loader
अपने इस्तीफ़े के पत्र के साथ मध्य प्रदेश के विधायक और मंत्री।

सिंधिया ने छोड़ी कांग्रेस, कई विधायक-मंत्रियों ने भी दिया इस्तीफ़ा

कांग्रेस में ‘सम्मान’ न मिलने से नाखुश पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है। इसके अलावा 22 विधायक और मंत्रियों ने भी मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर को अपना इस्तीफ़ा भेज दिया है। सिंधिया ने अपने इस्तीफ़े का पत्र ट्विटर पर जारी किया है। पत्र में 9 मार्च की तारीख़ लिखी है, इसका मतलब सिंधिया ने पहले ही कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया था। इस बात की जोरदार चर्चा है कि सिंधिया मंगलवार को ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। ख़बरें यह भी हैं कि इस बारे में ‘सबकुछ’ तय हो गया है। 

सिंधिया अगर बीजेपी में आते हैं तो बीजेपी उन्हें राज्यसभा के टिकट से नवाजेगी और केन्द्र में मंत्री पद भी दिया जायेगा। मध्य प्रदेश में उनके झंडे तले बग़ावत करने वाले कांग्रेस विधायकों को बीजेपी की अगुवाई में सरकार बनने पर उसमें एडजस्ट किये जाने का ‘आश्वासन’ भी दिया जा चुका है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को गृहमंत्री अमित शाह के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की। 

यह तय है कि बग़ावत करने वाले सिंधिया समर्थकों को दोबारा चुनाव लड़ना और जीतना होगा। ना जीत पाने वालों और चुनाव ना लड़ने के इच्छुक विधायकों को भी सत्ता में भागीदारी देने पर बीजेपी सहमत बतायी जा रही है। आगे क्या होगा? संभवतया मंगलवार देर शाम तक ही यह साफ हो जायेगा। आज शाम भोपाल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी होगी। इस बैठक के दो घंटे बाद बीजेपी भी अपने विधायकों के साथ भोपाल में ही बैठक करने वाली है।

ताज़ा ख़बरें

इस्तीफ़ा देने वालों में कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे गोविंद सिंह राजपूत, महेन्द्र सिंह सिसोदिया, तुलसी सिलावट, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर और प्रभुराम चौधरी शामिल हैं। विधायक (सभी सिंधिया के समर्थक) राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, मुन्नालाल गोयल, ओपीएस भदौरिया, रणवीर जाटव, गिर्राज दंडोतिया, कमलेश जाटव, रक्षा संतराम सरौनिया, जसवंत जाटव, सुरेश धाकड़, जजपाल सिंह जज्जी, बृजेन्द्र सिंह यादव, रघुराज सिंह कंसाना ने भी इस्तीफ़ा दे दिया है। 

मध्य प्रदेश में सत्ता को लेकर छिड़ा संघर्ष अब पूरे चरम पर है। आज होली है। मध्य प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में आज ‘रंग-गुलाल’ से ज्यादा ‘सियासी रंग’ उड़ रहा है। इन सियासी रंगों की बौछार से दिल्ली भी सराबोर है।

सिंधिया राजघराने के डीएनए में है ‘जनसंघ’

सिंधिया राजघराने के डीएनए में ‘जनसंघ’ रहा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की दादी विजयाराजे सिंधिया जनसंघ के संस्थापकों में शुमार हैं। उनके पिता माधवराव सिंधिया ने भी अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत जनसंघ से ही की थी। अपनी मां से बग़ावत करते हुए बाद में वह कांग्रेस में आ गये थे। ज्योतिरादित्य सिंधिया की बुआ वसुंधरा राजे सिंधिया और यशोधरा राजे सिंधिया भी खांटी जनसंघियों में शुमार हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें