loader

बहुमत परीक्षण के लिये हूं तैयार, बंदी विधायकों को करें आज़ाद: कमलनाथ

मध्य प्रदेश में चल रहे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ और राज्यपाल लाल जी टंडन के बीच लेटर वॉर जारी है। सोमवार शाम को राज्यपाल ने कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा था कि वह मंगलवार को बहुमत साबित करें। अब कमलनाथ ने राज्यपाल को मंगलवार को लिखे ताज़ा पत्र में कहा है कि उनके ऊपर संसदीय मर्यादाओं का पालन न करने का जो आरोप राजभवन की ओर से लगाया गया है, उससे वह दुखी हैं। 

कमलनाथ ने पत्र में लिखा, ‘कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण ही विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिये स्थगित किया है।’ कमलनाथ ने राज्यपाल को संबोधित करते हुए लिखा है, ‘आपने (राज्यपाल) अपने पत्र में लिखा है कि मैंने बहुमत परीक्षण कराने में आनाकानी की है। जबकि पिछले 15 महीनों में मैंने सदन में कई बार बहुमत सिद्ध किया है। अब यदि बीजेपी यह आरोप लगा रही है कि मेरे पास बहुमत नहीं है तो वह अविश्वास प्रस्ताव लाकर बहुमत परीक्षण करा सकती है।’ 

मुख्यमंत्री ने लिखा है, ‘मैंने आपको कई बार अवगत कराया है कि बीजेपी के नेताओं द्वारा कांग्रेस के 16 विधायकों को बेंगलुरू में होटल और रिसॉर्ट में कर्नाटक पुलिस की मदद से बंदी जैसी स्थिति में रखा गया है और उन्हें भोपाल आने से रोका जा रहा है।’

अंत में कमलनाथ ने कहा है, ‘कथित रूप से बंदी बनाये गये 16 कांग्रेसी विधायकों को स्वतंत्र होने दीजिए और बिना किसी दबाव के उन्हें उनके घर पर रहने दीजिए ताकि वे स्वतंत्र मन से अपना निर्णय ले सकें।’ सुप्रीम कोर्ट ने भी मंगलवार को इस मामले में सुनवाई करते हुए विधानसभा स्पीकर, राज्यपाल और मुख्यमंत्री को नोटिस जारी किया है। अब इस मामले में बुधवार को सुनवाई होगी। 

ताज़ा ख़बरें

भारी शोरगुल और हंगामे के बीच सोमवार को मध्य प्रदेश विधानसभा को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। इसका कारण कोरोना वायरस का संक्रमण बताया गया था। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल लाल जी टंडन को चिट्ठी सौंपकर बहुमत का दावा किया था। चौहान ने कहा था कि कमलनाथ सरकार को सिर्फ 92 विधायकों का समर्थन हासिल है जो बहुमत से कम है। बीजेपी ने 106 विधायकों को राज्यपाल के सामने पेश किया था। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

‘राज्यपाल स्पीकर के मार्गदर्शक नहीं’ 

कमलनाथ ने सोमवार को राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर कहा था, ‘विधानसभा अध्यक्ष के कार्य में हस्तक्षेप करना राज्यपाल के क्षेत्राधिकार में नहीं आता और राज्यपाल विधानसभा अध्यक्ष के मार्गदर्शक या परामर्शदाता नहीं हैं। राज्यपाल अध्यक्ष से यह अपेक्षा नहीं कर सकते कि अध्यक्ष उस तरीक़े से सदन में कार्य करें जो राज्यपाल संवैधानिक दृष्टि से उचित समझते हैं। राज्यपाल तथा अध्यक्ष, दोनों की अपनी-अपनी स्वतंत्र संवैधानिक जिम्मेदारियां हैं।’

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें