loader

कंगना रनौत का आरोप, उनके प्रोडक्शन हाउस में बीएमसी के अधिकारी घुसे

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर महाराष्ट्र में सत्ताधारी पार्टी शिवसेना और फ़िल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के बीच शुरू हुआ विवाद अब नये स्तर पर पहुँच गया है। कंगना रनौत ने आरोप लगाया है कि मुंबई स्थित उनके कार्यालय मणिकर्णिका फ़िल्म कार्यालय में बीएमसी यानी बृह्नमुंबई महानगरपालिका के अधिकारी ज़बरदस्ती घुस गए हैं और उनके पड़ोसियों को परेशान कर रहे हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उनको पता चला है कि अधिकारी उनके प्रोडक्शन हाउस को कल ढहाना चाहते हैं। हालाँकि ढहाने के बारे में बीएमसी के अधिकारियों ने कुछ नहीं कहा है, लेकिन इतना ज़रूर कहा है कि उनके भवन को अवैध तरीक़े से विस्तार दिया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

बीएमसी अधिकारियों के अनुसार, उस भवन में कुछ हिस्से को अवैध तरीक़े से बनाया गया है जिसकी अनुमति नहीं है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, अधिकारियों ने कहा कि प्रस्तावित प्लान के अनुसार ही भवन है या नहीं, इसी की जाँच के लिए वे वहाँ पहुँचे। हालाँकि यह साफ़ नहीं है कि अवैध निर्माण की किसी ने हाल में शिकायत की है या ऐसी शिकायत पहले से ही पड़ी हुई थी। 

बीएमसी की इस कार्रवाई के बाद ही कंगना रनौत ने कई आरोप लगाए। उन्होंने एक वीडियो के साथ ट्वीट कर कहा, 'ये मुंबई में मणिकर्णिका फ़िल्म्स का ऑफ़िस है, जिसे मैंने पंद्रह साल मेहनत कर के कमाया है, मेरा ज़िंदगी में एक ही सपना था मैं जब भी फ़िल्म निर्माता बनूँ मेरा अपना ख़ुद का ऑफ़िस हो, मगर लगता है ये सपना टूटने का वक़्त आ गया है, आज वहाँ अचानक बीएमसी के कुछ लोग आए हैं।'

उन्होंने एक दूसरे वीडियो के साथ एक अन्य ट्वीट में भी आरोप लगाए। उन्होंने ट्वीट में लिखा, "उन्होंने जबरदस्ती मेरे कार्यालय को अपने कब्जे में ले लिया है, वे मेरे पड़ोसियों को भी परेशान कर रहे हैं, जब उन्होंने बीएमसी के अधिकारियों को रोकने का प्रयास किया तो उन्होंने ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया- 'वो जो मैडम है उसकी करतूत का परिणाम सबको भरना होगा'। मुझे बताया गया गया है कि वे मेरी संपत्ति को ध्वस्त कर देंगे।"

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में आरोप लगाया, 'मेरे पास सभी कागजात हैं, बीएमसी की अनुमति है, मेरी संपत्ति में कुछ भी अवैध नहीं है, बीएमसी को नोटिस के साथ अवैध निर्माण को दिखाने वाला स्ट्रक्चर प्लान भेजना चाहिए, आज उन्होंने मेरी जगह पर छापा मारा और कल बिना किसी नोटिस के वे पूरी संरचना को ध्वस्त कर देंगे।'

बता दें कि हाल के दिनों में शिवसेना के नेता और कंगना रनौत के बीच ज़ुबानी जंग शुरू हो गई है। इसकी शुरुआत सुशांत सिंह मौत के मामले में भाई-भतीजावाद, ड्रग्स जैसे आरोप लगाने से हुई थी लेकिन बात महाराष्ट्र में क़ानून-व्यवस्था तक पहुँच गई। कंगना ने कहा दिया कि उन्हें महाराष्ट्र में डर लगता है। इसके बाद शिवसेना आमने-सामने आ गई। 

इस बीच कंगना ने मुंबई की तुलना 'पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर' से कर दी। इस पर शिवसेना नेता संजय राउत ने जवाब दिया कि  जो लोग इस तरह के आरोप लगा रहे हैं उन्होंने मुंबई और हमारी आराध्य मुम्बा देवी का अपमान किया है। शिवसेना प्रवक्ता ने कहा कि शिवसेना महिलाओं के सम्मान के लिए लड़ती रहेगी और यही हमें शिवसेना सुप्रीमो ने सिखाया है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

इसी को लेकर संजय राउत ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा था कि क्या कंगना रनौत की हिम्मत है कि वह अहमदाबाद को 'मिनी पाकिस्तान' बोल सकती हैं, इस पर बीजेपी ने कहा है कि राउत को गुजरात और अहमदाबाद के लोगों से माफ़ी मांगनी चाहिए। गुजरात बीजेपी के प्रवक्ता भरत पांड्या ने कहा है कि राउत ने ऐसा बयान देकर गुजरात का अपमान किया है।

हालाँकि इस बीच ख़बर है कि कंगना रनौत को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सोमवार को वाई श्रेणी की सुरक्षा उपलब्ध कराई है। रिपोर्टों में कहा गया है कि कंगना ने बॉलीवुड में ड्रग्स को लेकर जो बोला है इससे उनकी सुरक्षा को ख़तरा है। हालाँकि अभी यह जानकारी सूत्रों के हवाले से ही है। लेकिन कंगना ने इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का आभार जताया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें