loader

उद्धव गुट के खिलाफ कार्रवाई नहीं चाहता बीजेपी-शिंदे गुट 

एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद महाराष्ट्र में पैदा हुआ सियासी तूफान अब शांत हो सकता है। इस बात के संकेत मिल रहे हैं कि बीजेपी और एकनाथ शिंदे गुट उद्धव ठाकरे कैंप के 15 विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की कार्रवाई के मामले में नरम रुख अपना रहा है। 

एकनाथ शिंदे गुट के चीफ व्हिप भरत गोगावले ने विधानसभा के स्पीकर राहुल नार्वेकर के सामने अर्जी दी है जिसमें शिवसेना के 15 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की मांग की गई है। 

गोगावले ने अपनी याचिका में कहा है कि इन विधायकों ने विधानसभा स्पीकर के चुनाव में उनके द्वारा जारी किए गए व्हिप का उल्लंघन किया था जिसके चलते इन सभी विधायकों की सदस्यता रद्द की जाए।

ताज़ा ख़बरें

चीफ व्हिप भरत गोगावले ने कहा था कि पार्टी के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे के प्रति सम्मान की वजह से आदित्य ठाकरे के नाम को इस सूची से बाहर रखा गया था। उन्होंने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को यह जानकारी दी।

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बीजेपी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने कहा है कि पार्टी इस मामले में युद्ध विराम चाहती है जिससे विधानसभा की कार्यवाही आसानी से चल सके।

हालांकि स्पीकर का चुनाव और फ्लोर टेस्ट जीतकर बीजेपी-एकनाथ शिंदे के गुट ने अपनी ताकत दिखा दी है। लेकिन उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस चाहते हैं कि इस लड़ाई को आगे ना खींचा जाए और इसे यहीं विराम दिया जाए।

Eknath Shinde disqualification of the 15 Shiv Sena MLAs - Satya Hindi

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, महाराष्ट्र बीजेपी के बड़े नेताओं की बैठक में सर्वसम्मति से यह फैसला लिया गया है कि शिवसेना के भीतर हुई इस बगावत को अब खत्म किया जाए और आने वाले चुनावों में उद्धव ठाकरे गुट से लड़ाई पर ध्यान लगाया जाए।

जवाबी पलटवार का डर 

बीजेपी-शिंदे गुट इस मामले में इसलिए भी नरम होना चाहता है क्योंकि अगर शिवसेना के 15 विधायकों के खिलाफ स्पीकर अयोग्यता की कार्यवाही करते हैं तो इसकी जवाबी प्रतिक्रिया हो सकती है और यह संदेश जाएगा कि बीजेपी शिवसेना को खत्म करने की कोशिश कर रही है।

फ्लोर टेस्ट जीतने के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अपने भाषण में कहा कि वह बदले की राजनीति में भरोसा नहीं करते हैं।

महाराष्ट्र से और खबरें

सुप्रीम कोर्ट पर नजर 

दूसरी ओर, उद्धव ठाकरे का गुट इस मामले में 12 जुलाई को आने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहा है। उद्धव ठाकरे के गुट ने एकनाथ शिंदे के साथ गए विधायकों को अयोग्य ठहराने की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में लगाई है।

सोमवार को हुए फ्लोर टेस्ट के दौरान यह बात देखने को मिली कि उद्धव गुट के विधायकों ने खुलकर विरोध नहीं किया और इससे फ्लोर टेस्ट की प्रक्रिया आसानी से हो सकी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें