में जहां पर भी वे वर्तमान में हैं, अपनी ओर से कोई समस्या व्यक्त नहीं की है। उनके पत्र एवं वीडियो लगातार समाचार पत्रों, इलेक्ट्रॉनिक एवं सोशल मीडिया में आ रहे हैं और अब वे सर्वोच्च न्यायालय भी पहुंच गये हैं।’

राज्यपाल ने लिखा है, ‘प्रदेश के सभी नागरिकों की सुरक्षा का दायित्व कार्यपालिका का है और आप कार्यपालिका से ही विधायकों की सुरक्षा की अपेक्षा करते होंगे लेकिन ऐसा लगता है कि ग़लती से यह पत्र आपने मुझे भेज दिया है।’

इस पूरे लेटर वॉर के बीच मध्य प्रदेश की सत्ता को बचाने की लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में लड़ी जा रही है। 

बुधवार सुबह पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह बाग़ी विधायकों से मिलने बेंगलुरू पहुंच गए और जिस होटल में बाग़ी विधायक रुके हुए हैं, उसके बाहर धरने पर बैठ गये। इसके बाद बेंगलुरू पुलिस ने दिग्विजय सिंह समेत 13 कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया। इस दौरान दिग्विजय सिंह के साथ कर्नाटक बेंगलुरू के अध्यक्ष डी.के.शिवकुमार भी मौजूद रहे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें