loader

एफ़आईआर रद्द कराने के लिए कंगना हाई कोर्ट की शरण में

सांप्रदायिक नफ़रत फैलाने के आरोपों में एफ़आईआर का सामना कर रहीं अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल सोमवार को बॉम्बे हाई कोर्ट की शरण में पहुँची हैं। उन्होंने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर एफ़आईआर को रद्द कराने की माँग की है। सोशल मीडिया पोस्ट के माध्यम से नफ़रत फैलाने का आरोप दोनों बहनों पर लगा है और इस मामले में पुलिस ने उन्हें पेश होने के लिए समन भेजा है। 

कोर्ट में दायर की गई याचिका में दोनों बहनों ने अपील की है कि पूछताछ के लिए पुलिस के सामने पेश होने के लिए जारी किए गए समन पर स्टे लगाया जाए। कंगना की तरफ़ से पैरवी कर रहे वकील रिज़वान सिद्दिकी ने अदालत से आग्रह किया है कि वह ऐसा निर्देश जारी करे कि पुलिस उनके मुवक्किल के ख़िलाफ़ कोई बलपूर्वक कार्रवाई नहीं करे। 

ख़ास ख़बरें

मुंबई की एक अदालत के निर्देश पर ही रनौत बहनों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की गई थी। इसकी शिकायत कास्टिंग डायरेक्टर साहिल अशरफ़ अली सैयद ने की थी। कोर्ट ने 17 अक्टूबर को मुंबई पुलिस को निर्देश दिया था कि वह कथित रूप से सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश के लिए रानौत और चंदेल के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज करे। 

सैयद ने याचिका में कहा है कि कंगना हिंदू और मुसलिम कलाकारों के बीच दरार डाल रही हैं और अपने लगभग सभी ट्वीट्स में दुर्भावना से धर्म को ज़रूर लाती हैं। याचिका में उन्होंने कंगना के महाराष्ट्र के पालघर में हिंदू साधुओं की हत्या से लेकर मुंबई के अपने ऑफ़िस में अवैध निर्माण को तोड़ने वाली बीएमसी की टीम को बाबर की सेना बताने वाली टिप्पणियों का ज़िक्र किया। 
याचिकाकर्ता में माँग की थी कि कंगना और उनकी बहन के ख़िलाफ़ दुश्मनी को बढ़ावा देने और देशद्रोह की धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया जाए।

सैयद ने याचिका में कहा था कि कंगना ने बॉलीवुड इंडस्ट्री को भाई-भतीजावाद से भरी, ड्रग्स के आदियों और सांप्रदायिक रूप से पक्षपाती लोगों वाली जगह बताया था। याचिका में उन्होंने कहा था कि कंगना की बहन ने भी सोशल मीडिया पर ऐसी टिप्पणियाँ की थीं जिससे दो धर्मों के लोगों के बीच सांप्रदायिक तनाव बढ़ता हो। 

कोर्ट के निर्देश के बाद दोनों के ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया था। 

वीडियो में देखिए, कंगना में इतनी हिम्मत की ठाकरे को ललकार सकें?

बता दें कि दोनों बहनों के ख़िलाफ़ कई और मामलों में केस दर्ज किया गया है। एक मामले में मुंबई की एक अदालत ने 29 अक्टूबर को यह जाँच करने का आदेश दिया था कि उन्होंने मुसलिमों के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक ट्वीट किया था। इस मामले में कोर्ट में एक वकील अली कासिफ ख़ान द्वारा याचिका दायर की गई थी। 

उनके ख़िलाफ़ एक और केस कर्नाटक में दर्ज कराया गया है। कंगना के ख़िलफ़ यह केस उनके इस बयान के लिए दर्ज कराया गया कि उन्होंने केंद्र सरकार के कृषि क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले किसानों को कथित रूप से आतंकवादी कहा था।

kangana ranaut pleads bombay hc to quash fir for alleged hate post - Satya Hindi

गीतकार जावेद अख्तर ने भी इसी महीने 3 नवंबर को कंगना के ख़िलाफ़ आपराधिक मानहानि का मामला दर्ज कराया था। कंगना ने जुलाई महीने में रिपब्लिक टीवी पर एक इंटरव्यू में सुशांत सिंह राजपूत की मौत का ज़िक्र करते हुए कहा था कि जावेद अख्तर 'सुसाइड गैंग' के सदस्य हैं। उन्होंने यह भी कहा था, 'वह मुंबई में कुछ भी करा सकते हैं।'

बता दें कि सुशांत राजपूत की मौत के मामले में कंगना अक्सर खुलकर बोलती रही हैं। उन्होंने कई विवादास्पद बयान दिए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें