loader

एमपी: मंत्री के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी क्वारेंटीन क्यों नहीं हुए शिवराज?

मध्य प्रदेश में भी जमकर कहर बरपा रहे कोरोना ने शिवराज काबीना के एक वरिष्ठ सदस्य को अपनी चपेट में ले लिया है। मंत्री के ‘कोविड-19’ ग्रस्त निकलने से सरकार और मशीनरी के अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और पार्टी के नेता-कार्यकर्ता खासे सकते में हैं। इसके बाद कुछ ने एहतियातन नमूने देकर अपने टेस्ट कराये हैं।

शिवराज सरकार में हाल ही में मंत्री बनाये गये अरविंद भदौरिया को कोरोना हुआ है। बुधवार रात साढ़े बारह बजे उनकी रिपोर्ट पाॅजिटिव आयी तो हड़कंप मच गया। रिपोर्ट आते ही वे हॉस्पिटलाइज्ड हो गये हैं।

ताज़ा ख़बरें

सहकारिता विभाग का दायित्व संभाल रहे भदौरिया ने वीडियो अपील जारी करते हुए खुद के कोरोनाग्रस्त होने की सूचना दी है। उन्होंने वीडियो अपील में कहा है कि उन्हें गले में मामूली ख़राश थी। कोरोना की जांच करायी तो रिपोर्ट पाॅजिटिव आयी। भदौरिया ने अपील में कहा है कि उनके संपर्क में रहे लोग एहतियात बरतते हुए अपना कोरोना टेस्ट करा लें।  

भदौरिया के कोरोनाग्रस्त होने से हड़कंप मचने की बड़ी वजह उनकी अत्याधिक सक्रियता और लोगों से खुलकर मिलने की प्रवृत्ति को माना जा रहा है।

अरविंद भदौरिया बुधवार को हुई शिवराज कैबिनेट की बैठक में मौजूद रहे थे। मुख्यमंत्री से उनकी वन-टू-वन चर्चा हुई थी। इसके अलावा उन्होंने विभाग से जुड़े अधिकारियों की बैठकें ली थीं। वे संगठन के नेताओं और कार्यकर्ताओं से भी मिले-जुले थे।

भदौरिया दो दिन पहले उत्तर प्रदेश गये थे। मध्य प्रदेश के दिवंगत राज्यपाल लालजी टंडन की अंत्येष्टि में वे शामिल हुए थे। टंडन के परिजनों को उन्होंने सांत्वना दी थी। वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और अन्य लीडरों के साथ राजकीय विमान से यूपी गये और लौटे थे।

आरएसएस पदाधिकारियों से भी मिले 

भदौरिया भोपाल में चल रहे आरएसएस के अभ्यास वर्ग में भी पहुंचे। मंत्रियों को मुलाकात के लिए यहां बुलाया गया था। संघ प्रमुख मोहन भागवत से लेकर अन्य कई बड़े लीडर आयोजन में शिरकत कर रहे हैं।

भोपाल में संघ के कुछ स्वयं सेवकों और पदाधिकारियों को भी कोरोना हुआ है। संघ में इसे लेकर पहले से ही चिंता थी। अरविंद भदौरिया के कोरोनाग्रस्त पाये जाने से संघ नेता ज्यादा चिंतित हो गये हैं।

मध्य प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी के वे लोग भी खासे चिंतित हैं, जिन्होंने हाल ही में भदौरिया से मेल-मुलाकातें और बैठकों में हिस्सेदारी की थी। शिवराज काबीना के वे सदस्य भी भयभीत हैं जिनकी भदौरिया से वन-टू-वन चर्चाएं और मुलाकातें हुई हैं और कैबिनेट बैठक में भदौरिया के आसपास बने रहे थे।

कोरोना प्रोटोकाॅल का पालन नहीं!

कोरोना पाॅजिटिव पाये जाने वाले के संपर्क में आये लोगों को लेकर प्रोटोकाॅल है कि संक्रमित के संपर्क में आने वाले को सबसे पहले अपना टेस्ट कराना चाहिए और रिपोर्ट आने तक ऐसे व्यक्ति को क्वारेंटीन हो जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके काबीना सहयोगी बुधवार को सीधे तौर पर भदौरिया के संपर्क में आये थे। मगर कोई भी क्वारेंटीन नहीं हुआ। मुख्यमंत्री और मंत्रीगण रूटीन बैठकें लेते रहे। लोगों से मिलते-जुलते रहे। भदौरिया के संपर्क में आये अफसरों में भी किसी के क्वारेंटीन होने की सूचना गुरूवार शाम तक नहीं आयी। आरएसएस और बीजेपी संगठन से जुड़े पदाधिकारी और कार्यकता भी बिंदास बैठकें करते रहे।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

सरकार गिराने में रही भूमिका

बता दें, भदौरिया मूलतः अच्छे संगठक हैं। वे लंबे वक्त से मप्र बीजेपी में संगठन में ही अधिकांशतः सक्रिय रहे हैं। कमल नाथ की सरकार गिराने में उनकी भूमिका बेहद अहम रही थी। पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के एक के बाद एक चार विधायक टूटे हैं। इन विधायकों का पाला बदलवाने में भी उन्होंने अहम रोल अदा किया है। 

कांग्रेस छोड़ रहे विधायक

खंडवा जिले के एक विधायक ताराचंद पटेल ने तो गुरूवार को ही कांग्रेस विधायक पद से इस्तीफा दिया है। पटेल बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। ख़बर है कि पटेल को तोड़ने में भदौरिया की ही भूमिका रही है। पिछले सप्ताह उन्होंने नेपानगर की कांग्रेस विधायक को तोड़ा था और बीजेपी ज्वाइन कराई थी। इसके अलावा गुरूवार को ही मंधाता से कांग्रेस विधायक नारायण पटेल ने पद से इस्तीफ़ा दे दिया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें