loader

अजीत पवार की योजना के बारे में जानते थे शरद पवार: फडणवीस

महाराष्ट्र में भले ही बीजेपी एनसीपी के बाग़ी नेता अजीत पवार के साथ मिलकर सरकार बनाने में विफल रही हो लेकिन वह यह बताने की कोशिश ज़रूर कर रही है कि इसमें उसकी कोई ग़लती नहीं है। बीजेपी नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक टीवी चैनल को दिये इंटरव्यू में कहा है कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए अजीत पवार ने उनसे संपर्क किया था। फडणवीस के मुताबिक़, ‘अजीत पवार ने कहा था कि उनकी इस योजना की उनके चाचा शरद पवार को भी जानकारी थी।’ इंटरव्यू के दौरान फडणवीस ने सिर्फ़ 80 घंटे तक चली अपनी सरकार को लेकर कई मुद्दों पर विस्तार से बात की। 
ताज़ा ख़बरें

ऐसा ही कुछ बयान हाल ही में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी दिया था। शरद पवार ने न्यूज़ चैनल एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में कहा था कि जब महाराष्ट्र में सियासी घमासान चल रहा था तो एक ओर एनसीपी शिवसेना और कांग्रेस से बातचीत कर रही थी, वहीं दूसरी ओर बीजेपी से भी उनकी पार्टी की बातचीत चल रही थी। पवार ने इससे भी बड़ा ख़ुलासा यह किया था कि उन्हें इस बात की जानकारी थी कि उनके भतीजे अजीत पवार की बीजेपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से बातचीत चल रही थी। पवार ने कहा था कि हालाँकि उन्हें इस बात का बिलकुल भरोसा नहीं था कि अजीत पवार इतना बड़ा क़दम उठा लेंगे। 

फडणवीस ने भी ठीक यही बात कहकर इस पर मुहर लगा दी है कि शरद पवार को इस योजना के बारे में जानकारी थी जबकि अजीत पवार की बग़ावत के बाद शरद पवार ने कहा था कि उनका अजीत के फ़ैसले से कोई लेना-देना नहीं है।

फडणवीस ने इंटरव्यू के दौरान कहा, ‘अजीत पवार मेरे पास आए और कहा कि वह कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाना चाहते। अजीत ने यह भी कहा कि इन तीन पार्टियों (कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना) की सरकार स्थायी नहीं होगी। अजीत ने कहा कि वह अपनी इस योजना के बारे में शरद पवार को बता चुके हैं।’ फडणवीस ने आगे कहा, ‘अजीत ने यह भी बताया कि एनसीपी के विधायकों के उनके संपर्क में होने के बारे में शरद पवार को पता था।’ 

फडणवीस ने कहा कि अजीत पवार के साथ उनकी बातचीत कुछ दिन तक चली और एनसीपी के अधिकतर विधायक अजीत के बीजेपी के साथ हाथ मिलाने की योजना के बारे में जानते थे। फडणवीस ने कहा, ‘केवल अजीत पवार ही एनसीपी के ऐसे विधायकों के संपर्क में नहीं थे बल्कि मैंने भी ऐसे कई विधायकों से बात की थी।’  अजीत पवार की बग़ावत के बाद दावा यह किया गया था कि उनके साथ एनसीपी के 22 से ज़्यादा विधायक गए हैं जबकि महज 24-48 घंटे के अंदर ही अधिकांश विधायक शरद पवार के खेमे में वापस आ गए थे।
फडणवीस ने इस बात पर जोर दिया कि अजीत पवार अपनी सहमति से उनके पास आए थे। पूर्व सीएम ने सवाल उठाया, ‘क्या अजीत पवार पर कोई कुछ भी करने के लिए दबाव बना सकता है। वह अपनी इच्छा से आए थे और एनसीपी के कई विधायक उनका समर्थन कर रहे थे।’

यह पूछे जाने पर कि क्या शरद पवार वास्तव में इस डील के बारे में जानते थे। फडणवीस ने कहा, ‘इस बारे में आपको अजीत पवार से पूछना चाहिए। उन्होंने मुझे बताया था कि शरद पवार इस बारे में जानते थे। मैं सिर्फ़ इतना कह सकता हूँ कि पर्दे के पीछे कुछ बातें थीं और सही समय पर इनके बारे में ख़ुलासा करूंगा।’ फडणवीस ने अजीत के साथ शपथ लेने को लेकर अपने फ़ैसले का बचाव किया और कहा कि जब राज्य में राष्ट्रपति शासन हटा लिया गया हो तो नई सरकार के बनने में समय नहीं लगना चाहिए। 

महा विकास अघाडी की सरकार के द्वारा पहले से चल रहे कुछ प्रोजेक्ट्स की समीक्षा किये जाने को लेकर फडणवीस ने कहा कि इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है लेकिन अगर आप एक ऐसा वातावरण बनाएंगे जहां पर बड़े प्रोजेक्ट को रोक दिया जाएगा तो राज्य में बड़े निवेशक कैसे आएंगे।

महाराष्ट्र बीजेपी में वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे और पंकजा मुंडे के असंतुष्ट होने को लेकर पूछे जाने पर फडणवीस ने कहा कि मुंडे ने इस बारे में स्पष्टीकरण दे दिया है। उन्होंने कहा कि इस बारे में मीडिया में बेवजह विवाद खड़ा किया गया है। फडणवीस ने कहा, ‘बीजेपी ने राज्य के ओबीसी समुदाय को सबसे बड़ा प्लेटफ़ॉर्म दिया है। हमारे 105 विधायकों में से 37 विधायक ओबीसी समुदाय से हैं। हमारे प्रधानमंत्री ख़ुद ओबीसी समुदाय से हैं।’ 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

खडसे, पंकजा की नाराजगी की चर्चा

कुछ दिन पहले ही एकनाथ खडसे ने कहा था कि उन्हें और कुछ नेताओं को जानबूझकर चुनाव प्रचार से दूर रखा गया था। उन्होंने यह कहकर भी सनसनी फैला दी थी कि पंकजा मुंडे और उनकी बेटी रोहिणी खडसे की हार के लिए बीजेपी के ही कुछ नेता जिम्मेदार थे और उन्होंने इस बारे में बीजेपी नेतृत्व को बता दिया है। खडसे और पंकजा मुंडे के पिता गोपीनाथ मुंडे का महाराष्ट्र के ओबीसी समुदाय में व्यापक जनाधार रहा है। 

पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया से लेकर अख़बारों और टीवी में इस चर्चा ने जोर पकड़ा था कि पंकजा मुंडे और एकनाथ खडसे बीजेपी का दामन छोड़ सकते हैं। क्योंकि कहा जा रहा था कि पंकजा मुंडे की हार के पीछे कहीं न कहीं देवेंद्र फडणवीस का हाथ हो सकता है। पंकजा को उनके चचेरे भाई धनंजय मुंडे ने हराया है। फडणवीस और अजीत पवार के बीच सरकार बनाने को लेकर जो बातचीत हुई थी उसमें धनजंय मुंडे की अहम भूमिका रही थी और फडणवीस और धनजंय की नजदीकियों की ख़बर ख़ासी चर्चा में रही थी। वैसे भी, पकंजा कहीं न कहीं फडणवीस के लिए राजनीतिक चुनौती पैदा कर सकती थीं, इसलिए सवाल यह उठा था कि क्या पकंजा को चुनाव हरवाने के लिए साज़िश की गयी। वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे के आरोपों के बाद इस तरह की चर्चाओं को बल मिला। 

खडसे का इस बार विधानसभा चुनाव में टिकट काट दिया गया था, हालाँकि बाद में उनकी बेटी को टिकट दिया गया था। खडसेराज्य के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं और वह चुनाव जीतने पर फडणवीस के लिए राजनीतिक चुनौती पेश कर सकते थे, इसलिए यह माना गया कि खडसे का टिकट फडणवीस के इशारे पर काटा गया है। फडणवीस पर यह आरोप लगता रहा है कि अपने 5 साल के कार्यकाल में उन्होंने अपने समकक्ष माने जाने वाले नेताओं का राजनीतिक क़द कम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें