loader

ईडी ने किया कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक को गिरफ़्तार, बोले- मैं नहीं झुकूंगा

ईडी ने डी कंपनी से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और एनसीपी के बड़े नेता नवाब मलिक को बुधवार को गिरफ़्तार कर लिया है। ईडी के अधिकारी बुधवार तड़के नवाब मलिक के घर पर पहुंचे और उनसे डी कंपनी से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जांच में जुड़ने के लिए कहा। इसके बाद ईडी के अधिकारी नवाब मलिक को अपने साथ अपने दफ्तर लेकर चले गए जहां भी उनसे घंटे भर तक पूछताछ की गई।

नवाब मलिक की जेजे अस्पताल में मेडिकल जांच कराई गई है। गिरफ्तारी के बाद मलिक ने कहा है कि वह नहीं झुकेंगे और लड़ेंगे, जीतेंगे और सबको एक्सपोज करेंगे। 

एनसीपी ने किया प्रदर्शन 

मलिक की गिरफ्तारी के बाद एनसीपी ने ईडी दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया है। प्रदर्शन में बड़ी संख्या में एनसीपी के नेता जुटे हैं। एनसीपी नेता और आघाडी सरकार के मंत्री जितेंद्र आह्वाड ने ईडी के इस कदम की निंदा की है और कहा है कि यह विरोध की आवाज को दबाने की कोशिश है। उन्होंने इस कदम को संविधान और लोकतंत्र के खिलाफ बताया है। 

ताज़ा ख़बरें
नवाब मलिक महा विकास आघाडी सरकार के उन नेताओं में से हैं जो केंद्र सरकार के खिलाफ लगातार मुखर रहे हैं। महा विकास आघाडी सरकार के नेता लगातार केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाते रहे हैं। मलिक की गिरफ्तारी के बाद महा विकास आघाडी सरकार के नेता जिस तरह एकजुट हुए हैं उससे ऐसा साफ लगता है कि यह मामला अभी और तूल पकड़ेगा।

नवाब मलिक के घर पर ईडी के पहुंचने और उन्हें अपने दफ्तर ले जाने को लेकर सोशल मीडिया पर एनसीपी और महा विकास आघाडी सरकार में शामिल दलों के नेताओं ने जबरदस्त विरोध जताया है।

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा है कि 2024 के बाद आप की भी जांच होगी इस बात को याद रखना।

महाराष्ट्र से और खबरें

सरकार बनने के बाद से ‘रार’

महाराष्ट्र में जब से महा विकास आघाडी की सरकार बनी है तभी से बीजेपी और आघाडी सरकार के नेता आमने-सामने हैं। खासतौर से बीजेपी और शिवसेना-एनसीपी के बीच बीते 2 सालों में खुलकर जंग हुई है। इस दौरान यह जंग केंद्रीय और राज्य सरकार की एजेंसियों के जरिये भी लड़ी गई है। 

इससे पहले उप मुख्यमंत्री अजीत पवार की संपत्तियों को जब्त करने का मामला हो, एकनाथ खडसे के दामाद की गिरफ्तारी हो या फिर शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत से ईडी की पूछताछ हो या ऐसे कई और मामले, इससे यह सवाल खड़ा होता है कि क्या महा विकास आघाडी सरकार के नेता और उनके परिवार के सदस्य केंद्रीय जांच एजेंसियों के निशाने पर हैं। हालांकि एजेंसियों का साफ कहना है कि वह इस मामले में कानून के अनुसार काम कर रही हैं।  

टीवी पत्रकार अर्णब गोस्वामी और फिल्म अदाकारा कंगना रनौत के द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के खिलाफ बयानबाजी के दौरान भी बीजेपी और महा विकास आघाडी के नेताओं के बीच तलवारें खिंच गई थीं।

महाराष्ट्र में आने वाले कुछ दिनों में कई नगर निगमों और बीएमसी के चुनाव होने वाले हैं और इससे पहले नवाब मलिक की गिरफ्तारी के कारण एक बार फिर बीजेपी और महा विकास आघाडी सरकार के नेता आमने सामने आ गए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें