loader

ईडी के सामने पेश हुईं वर्षा राउत, पीएमसी बैंक मामले में पूछताछ

शिव सेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत सोमवार को ईडी के मुंबई स्थित दफ़्तर में पहुंचीं। ईडी ने उनसे पंजाब-महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ की। ईडी की ओर से वर्षा राउत को पहले तीन बार समन भेजा गया था लेकिन तब वह हाज़िर नहीं हुई थीं। 

वर्षा राउत को पूछताछ के लिए बुलाए जाने पर महाराष्ट्र की सियासत में तूफान खड़ा हो गया था। महा विकास अघाडी सरकार में शामिल तीनों दलों का कहना था कि इस तरह के समन भेजे जाने का मकसद विपक्षी नेताओं को निशाना बनाना है। 

ताज़ा ख़बरें

राउत के समर्थन में उतरी शिव सेना 

शिव सेना अपने मुखर प्रवक्ता संजय राउत के समर्थन में खुलकर उतर आई है। शिव सेना की ओर से डोंबिवली में संजय राउत के समर्थन में पोस्टर लगाए गए हैं। 

पोस्टर्स में ईडी को बीजेपी की कठपुतली बताया गया था। एक पोस्टर में सवाल उठाया गया था कि क्या ईडी ने बीजेपी दफ़्तर में अपना केबिन बना लिया है। शिव सेना नेताओं का कहना है कि केवल वे ही नहीं बल्कि आम लोग भी ऐसा सोचते हैं कि बीजेपी शिव सेना को निशाना बनाने के लिए ईडी का इस्तेमाल कर रही है। 

देखिए, संजय राउत से खास बातचीत- 

ठाकरे सरकार को ख़तरा?

महाराष्ट्र में बीजेपी और शिव सेना के बीच चल रही जोरदार सियासी जंग में वर्षा राउत को समन भेजे जाने के बाद संजय राउत बेहद आक्रामक अंदाज में नज़र आए थे। राउत ने कहा था कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार को अस्थिर करने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। 

राउत ने कहा था कि बीजेपी नेताओं के पास कांग्रेस-एनसीपी के 22 विधायकों की लिस्ट है, जिन्हें केंद्रीय जांच एजेंसियों के दबाव में इस्तीफ़ा देने के लिए मजबूर किया जाएगा। 

उन्होंने कहा था कि पिछले एक साल से बीजेपी के नेता उनसे संपर्क कर कह रहे हैं कि उन्होंने महाराष्ट्र सरकार को गिराने की सारी तैयारी कर ली है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

राउत ने कहा था कि उनके पास बीजेपी के नेताओं की फ़ाइल है जिसमें 121 नेताओं के नाम हैं और वे जल्द ही इसे ईडी को देंगे। 

शिव सेना सांसद ने कहा था, ‘मेरी पत्नी शिक्षिका है और 10 साल पहले उन्होंने अपने दोस्त से 50 लाख रुपये का कर्ज लिया था। हमने इस कर्ज को छुपाया नहीं है और राज्यसभा के एफ़िडेविट में दिखाया है।’ राउत ने पूछा कि इसमें बीजेपी और ईडी को क्या तकलीफ है। 

राउत ने हमलावर अंदाज में कहा था, ‘बीजेपी में ऐसे बड़े सूरमा बैठे हैं, अगर मैं उनके परिवार तक पहुंचा तो उनको देश छोड़कर भागना पड़ेगा। नीरव मोदी और विजय माल्या के साथ बीजेपी की पूरी पलटन लंदन में खड़ी हो जाएगी।’ उन्होंने कहा था कि बीजेपी उनसे पंगा न ले।

ed questioned to Varsha raut  - Satya Hindi

ईडी ने अक्टूबर, 2019 में पीएमसी बैंक में हुए कथित लोन फर्जीवाड़े का मामले में हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) के प्रमोटर्स राकेश कुमार वधावन, उनके बेटे सारंग वधावन, पूर्व चेयरमैन वरयाम सिंह और पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर जॉय थॉमस के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया था। 

इस मामले में ईडी ने मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा की ओर से दर्ज एफ़आईआर का संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की थी। एफ़आईआर में कहा गया था कि पीएमसी बैंक को 4,355 करोड़ का नुक़सान हुआ है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें