loader

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही गुवाहाटी से चलेंगे बागी विधायक

गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में ठहरे शिवसेना के बागी विधायकों के यहां से निकलने के कार्यक्रम में बदलाव हुआ है। पहले कार्यक्रम यह था कि सभी बागी विधायक कामाख्या मंदिर में दर्शन के बाद गोवा जाएंगे और वहां से गुरुवार सुबह मुंबई पहुंचेंगे। लेकिन सूत्रों के मुताबिक फ्लोर टेस्ट के मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार किया जा रहा है और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही एकनाथ शिंदे और बागी विधायक गोवा के लिए रवाना होंगे।

उधर, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार शाम को 5 बजे एक बार फिर महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक बुलाई है। उद्धव ने मंगलवार को भी कैबिनेट की बैठक बुलाई थी और सुप्रीम कोर्ट अगर फ्लोर टेस्ट को लेकर राज्यपाल के आदेश पर रोक नहीं लगाता है तो महा विकास आघाडी सरकार को फ्लोर टेस्ट का सामना करना होगा।

बता दें कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उद्धव सरकार को 30 जून की शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट कराए जाने का आदेश दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

बस, प्लेन तैयार 

विधायकों के गुवाहाटी से निकलने के लिए रेडिसन ब्लू होटल के बाहर बसों को स्टैंडबाई मोड में रखा गया है और इसके साथ ही एक चार्टर प्लेन भी तैयार है जो विधायकों को गोवा लेकर जाएगा।

70 कमरे बुक 

महाराष्ट्र में बीते हफ्ते शुरू हुई बगावत के बाद शिवसेना के बागी विधायक और कुछ निर्दलीय विधायक पहले गुजरात के सूरत पहुंचे थे जहां से उन्हें गुवाहाटी के होटल में लाया गया था। खबरों के मुताबिक, गोवा के ताज रिजॉर्ट में विधायकों के रहने के लिए 70 कमरों को बुक किया गया है। 

यहां यह बताना बेहद जरूरी है कि गुजरात, गोवा और असम तीनों ही राज्यों में बीजेपी की सरकार है और शिवसेना बार-बार कहती रही है कि उसकी पार्टी के अंदर हुई बगावत के पीछे बीजेपी का ही हाथ है।

गोवा मुंबई के नजदीक है इसलिए गुरुवार को महाराष्ट्र की विधानसभा में अगर फ्लोर टेस्ट होता है तो विधायकों को गोवा से मुंबई पहुंचने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। माना जा रहा है कि विधायकों को सीधे महाराष्ट्र की विधानसभा ले जाया जाएगा।

महाराष्ट्र से और खबरें

सभी की नजरें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी हुई हैं और एनसीपी के नेता नवाब मलिक और अनिल देशमुख भी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हैं और उन्होंने फ्लोर टेस्ट में वोट डालने देने की मांग की है। इससे पहले दोनों ही नेताओं को राज्यसभा और विधान परिषद के चुनाव में वोट डालने का अधिकार नहीं मिला था। 

मुंबई में सुरक्षा कड़ी 

फ्लोर टेस्ट को देखते हुए मुंबई में भी सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी की गई है क्योंकि विधानसभा, शिवसेना भवन के आसपास मीडिया कर्मियों का जमावड़ा है और बीते दिनों में शिवसेना के बागी विधायकों के घरों और दफ्तरों पर हमला भी हुआ है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें