loader

बंबई हाई कोर्ट : सोनू सूद को कोरोना की दवा कैसे मिली, जाँच करो

पहले लॉकडाउन में फँसे मज़दूरों की मदद करने और उसके बाद कोरोना संक्रमण से पीड़ित लोगों तक दवाएँ पहुँचा कर असली हीरो बनने वाले बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। 

बंबई हाई कोर्ट ने आदेश दिया है कि इस बात की जाँच की जाए कि सोनू सूद और कांग्रेस नेता जीशान सिद्दिक़ी तक कोरोना की दवा रेमडिसिवर कैसे पहुँची। 

हाई कोर्ट ने यह भी कहा कि 'ये लोग दवा असली है या नकली, या वैध है इसको जांचे बिना ख़ुद को एक प्रकार के मसीहा के तौर पर प्रस्तुत करते हैं।'

ख़ास ख़बरें

कैसे मिला रेमडिसिविर?

मझगाँव मेट्रोपोलिटन कोर्ट में बीडीआर फ़ाउंडेशन चैरिटेबल ट्रस्ट और उसके ट्रस्टियों के ख़िलाफ़ एंटी-कोविड दवाई रेमडेसिवीर के सिद्दीक़ी को सप्लाई करने के ख़िलाफ़ एक आपराधिक केस दर्ज किया गया था। 

एडवोकेट जनरल आशुतोष कुंभकोणी ने हाई कोर्ट से कहा कि चैरिटेबल ट्रस्ट के पास इसके लिए ज़रूरी लाइसेंस नहीं था।

एडवोकेट जनरल के बयान के बाद जस्टिस एसपी देशमुख और जस्टिस जीएस कुलकर्णी की पीठ ने महाराष्ट्र सरकार को मामले की जाँच करने का निर्देश दिया है।

कुंभकोणी ने अदालत से कहा कि सिद्दीक़ी के पास जो भी आ रहा था उन लोगों को दवा तक पहुँचने का ज़रिया वे बता रहे थे, इसलिए उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं की गई है।

bombay high court orders probe into sonu sood corona medicine supply - Satya Hindi

उन्होंने कहा कि सोनू सूद को गोरेगाँव के निजी लाइफ़लाइन केयर हॉस्पिटल समेत कई फ़ार्मेसी से यह दवाइयाँ मिली थीं। दवा कंपनी सिप्ला ने इन फ़ार्मेसी को रेमडेसिवीर सप्लाई की थी जिसकी जाँच जारी है।

हाई कोर्ट केंद्र और राज्य सरकार को निर्देश दे चुका है कि वे इसकी जाँच करें कि जब जनता को एंटी-कोरोना वायरस दवाइयां मिलने में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था तो सिलेब्रिटीज़ और राजनेता कैसे दवाई बाँट रहे थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें