loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/श्रीनिवास बीवी/वीडियो ग्रैब

प्रज्ञा कबड्डी खेलती दिखीं तो लोगों ने पूछा- व्हील चेयर कोर्ट जाने के लिए है?

अदालतों में अक्सर व्हील चेयर पर जाती हुई दिखने वाली साध्वी प्रज्ञा अब कबड्डी खेलती हुई नज़र आई हैं। इससे पहले वह गरबा नृत्य करती भी नज़र आई थीं। कुछ महीने पहले वह बास्केटबॉल खेलती नज़र आई थीं। यह वह साध्वी प्रज्ञा हैं जिन्हें स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिए जाने के कारण ही 2017 में ज़मानत मिली थी और इस साल भी एनआईए की विशेष अदालत ने स्वास्थ्य व सुरक्षा कारणों का हवाला दिए जाने पर नियमित पेशी से छूट दी है। प्रज्ञा 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी हैं। अब सवाल है कि साध्वी के इन ताज़ा वीडियो के कारण कहीं उनकी परेशानी तो नहीं बढ़ेगी?

इस सवाल का जवाब जब मिलेगा तब, लेकिन सोशल मीडिया पर साध्वी प्रज्ञा के वीडियो को लेकर लोग सवाल उठा रहे हैं। भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने वीडियो को ट्वीट कर पूछा है - इनकी एनआईए कोर्ट में अगली 'पेशी' कब है?

कहा जा रहा है कि साध्वी बुधवार को भोपाल में एक मंदिर पहुँची थीं। वहाँ पूजा-अर्चना कर वह खिलाड़ियों के सम्मान समारोह में शामिल हुई थीं और फिर उन्होंने मैदान में कबड्डी खिलाड़ियों के साथ दो-दो हाथ भी किए। 

कहा जा रहा है कि इसी बीच एक निजी गरबा पंडाल का उनका वीडियो भी वायरल हुआ। उस वीडियो में प्रज्ञा अन्य महिलाओं के साथ गरबा करती हुई नज़र आती हैं। उनके चेहरे के हावभाव बताते हैं कि गरबा कर वह बेहद खुश हैं और उन्हें किसी तरह की दिक्कत नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

ब्रजेश राजपूत नाम के यूज़र ने लिखा है कि भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा को अक्सर व्हील चेयर पर ही देखा है, मगर कल उन्होंने निजी पंडाल में गरबा भी खेला।

इन वीडियो के आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने तंज कसने शुरू कर दिए। वरिष्ठ पत्रकार साक्षी जोशी ने वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, 'प्रिय न्यायालय, कृपया उन्हें अभी सुनवाई के लिए बुलाएँ। वह इतना फिट दिखती हैं कि अपनी सुनवाई को छोड़ नहीं सकती हैं।'

फैजल पेराज नाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, 'व्हील चेयर' से चिपकी रहने वाली आतंकवाद की आरोपी और बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर भोपाल में गरबा कर रही हैं। एक बार कोर्ट ने उन्हें फिर से समन किया तो वह फिर से अपनी व्हील चेयर पर बैठ जाएंगी।'

इससे पहले वह इसी साल जुलाई में बास्केटबॉल खेलती नज़र आई थीं। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो वायरल हुआ था। उस वक़्त भी लोगों ने उन पर सवाल उठाए थे। 

सोशल मीडिया पर इसलिए उनको निशाने पर लिया जा रहा है कि इससे पहले जब साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अदालत में पेशी पर जाती हुई नज़र आती थीं तो वह व्हील चेयर पर दिखती थीं।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट के मुख्य आरोपियों में से एक हैं। मकोका के आरोपों से साध्वी प्रज्ञा को बरी कर दिया गया था, लेकिन इससे जुड़ा मामला विचाराधीन है। साध्वी प्रज्ञा को स्वास्‍थ्य कारणों के चलते 2017 में बॉम्बे हाईकोर्ट ने जमानत दी थी। तब जमानती आदेश में कहा गया था कि उस दौरान प्रज्ञा ठाकुर ब्रेस्ट कैंसर से जूझ रही थीं और वह चलने में भी असमर्थ थीं। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें
इस साल जनवरी में मुंबई में एनआईए की एक विशेष अदालत ने मालेगांव विस्फोट मामले में प्रज्ञा को अदालत में नियमित रूप से पेश होने से छूट दे दी थी। पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार विशेष अदालत द्वारा प्रज्ञा को छूट दिए जाने से पहले उनके वकील ने कोर्ट से कहा था कि सांसद को स्वास्थ्य और सुरक्षा कारणों से नियमित रूप से अदालत आने में दिक्कत होती है। तब वकील ने कहा था कि प्रज्ञा ठाकुर को कई बीमारियाँ हैं और एम्स में उनका उपचार चल रहा है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें